रेत के अवैध भंडारण मामले में 88 लाख 68 हजार 750 रुपए का जुर्माना

कलेक्टर ने दो लोगों पर लगाया जुर्माना

By: Bhaneshwar sakure

Published: 19 Mar 2021, 08:59 PM IST

बालाघाट. गौण खनिज के अवैध भंडारण मामले में प्रशासन ने बड़ी कार्रवाई की है। बगैर अनुमति के रेत का भंडारण करने पर कलेक्टर बालाघाट ने दो व्यक्तियों पर ८८ लाख रुपए से अधिक का जुर्माना लगाया है। इसके पूर्व अभी तक प्रशासन द्वारा रेत के अवैध भंडारण मामले में अभी तक इतनी बड़ी राशि का जुर्माना नहीं लगाया गया था। कलेक्टर दीपक आर्य ने मध्यप्रदेश खनिज अधिनियम के अंतर्गत कार्रवाई करते हुए दो व्यक्तियों पर 88 लाख 68 हजार 750 रुपए का जुर्माना लगाया है। जुर्माने की यह राशि चालान के माध्यम से शासन के खाते में शीघ्र जमा कराने के निर्देश दिए गए है।
जानकारी के अनुसार तिरोड़ी तहसीलदार द्वारा ग्राम आंजनबिहरी में ज्ञानीराम पिता ढाडू मानेश्वर के स्वामित्व वाली खसरा नंबर 307/2 के 1.214 हेक्टेयर रकबे में 1275 घन मीटर रेत का अवैध भंडारण पाए जाने पर उसे जब्त कर लिया गया था। रेत का अवैध रूप से भंडारण ग्राम आंजनबिहरी के ही दीपक पिता प्रकाश पुष्पतोड़े द्वारा किया गया था। इसी प्रकार बालाघाट तहसीलदार द्वारा ग्राम भटेरा में भोरसिंह पिता तिलकसिंह मोहारे के स्वामित्व वाली खसरा नंबर 247/5/1/1/5 व 248/2ख/1/1/5 के 0.025 हेक्टेयर रकबे में भोरसिंह मोहारे द्वारा अवैध रूप से 150 घनमीटर रेत का भंडारण करके रखा गया था। इस पर मध्यप्रदेश खनिज अधिनियम के अंतर्गत प्रकरण दर्ज कर कार्रवाई के लिए कलेक्टर न्यायालय में प्रस्तुत किया गया था।
कलेक्टर न्यायालय में इन दोनों प्रकरणों की सुनवाई के दौरान दोनों पक्षों को सुना गया। सुनवाई के दौरान पाया गया कि दोनों प्रकरण में प्रस्तुत तथ्यों के अनुसार दीपक पिता प्रकाश पुष्पतोड़े व भोरसिंह मोहारे द्वारा अवैध रूप से रेत का भंडारण किया गया है और मध्यप्रदेश खनिज अधिनियम का उल्लंघन किया गया है। इन दोनों प्रकरणों की सुनवाई के बाद कलेक्टर दीपक आर्य ने मध्यप्रदेश खनिज अधिनियम के अंतर्गत कार्रवाई करते हुए ग्राम आंजनबिहरी के दीपक पिता प्रकाश पुष्पतोड़े पर 79 लाख 68 हजार 650 रुपए का जुर्माना लगाया है। इसी प्रकार ग्राम भटेरा के भोरसिंह मोहारे पर 9 लाख रुपए का जुर्माना लगाया है। इन दोनों व्यक्तियों को जुर्माने की यह राशि शीघ्र चालान के माध्यम से शासन के खाते में जमा कराने कहा गया है।
उल्लेखनीय है कि प्रशासन द्वारा जुर्माने की कार्रवाई तो की जाती है। बावजूद इसके गौण खनिज के अवैध खनन, भंडारण व परिवहन मामले में मुख्य सरगना पर कोई कार्रवाई नहीं हो पाती है। जिसके चलते यह अवैध कारोबार बड़े पैमाने में फलफूल रहा है। सूत्रो से मिली जानकारी के अनुसार अवैध भंडारण की जब्ती बनाकर उसे नीलामी की प्रक्रिया में लेकर काले कारोबार को अंजाम दिया जाता है। इस काले कारोबार से प्रशासन को ही लाखों रुपए के राजस्व की क्षति होती है।

Bhaneshwar sakure Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned