नसबंदी के बाद भी महिला को हुए जुड़वा बच्चे

नसबंदी के बाद भी महिला को हुए जुड़वा बच्चे

किरनापुर
. नसबंदी ऑपरेशन होने के बाद भी एक आदिवासी महिला ने उपस्वास्थ्य केन्द्र किन्ही में दो जुड़वा बच्चे को जन्म दिया है। जहां जच्चा-बच्चा दोनों स्वस्थ्य हैं। वहीं बीएमओ ने प्रकरण तैयार कर पीडि़ता को मुआवजा दिलवाए जाने की बात कही है।
जानकारी के अनुसार ग्राम किन्ही निवासी सीताबाई पति मनोज उईके द्वारा करीब एक वर्ष पूर्व नसबंदी करवाई गई थी। नसबंदी ऑपरेशन के कुछ माह बाद उक्त महिला फिर से गर्भवती हो गई। जिसकी सूचना उनके द्वारा गांव के आंगनबाड़ी केन्द्र व स्वास्थ्य केन्द्र में दी गई थी।
इतना ही नहीं उन्होंने आंगनबाड़ी केन्द्र में अपना पंजीयन भी करा लिया था। नौ माह पूर्ण होने के बाद सीताबाई को प्रसव वेदना होने पर उसे उपस्वास्थ्य केन्द्र किन्ही में भर्ती कराया गया। जहां उसने दो बच्चों को जन्म दिया। प्रसव के बाद जच्चा-बच्चा दोनों स्वस्थ्य हैं।
पहले से ही दो बच्चे
प्रसूता सीताबाई के पति मनोज ने बताया कि पहले दो बच्चे होने के बाद उनके द्वारा नसबंदी ऑपरेशन करवाया गया था। लेकिन ऑपरेशन के कुछ माह बाद फिर से पत्नी गर्भवती हो गई। हालांकि प्रसव के बाद दो बच्चे हुए हैं। नसबंदी फेल होने पर वे मुआवजे के लिए विभाग पर दावा करेंगे।
किन्ही उपस्वास्थ्य केन्द्र में महिला को जुड़वा बच्चा पैदा होने की जानकारी मिली है। मुआवजा राशि के लिए अभी तक उनके पास पीडि़तों की ओर से कोई प्रकरण नहीं आया है। अब भी उनके पास आवेदन प्रमाणपत्रों के साथ प्रस्तुत किया जाता है। तो प्रकरण तैयार कर शासन को भिजवाकर मुआवजा राशि दिलवाई जाएगी।  
डॉ एनआर रंगारे, बीएमओ किरनापुर

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned