बच्चे को बचाने के लिए 15 मिनट तक तेंदुए से लड़ता रहा यह पिता

बच्चे को बचाने के लिए 15 मिनट तक तेंदुए से लड़ता रहा यह पिता
Leopard

Shatrudhan Gupta | Updated: 13 Dec 2017, 10:08:43 PM (IST) Lucknow, Uttar Pradesh, India

बच्चे पर तेंदुए की निगाह देख पिता सामने आ गया और वह आदमखोर तेंदुए से भिड़़ गया।

बहराइच. औलाद पर संकट आता देख पिता ने जान की परवाह किए बगैर एक आदमखोर तेंदुए से जा भिड़ा। जी हां, यह सच है। थाना राम गांव के रेहुआमंसूर गांव में एक पिता अपने बच्चे को बचाने के लिए 15 मिनट तक आदमखोर तेंदुए से लड़ता रहा। तेंदुए से हुई भिड़ंत में पिता बुरी तरह घायल हो गया। उसे गंभीर अवस्था में जिला अस्पताल में भर्ती करवाया गया है। वन विभाग ने गांव में पिंजरा लगा कर गश्त तेज कर दिया है, ताकि वो आदमखोर तेंदुए को पकड़ सकें। फिलहाल गांव में तेंदुए की दहशत बनी हुई है।

बकरी पर मारा झप्पटा

औलाद के लिए मां-बाप क्या कुछ नहीं करते अगर बात बच्चे की जिन्दगी की हो, तो पिता मौत के भी सामने खड़ा होने से परहेज नहीं करता। इसका जीता जागता उदाहरण बुधवार को उस वक्त देखने को मिला जब एक आदमखोर तेंदुए ने एक बच्चे पर हमला करने की कोशिश की। बच्चे पर तेंदुए की निगाह देख पिता सामने आ गया और वह आदमखोर तेंदुए से भिड़़ गया। तेंदुआ और उसमें करीब 15 मिनट तक उठापटक चलती रही। अंतत: तेंदुए को वहां से भागना पड़ा।

मुंह और पैरों पर कई वार किए

जानकारी के मुताबिक बीती रात गांव के कुनउ अपने कच्चे मकान में सो रहे थे, तभी तेंदुआ घर में घुस आया और बकरी पर झपट पड़ा। बकरी के चीखने की आवाज सुन नींद से जागे कुनउ को लगा की तेंदुए ने उनके एक वर्षीय बेटे को दबोच लिया है, जो आंगन में ही पड़ी चारपाई पर सोया हुआ था। फिर क्या था अंजाम की परवाह किए बिना ये पिता उस आदमखोर तेंदुए से जा भिड़ा। करीब 15 मिनट तक उसने तेंदुए से संघर्ष किया, जिसमें तेंदुए ने उसके मुंह और पैरों पर कई वार किए। चीख पुकार सुनकर गांव वाले जब तक आते तेंदुआ पिता को घायल कर जंगल की ओर भाग गया। इसमें कुनउ को पूरे शरीर में चोटें आई हैं।

तेंदुए के आतंक से लोगोंं में दहशत

आपको बता दें कि इस इलाके में तेंदुए का आतंक लगातार बढ़ रहा है। कुछ महीने पहले ही इसी गांव से वन विभाग ने एक मादा तेंदुआ और एक शावक को पकड़ा था। दोबारा हुए तेंदुए के हमले से ग्रामीण दहशत में हैं। घटना की जानकारी देते हुए रेंजर ने बताया की तेंदुए को पकडऩे के लिए पिंजरे लगा दिए गए हैं और उसको दबोचने के पूरे प्रयास किए जा रहे हैं।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned