बाबा के पाखंड सामने आने पर आक्रोशित हुए ग्रामीण

Bhaneshwar Sakure

Updated: 25 Jun 2019, 06:53:53 PM (IST)

Balaghat, Balaghat, Madhya Pradesh, India

बालाघाट. आस्था के नाम पर खिलवाड़ करने वाले बाबा का पाखंड सामने आने के बाद ग्रामीणों का गुस्सा फूट पड़ा। यहां ग्रामीणों द्वारा बाबा को घर से बाहर निकालने की जिद करने लगे थे। पुलिस द्वारा आक्रोशित ग्रामीणों को समझाने का प्रयास किया गया। लेकिन वे नहीं मान रहे थे। जब पुलिस द्वारा बाबा को अपने साथ लेकर जाने लगे तब भीड़ ने वाहन पर पथराव भी किया। इसके बाद पुलिस ने ग्रामीणों को काबू में करने के लिए हल्का बल भी प्रयोग किया।
आस्था के नाम पर आए दिन बाबाओं के पाखंड देखने को मिलते है। इसी कड़ी में बालाघाट के हट्टा थाना क्षेत्र के अंतर्गत ग्राम पंचायत डंूडासिवनी जो पिछले कुछ दिनों से आस्था का केंद्र बना हुआ था, मंगलवार को यहां दोपहर के बाद भक्तों की भीड़ का आक्रोश इतना बढ़ गया कि यहां कई थानों की पुलिस और बल को आकर मोर्चा संभालना पड़ा। दरअसल कबीर पंथ के सुबोध दास उर्फ मंगलदास बाबा मंगलवार को 10.15 मिनट पर शरीर से प्राण त्यागने वाले थे। जिसके चलते गांव में हजारों भक्तों की भीड़ लग गई और काफी देर तक बाबा का दावा सच न होने पर यहां जमा भीड़ का पारा सातवें आसमान पर पहुंच गया।
जानकारी के अनुसार सुबोधदास उर्फ मंगलदास पिता छोटूदास, कबीर आश्रम १२६ लोधीखेड़ा तपस्वी बाबा आश्रम सौंसर, जिला छिंदवाड़ा का निवासी है। जो १० जून को बालाघाट जिले के हट्टा थाना क्षेत्र के ग्राम डूंडासिवनी सत्संग में आया हुआ था। १० जून से लगातार पाखंडी बाबा सत्संग कर रहा था। इस दौरान उसने अपने सत्संग के माध्यम से २५ जून को सुबह १०.१५ बजे अपने प्राण त्यागने की बात कही थी। जिसके चलते २५ जून को बड़ी संख्या में बाबा के अनुयायी डूंडासिवनी पहुंचे थे। लेकिन बाबा की घोषणा सच नहीं हो पाई। जिसके बाद वहां मौजूद भीड़ आक्रोशित हो गई।

Show More

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned