scriptBaiga tribals will be heard, officers will reach the village | बैगा आदिवासियों की होगी सुनवाई, गांव पहुंचेंगे अधिकारी | Patrika News

बैगा आदिवासियों की होगी सुनवाई, गांव पहुंचेंगे अधिकारी

आयोग ने मुख्य सचिव, अपर सचिव, कलेक्टर, जिपं सीईओ से मांगा जवाब
पत्रिका में प्रकाशित खबर पर मानव अधिकार आयोग ने लिया संज्ञान
एक माह के भीतर मांगा तथ्यात्मक जवाब
ग्राम बोदालझोला के ग्रामीणों द्वारा गांव छोडऩे का मामला

बालाघाट

Published: December 24, 2021 09:53:43 pm

बालाघाट. बैगा आदिवासियों की अब होगी सुनवाई। ग्रामीणों की हकीकत जानने के लिए प्रशासन न केवल गांव पहुंचेगा। बल्कि बैगा आदिवासियों की समस्याओं को भी सुनेगा। दरअसल, मानव अधिकार आयोग ने जिले के अति नक्सल प्रभावित ग्राम बोदालझोला मामले को संज्ञान में लिया है। पत्रिका में प्रकाशित ग्रामीणों ने छोड़ा अपना गांव, जंगल को बनाया आशियाना नामक खबर को मानव अधिकार आयोग ने स्वमेय संज्ञान में लेकर अधिकारियों से जवाब मांगा है। साथ ही एक माह के भीतर तथ्यात्मक जवाब देने के लिए कहा है।
जानकारी के अनुसार पत्रिका में प्रकाशित खबर को संज्ञान में लेकर मध्यप्रदेश मानव अधिकार आयोग ने मुख्य सचिव मप्र शासन, अपर मुख्य सचिव मप्र शासन गृह विभाग मंत्रालय भोपाल सहित कलेक्टर और जिपं सीईओ बालाघाट से एक माह में तथ्यात्मक जवाब मांगा है। आयोग ने इन अधिकारियों से यह पूछा है कि एकीकृत कार्ययोजना (आईएपी) में बालाघाट जिले के बोदालझोला गांव में विकास कार्यों के लिए गत् पांच वर्षों में कितना बजट आवंटित हुआ है। इन पांच वर्षों में इस जिले में क्या-क्या विकास कार्य हुए है। खासतौर पर बोदालझोला गांव के गरीब आदिवासी बैगा परिवारों के लिए प्रशासन द्वारा क्या-क्या कार्य किए गए हैं, कि जानकारी मांगी है।
जानकारी के अनुसार किरनापुर विकासखंड के ग्राम पंचायत बक्कर के वन ग्राम बोदालझोला में समस्याओं का अंबार लगा हुआ है। चारों ओर से पहाडिय़ों से घिरा होने और गांव पहुंचने के लिए पक्की सड़क न होने की वजह से यहां न तो प्रशासनिक पहुंच अधिक है और न ही जनप्रतिनिधि इस गांव तक पहुंचते हैं। जिसके चलते ग्रामीणों की समस्याएं जस की तस बनी हुई है। ग्रामीणों ने बताया कि समस्याओं का निराकरण नहीं होने पर वे अपने पुश्तैनी गांव को छोड़कर जंगल में निवास कर रहे हैं। वर्ष २०१७ में भी उन्होंने जंगल में शरण ली थी, लेकिन वन अमले ने उन्हें वहां से भगा दिया था। पुन: वे बोदालझोला पहुंचकर निवास करने लगे थे।
इन समस्याओं को लिया आयोग ने लिया संज्ञान में
गांव पहुंचने के लिए पक्की सड़क नहीं होन, गांव में विद्युत के खंभे तो लगे हैं लेकिन बिजली का नहीं होना, पेयजल की वर्षों से समस्या बनी रहना, कडकडाती ठंड में जंगल में झोपड़ी में आग के सहारे निवास करना, गांव तक एंबुलेंस का नहीं पहुंचना, डॉक्टरों का गांव तक नहीं पहुंचना, हैंडपंप से आयरन युक्त मटमैला पानी निकलना सहित अन्य समस्याओं को मानव अधिकार आयोग ने संज्ञान में लिया है।
जानकारी लेने गांव पहुंचेंगे अधिकारी
इधर, मानव अधिकार आयोग के मामले को संज्ञान में लेने के बाद अब प्रशासन बोदालझोला गांव पहुंचेगा। जहां न केवल ग्रामीणों की समस्याओं को सुनेगा। बल्कि ग्रामीणों को सुविधाएं मुहैया कराए जाने के बारे में प्रयास करेगा। उल्लेखनीय है कि ग्राम बोदालझोला में ग्रामीण करीब ७५-८० वर्षों से निवास कर रहे हैं। इस दौरान ग्रामीणों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा है। ग्रामीणों ने अनेक बार प्रशासनिक अधिकारियों, जनप्रतिनिधियों से समस्याओं का समाधान किए जाने के लिए गुहार भी लगाई, लेकिेन उनकी सुनवाई नहीं हुई। जिसके चलते ग्रामीणों को समस्याओं के बीच ही अपना जीवन गुजर-बसर करना पड़ रहा था। लेकिन अब ग्रामीणों ने गांव को छोडऩे का निर्णय कर जंगल में बसना शुरू कर दिया है। गांव से २६ परिवार विस्थापित होकर जंगल में अपना आशियाना बना चुके हैं। गांव में कुछेक ग्रामीण हैं जो अभी भी अपने पुश्तैनी कृषि कार्य के लिए गांव में रुके हुए है। हालांकि, वे भी कृषि कार्य से निवृत्त होने के बाद गांव को छोडऩे का ऐलान कर चुके हैं।
बैगा आदिवासियों की होगी सुनवाई, गांव पहुंचेंगे अधिकारी
बैगा आदिवासियों की होगी सुनवाई, गांव पहुंचेंगे अधिकारी

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

धन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोगशाहरुख खान को अपना बेटा मानने वाले दिलीप कुमार की 6800 करोड़ की संपत्ति पर अब इस शख्स का हैं अधिकारजब 57 की उम्र में सनी देओल ने मचाई सनसनी, 38 साल छोटी एक्ट्रेस के साथ किए थे बोल्ड सीनMaruti Alto हुई टॉप 5 की लिस्ट से बाहर! इस कार पर देश ने दिखाया भरोसा, कम कीमत में देती है 32Km का माइलेज़UP School News: छुट्टियाँ खत्म यूपी में 17 जनवरी से खुलेंगे स्कूल! मैनेजमेंट बच्चों को स्कूल आने के लिए नहीं कर सकता बाध्यअब वायरल फ्लू का रूप लेने लगा कोरोना, रिकवरी के दिन भी घटेइन 12 जिलों में पड़ने वाल...कोहरा, जारी हुआ यलो अलर्ट2022 का पहला ग्रहण 4 राशि वालों की जिंदगी में लाएगा बड़े बदलाव
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.