खराब गुणवत्ता के गेहूं के वितरण पर लगाई रोक

कलेक्टर ने लगाई रोक, 26 हजार क्विंटल खराब गेहूं की पहुंची थी रेक, सीहोर, रायसेन से पहुंची थी खराब गेहूं की रेक

By: Bhaneshwar sakure

Published: 14 Jan 2021, 06:21 PM IST

बालाघाट. घुना, सड़ा और खराब गेहूं के वितरण पर आखिरकार कलेक्टर ने रोक लगा दी। दरअसल, जिले में सार्वजनिक वितरण प्रणाली के माध्यम से गरीबों को वितरित किए जाने के लिए २६ हजार क्विंटल खराब गेहूं की एक रेक बालाघाट पहुंची थी। इस रेक का अधिकांश गेहूं खराब था। पत्रिका ने एफएक्यू का टैग लगी बोरियों में निकला सड़ा, घुना हुआ गेहूं नामक शीर्षक से इस खबर का प्रकाशन था। जिसे कलेक्टर ने गंभीरता से लिया। खबर प्रकाशन के बाद कलेक्टर ने इस गेहूं के वितरण पर रोक लगा दी है।
जानकारी के अनुसार ४२ बोगियों की मालगाड़ी की सहायता से सड़ा हुआ गेंहू बालाघाट पहुंचाया गया हैं। प्रत्येक बोगी में १२-१३ सौ गेंहू की बोरियां भरी हुई थी। यहां करीब ५२ हजार बोरियों में २६ हजार क्विंटल सड़े हुए गेंहू की आपूर्ति कर दी गई है। बताया गया है कि वर्ष २०१७-१८ में शासन द्वारा जो गेंहू समर्थन मूल्य पर खरीदा गया था, उसे अब बालाघाट में सार्वजनिक वितरण प्रणाली के माध्यम से गरीबों को वितरित किए जाने के लिए भेजा गया है। विडम्बना यह है कि जिन बोरियों में भरकर सड़े गेंहू की आपूर्ति बालाघाट जिले में की गई है, उन बोरियों में एफएक्यू का भी टैग लगा हुआ है।
इधर, कलेक्टर दीपक आर्य ने जिला आपूर्ति अधिकारी एवं नागरिक आपूर्ति निगम के जिला प्रबंधक को निर्देशित किया है कि जिले में वितरण के लिए सीहोर से आए खराब गुणवत्ता के गेहूं का जिले की उचित मूल्य दुकानों में वितरण पर तत्काल रोक लगाएंं और यदि गोदाम में सीहोर से 11 जनवरी को आई रैक का गेहूं रखा हो तो उस गेहूं को गोदाम में पृथक से भंडारित कर रखा जाए। सीहोर से आई रेल्वे रैक से अत्यधिक खराब गुणवत्ता के गेहूं के बालाघाट आने की सूचना पर यह कदम उठाया गया है।
जानकारी के अनुसार 11 जनवरी को सीहोर से बालाघाट जिले में वितरण के लिए रेल्वे का एक रैक गेहूं लेकर पहुंचा है। रेल्वे के रैक में आए इस गेहूं की गुणवत्ता प्रथम दृष्टया देखने में ही अमानक स्तर का बताया जा रहा है। सीहोर से आए इस गेहूं में अत्यधिक मात्रा में घुना हुआ गेहूं होने, उसमें आटा बन जाने, अत्यधिक मात्रा में जीवित कीड़े पाए जाने, अधिकांश बोरियों में डस्ट भरी होने और बोरियों से सफेद पाउडर जैसा गिरने, बहुत सी बोरियों में गेहूं की लुगदी बन जाने, उसमें से दुर्गंध आने की जानकारी संज्ञान में आने पर कलेक्टर आर्य ने जिला आपूर्ति अधिकारी व नागरिक आपूर्ति निगम के जिला प्रबंधक को निर्देशित किया है कि यदि सीहोर से आया यह गेहूं जिले की उचित मूलय दुकानों में पहुंच गया हो तो उसके वितरण को तत्काल रोक दिया जाए और यदि वह गेहूं गोदाम में रखा हो तो उक्त रैक से प्राप्त गेहूं को पृथक से भंडारित किया जाए। उक्त रैक से आए गेहूं की जांच कर मानव उपयोग के लायक पाए जाने पर ही सार्वजनिक वितरण प्रणाली की उचित मूल्य दुकानों में उक्त गेहूं का वितरण कराएं।

Show More
Bhaneshwar sakure Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned