चंबल के डाकू का लाइव एनकाउंटर करने वाले एसपी ने थामी बहराइच की कमान

चंबल के डाकू का लाइव एनकाउंटर करने वाले एसपी ने थामी बहराइच की कमान
IPS Jugal Kishore Tiwari

Shatrudhan Gupta | Publish: Sep, 24 2017 10:16:09 PM (IST) | Updated: Sep, 24 2017 10:16:55 PM (IST) Lucknow, Uttar Pradesh, India

योगी सरकार ने महोबा जिले के मूल निवासी और 2009 बैच के आईपीएस अफसर जुगल किशोर तिवारी को बहराइच जिले का एसपी बनाया है।

बहराइच. दुर्गा पूजा और मोहर्रम जैसे दो अति संवेदनशील त्यौहारों के सीजन में अचानक हुए आईपीएस अफसरों के फेरबदल की प्रक्रिया में भारत-नेपाल बार्डर के जिले बहराइच की संवेदनशीलता को भांपते हुए योगी सरकार ने महोबा जिले के मूल निवासी और 2009 बैच के आईपीएस अफसर जुगल किशोर तिवारी को बहराइच जिले का एसपी बनाया है। इस आईपीएस अफसर ने बहराइच जिले की कमान संभालते ही मीडिया से मुखातिब होकर सबसे पहले जनपद में फैले अराजक तत्वों के लिए साफ तौर पर ये संदेश दिया कि जिले की सीमा में अपराधियों का राज किसी कीमत पर नहीं चलने दिया जाएगा।

'परित्राणाय साधूनाम् एविनाशाय च दुष्कृताम्Ó का सन्देश देकर अपराधियों को सबक सिखाने का मैसेज भी बहराइच के नए एसपी ने जारी किया। एसपी जुगुल किशोर तिवारी ने बताया की वो गाजीपुर, बांदा, वाराणसी, इलाहाबाद, लखनऊ और चित्रकूट जैसे कई जिले की सेवा करने के बाद बहराइच जिले में बतौर एसपी तैनात हुए हैं। आप को बता दें की ये वही बहादुर पुलिस आफिसर हैं, जिसके नेतृत्व में चित्रकूट जनपद में फैले पाठा के घने जंगलों में विगत 16 जून 2009 को चली तीन दिनों तक दुर्दांत डकैत घनश्याम केवट के लाइव इनकाउंटर की कार्रवाई में मुख्य भूमिका अदा की थी। इस कार्रवाई का नतीजा रहा की जब तक जुगुल किशोर तिवारी चित्रकूट में तैनात रहे, तब तक उस इलाके में सारे डकैत अपनी मांद में दुबके रहे। यही नहीं, 2007 में बतौर एएसपी रहते दर्जनों मामलों में वांछित चल रहे माफिया व सांसद अतीक अहमद के इलाहाबाद में स्थित मकान से लेकर सांसद आवास दिल्ली के सरकारी मकान के अंदर लगी नल की टोंटी से लेकर चौखट बाजू तक उखड़वा कर थाने में जमा करा दिया था। वो सारा सामान आज भी संसद मार्ग थाने के मालखाने में जमा है। जिले का कार्यभार ग्रहण करते ही एसपी जुगुल किशोर तिवारी ने कहा कि लाइन आर्डर मेरी पहली प्राथमिकता है। महिलाओं के साथ छेडख़ानी करने वालों के खिलाफ भी हल्की धाराओं में नहीं, बल्कि एनएसए जैसी संगीन धाराओं में शख्त कार्रवाई की जाएगी। मीडिया से पहली बार मुखातिब हुए एसपी जुगल किशोर तिवारी ने बताया की दीर्घकालीन सराहनीय पुलिस सेवा के लिए राष्ट्रपति पदक के साथ ही श्री मद् भागवत गीता का भारत में हिंदी में पद्म अनुवाद करने वाले इस आईपीएस अफसर को साहित्य रत्न पुरस्कार से भी नवाजा जा चुका है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned