6000 रुपए रिश्वत लेते रंगे हाथ पकड़ाया लिपिक. सहायक अध्यापक से की थी राशि की मांग

जिला पंचायत शिक्षा प्रकोष्ठ विभाग में पदस्थ लिपिक प्रमोद घोड़ेश्वर को 6000 रुपए रिश्वत लेते लोकायुक्त पुलिस ने रंगे हाथ पकड़ा।

By: mahesh doune

Published: 10 Apr 2019, 05:45 PM IST

बालाघाट. जिला पंचायत शिक्षा प्रकोष्ठ विभाग में पदस्थ लिपिक प्रमोद घोड़ेश्वर को 6000 रुपए रिश्वत लेते लोकायुक्त पुलिस ने रंगे हाथ पकड़ा। सहायक ग्रेड तीन प्रमोद द्वारा शासकीय प्राथमिक स्कूल मर्री कन्या संकुल हट्टा में पदस्थ सहायक अध्यापक जयप्रकाश गेड़ाम से निलंबन अवधि के वेतन अंतर की राशि आदेश पारित करने के लिए 10000 रुपए के रिश्वत की मांग की गई थी। जिसकी शिकायत जयप्रकाश द्वारा लोकायुक्त टीम जबलपुर को दी गई थी। शिकायत पर योजनानुसार 10 अप्रैल को दोपहर 2 बजे जयप्रकाश द्वारा लिपिक घोड़ेश्वर को कार्यालय में ले जाकर 6000 रुपए की राशि दी गई तभी लोकायुक्त पुलिस ने लिपिक को रिश्वत लेते रंगे हाथ पकड़ लिया।
इस संबंध में शिकायतकर्ता सहायक अध्यापक जयप्रकाश ने बताया कि 24 मई 2016 को मुझे निलंबन किया गया था। जिसके बाद 6 जनवरी 2018 को बहाल कर दिया गया। निलंबन अवधि के वेतन अंतर की राशि का संकुल प्राचार्य को आदेश पारित करने के लिए जिला पंचायत शिक्षा प्रकोष्ठ विभाग द्वारा घुमाया जा रहा था। शिक्षा प्रकोष्ठ में पदस्थ लिपिक प्रमोद घोड़ेश्वर द्वारा आदेश पारित कराने राशि की मांग की गई। जिससे पूर्व में मेरे द्वारा लिपिक घोड़ेश्वर को 11000 रुपए की राशि दी गई। इसके बावजूद आदेश पारित कराने 10000 रुपए की मांग की गई। जिसकी शिकायत लोकायुक्त पुलिस को दी और 10 अप्रैल को 6000 रुपए की राशि लेते हुए लिपिक को लोकायुक्त टीम द्वारा पकड़ा गया।
इनका कहना है
सहायक अध्यापक गेड़ाम ने लिपिक घोड़ेश्वर द्वारा निलंबन अवधि वेतन अंतर की राशि देने संकुल प्राचार्य को आदेश पारित कराने राशि की मांग की गई थी। लिपिक को 6000 रुपए रिश्वत लेते पकड़ा गया।
दिलीप झरवड़े, डीएसपी लोकायुक्त पुलिस

mahesh doune
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned