दिव्यांग नातियों के साथ सो रहा था नाना, आधी रात को मची चीख पुकार

वो रात में परिवार के साथ खाना खाकर दोनों दिव्यांग नातियों के साथ जमीन पर बिस्तर कर सो गया, लेकिन आधी रात को हुआ कुछ ऐसा कि मच गई चीख पुकार...

By: Shailendra Sharma

Published: 29 Jun 2020, 03:56 PM IST

बालाघाट. बालाघाट जिले के वारासिवनी के बोटेझरी गांव में हुई एक दर्दनाक घटना के बाद मातम का माहौल है। यहां एक ही परिवार के तीन सदस्यों की अकाल मौत हो गई। मृतकों में 60 साल का बुजुर्ग दाहिला मेश्राम और उसके दो दिव्यांग नाती राजेश उम्र 15 साल और अशोक मौजे उम्र 8 शामिल हैं। सोते वक्त तीनों को किसी जहरीले सांप ने डंस लिया जिससे उनकी मौके पर ही मौत हो गई।

 

जहरीले सांप ने ली 3 जिंदगियां
परिजन के मुताबिक बुजुर्ग दाहिला मेश्राम और दोनों दिव्यांग रात में खाना खाकर जमीन पर ही बिस्तर कर सो रहे थे इसी दौरान अचानक रात को तीनों के चीखने की आवाज आई। चीखने की आवाज सुनकर मृतक दाहिजा की पत्नी नायवन्ता और उसकी बेटी आशा की नींद खुली तो उन्होंने देखा कि जमीन पर सो रहे तीनों लोग बुरी तरह तड़प रहे हैं। किसी जहरीले सांप के काटने की अंदेशा के चलते उन्होंने पहले तो पड़ोसियों को आवाज लगाई और फिर गांव में ही झाड़फूंक करने वाले एक ओझा को बुलवा लिया। काफी देर तक झाड़फू्ंक के बाद भी जब कोई फायदा नहीं हुआ तो डॉक्टर को बुलवाया लेकिन तब तक तीनों की मौत हो चुकी थी।

दिव्यांग थे दोनों बच्चे
मृतक की पत्नी नायवन्ता ने बताया कि पति के साथ सो रहे दोनों बच्चे उसके नाती थे और बचपन से ही दिव्यांग थे। बेटी आशा के साथ दोनों बच्चे बीते 5 साल से उनके साथ ही रहते थे। दिव्यांग बच्चे चल फिर भी नहीं पाते थे। घटना की सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंचे और तीनों के शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेजा। पोस्टमार्टम के बाद तीनों के शव परिजन को सौंप दिए गए हैं। घटना के बाद पूरे गांव में मातम पसरा हुआ है।

झाड़फूंक के चक्कर में न फंसते हुए अगर वक्त पर तीनों को अस्पताल ले जाया जाता या फिर डॉक्टर को ही पहले बुलवा लिया जाता तो हो सकता था कि उनकी जान बच जाती।

Shailendra Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned