रेत परिवहन को लेकर उपजा विवाद

रेत परिवहन को लेकर उपजा विवाद
रेत परिवहन को लेकर उपजा विवाद

Bhaneshwar Sakure | Publish: Aug, 23 2019 09:06:08 PM (IST) Balaghat, Balaghat, Madhya Pradesh, India

गोली चलने की चलते रही अफवाह, सूचना के बाद पुलिस बल रहा तैनात, ग्राम पंचायत धापेवाड़ा का मामला

बालाघाट. शुक्रवार को रेत परिवहन को लेकर ग्रामीणों और ठेकेदारों के बीच विवाद की स्थिति उत्पन्न हो गई। इस दौरान गोली चलने की अफवाह भी चलते रही। हालांकि, इसकी पुष्टि किसी भी अधिकारी या ग्रामीण ने नहीं की है। इधर, विवाद की सूचना मिलते ही बड़ी संख्या में पुलिस बल मौके पर पहुंचा। जहां पुलिस ने स्थिति को नियंत्रित किया। मामला ग्राम पंचायत धापेवाड़ा का है। विवाद की सूचना मिलने पर कोतवाली टीआई विजय सिंह परस्ते, तहसीलदार रामबाबू देवांगन, खनिज अधिकारी सहित अन्य मौके पर पहुंचे।
जानकारी अनुसार ग्राम धापेवाड़ा में वैनगंगा नदी से ग्रामीणों ने रेत का अवैध खनन कर बारिश के पूर्व डम्प किया था। इस रेत के भंडारण को पिछले दिनों शिकायत के बाद राजस्व और खनिज विभाग ने जब्त कर लिया था। जिसमें कुछ डम्प को ग्राम पंचायत धापेवाड़ा को निर्माण कार्यों के लिए दिया गया था। वहीं अधिकांश डम्प को खनिज विभाग ने बाद में निकट के ठेकेदार को प्रदान किया था। यह डंप रेत ठेकेदार शेवेंद्र परिहार को प्रदान किया गया था। जिसके लिए बकायदा रेत ठेकेदार द्वारा अग्रिम रायल्टी की राशि जमा भी की गई थी। जिसके एवज में विभाग ने रेत ठेकेदार को रायल्टी भी जारी की थी। इसी रेत का परिवहन करने के लिए शुक्रवार ठेकेदार पहुंचा था। लेकिन ग्रामीणों द्वारा इसका विरोध किया जा रहा था। ग्रामीणों का कहना था कि शासन या प्रशासन की नीति में ऐसा कहां प्रावधान हैं कि वह निकट के किसी ठेकेदार को ही उसके सुपुर्दनामे में देकर नियत राशि जमा करा लेवें। ग्रामीण चाहते थे कि उनके डम्प को खनिज विभाग उन्हें ही सौंपे और इसके लिए नियत जुर्माना या शुल्क जमा करा लेवें।
इधर, विवाद की सूचना मिलने पर पूर्व सांसद कंकर मुंजारे भी अपने समर्थकों के साथ मौके पर पहुंचे। उन्होंने ठेकेदार के साथ चर्चा की। दोनों पक्ष की बात सुनने के बाद ठेकेदार को रेत का उठाव ना करते हुए ग्रामीणों के लिए ही छोड़ दिए जाने की समझाइश दी। जिसके बाद ठेकेदार ने सहमति देते हुए डम्पर व जेसीबी मशीन को वापस बुला लिया व रेत का उठाव बंद कर दिया गया। इस दौरान पूर्व जिला पंचायत सदस्य उम्मेद लिल्हारे, राजेश मरार, जनपद सदस्य प्रेमलाल दशहरे, सरपंच पति संतलाल उपवंशी, कोसमी के पूर्व सरपंच गगन नगपुरे सहित अनेक लोग मौजूद थे।
वहीं दूसरी ओर मौके पर पहुंचे खनिज अधिकारी सोहन सलामे, खनिज निरीक्षक तिवारी, निरीक्षक महेंद्र मसराम में से किसी ने भी इस विषय में चर्चा नहीं की। खनिज अधिकारी सलामे कुछ देर रूकने के बाद चले गए थे। लेकिन मौके पर महेंद्र मसराम तैनात रहे। जब मीडिया ने उनसे चर्चा करना चाही तो वह चर्चा करने के बजाय वाहन में ही बैठे रहे और कांच बंद कर ली। उन्होंने कहा कि उनके अधिकार क्षेत्र का मामला नहीं हैं।
इनका कहना है
धापेवाड़ा में विवाद की सूचना मिली थी। मौके पर पहुंचकर दोनों पक्षों को समझाइश देकर विवाद शांत करा दिया गया।
-विजय सिंह परस्ते, कोतवाली थाना प्रभारी

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned