लगभग 7 लाख का गन्ना जलकर स्वाहा

बिजली के तारों में शार्ट सर्किट से लगी आग-
किसानों ने प्रशासन से लगाई मुआवजे की गुहार-


बोनकट्टा/तिरोड़ी। थाना मुख्यालय से करीब 15 किमी. दूर ग्राम पुलपुट्टा में बिजली के तारों में शार्ट सर्किट होने की वजह से 4 एकड़ में लगी करीब 7 लाख रुपए के लागत की गन्ने की फसल जलकर स्वाहा हो गई। किसानों ने जल रही फसल को बचाने के लिए हर संभव प्रयास किया, लेकिन किसानों के भरसक प्रयासों के बाद भी उनकी आंखों के सामने पूरी फसल जलकर राख बन गई। पीडि़त किसानों ने बताया कि बिजली के जर्जर तारों में शार्ट सर्किट से निकली चिंगारी से खड़ी गन्ने फसल में आग लग गई। ग्रामीण जब तक आग पर काबू पाते तब तक लगभग चार एकड़ में लगी गन्ने की खड़ी फसल पूरी तरह से जलकर राख हो चुकी थी। इस आगजनी की घटना में कृषकों को लगभग 7 लाख रुपए से भी ज्यादा का नुकसान होने का अनुमान लगाया जा रहा है। घटना शुक्रवार दोपहर करीब 3 बजे की बताई जा रही है।
मिली जानकारी अनुसार ग्राम पुलपुट्टा में बावनथड़़ी नदी के किनारे चिंतामन सोनवाने, नीरज सोनवाने, धनपाल सोनवाने, बुधराम गोपाले, दयाराम उइके के खेत है। इन्होंने अपने 4 एकड़ के खेतों में गन्ने की फसल लगाई थी। इसी गन्ने की फसल के ऊपर से बिजली के तार गुजर रहे हैं। शुक्रवार की दोपहर करीब 3 बजे के आसपास बिजली के ढीले तारों से चिंगारी निकलने लगी, चिंगारी गन्ने के सूखे के पत्तों पर गिरी और फसल में आग लग गई। तेज हवा के बीच देखते ही देखते पूरे खेत में आग फैल गई और लगभग 4 एकड़ के खेत में खड़ी गन्ने की फसल बर्बाद हो गई। किसानों ने बताया कि बिजली के झूलते तारों को दुरस्त कराने के लिए कई बार गुहार लगाई गई थी। इसके बाद भी तारों को नहीं सुधारा गया। इस कारण यह आगजनी की घटना हुई और आगजनी का खामियाजा किसानों को भुगतना पड़ रहा है। किसानों ने शासन-प्रशासन का ध्यानाकर्षण कराते हुए मुआवजा प्रदान कराने की मांग की है।
उल्लेखनीय है कि इसके पूर्व बारिश व ओला वृष्टि के चलते क्षेत्र के किसानों की फसलें बर्बाद हुई थी। इसके बाद थोड़ी बहुत पकी फसल लेकर जब किसान सहकारी समिति पहुंचे तो अव्यवस्थाओं के मकडज़ाल के चलते इन खरीदी केन्द्रों में किसानों की फसलें बर्बाद हुई। इसके बाद अब गन्ने की फसल भी बिजली विभाग की अव्यवस्थाओं की भेंट चढ़ गई। इन सभी मामलों ने क्षेत्रीय किसानों की कमर तोड़कर रख दी है। बहुत मुश्किल से उधार लेकर फसल उत्पादन करने के किसी न किसी कारण से किसानों को नुकसानी का सामना करना पड़ रहा है। अब किसानों ने शीघ्र ही मुआवजा दिए जाने की मांग की है।

mukesh yadav Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned