शक्ति की आराधना का पर्व चैत नवरात्रि प्रारंभ

माता मंदिरों में घट स्थापना कर हुई पूजा अर्चना, कोरोना संक्रमण के चलते मंदिरों में भक्तों के आवागमन पर प्रतिबंध

By: Bhaneshwar sakure

Published: 13 Apr 2021, 10:34 PM IST

बालाघाट. आदि शक्ति मां दुर्गा की पूजा आराधना का पर्व चैत नवरात्रा आज से प्रारंभ हो गया है। नगर सहित ग्रामीण अंचलों में स्थित देवी मंदिरों में जवारा व घट स्थापना कर मातारानी की पूजा अर्चना की गई। भक्तों के प्रवेश पर मंदिरों में पाबंदी के चलते पुजारी द्वारा ही मातारानी की पूजा अर्चना कर घट स्थापित किया गया। एक बार फिर से इस वर्ष पूरे देश में चल रहा कोरोना वायरस का असर के चलते मंदिर समिति द्वारा श्रद्धालुओं की भीड़ पर रोक लगा दी गई है। मंदिर समिति के पदाधिकारी ही कलश स्थापना कर पूजा अर्चना कर रहे हैं।
नगर के प्रमुख माता मंदिर मां कालीपाठ मंदिर, जयस्तंभ चौक स्थित मां त्रिपुर सुंदरी मंदिर, हनुमान चौक स्थित दुर्गा मंदिर, बैहर रोड स्थित शारदा मंदिर, गायखुरी स्थित मां कुष्मांडा मंदिर, भटेरा चौकी स्थित विंध्येश्वरी मंदिर में पूजा अर्चना कर नवरात्रि पर्व मनाया जा रहा है। नवरात्रि के पहले दिन मां शैलपुत्री की विधि-विधान से पूजा अर्चना की गई। गौरतलब हो कि चैत नवरात्रि में घरों में घट स्थापना कुंवार नवरात्रा से कम रहता है। श्रद्धालुओं द्वारा माताजी का वृत रख घरों में ज्योतिकलश स्थापित कर पूजा अर्चना की जाती। हर वर्ष नवरात्रि में प्रमुख माता मंदिरों में श्रद्धालुओं का तांता व मेला लगा रहता था। लेकिन इस वर्ष कोरोना वायरस के चलते मेला पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। मंदिर समिति के पदाधिकारियों द्वारा ही माता रानी की पूजा अर्चना कर आरती कर आराधना की जा रही है। भक्ति का यह क्रम पूरे नौ दिनों तक चलते रहेगा।

Bhaneshwar sakure Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned