ओलावृष्टि से प्रभावित हुई फसल, किसानों को हुई आर्थिक क्षति

Bhaneshwar sakure

Publish: Feb, 15 2018 12:45:50 PM (IST)

Balaghat, Madhya Pradesh, India
ओलावृष्टि से प्रभावित हुई फसल, किसानों को हुई आर्थिक क्षति

जनप्रतिनिधियों ने लिया प्रभावित फसलों का जायजा,जिले के अलग-अलग क्षेत्र के दर्जनों गांवों में ओलावृष्टि

बालाघाट. जिले में मंगलवार को दोपहर बाद अलग-अलग क्षेत्र में तेज आंधी-तूफान के साथ ओलावृष्टि व बारिश हुई। जिसके कारण किसानों की फसल काफी क्षतिग्रस्त हुई है। इस प्राकृतिक आपदा से किसानों को आर्थिक नुकसान हुआ है। जानकारी के अनुसार जिले के गढ़ी, बैहर, परसवाड़ा, लालबर्रा, किरनापुर क्षेत्र के दर्जनों ग्रामों में ओलावृष्टि हुई है। जिससे काफी नुकसान हुआ है।
जानकारी के अनुसा जिले के ओलावृष्टि से दर्जनों गांव के किसानों की फसले प्रभावित हुई है। इधर, परसवाड़ा क्षेत्र में फसलों के साथ-साथ मकानों को भी काफी क्षति हुई है। बुधवार को लालबर्रा विकासखंड के ओलाप्रभावित ग्रामों का सांसद बोधसिंह भगत, जिपं अध्यक्ष रेखा बिसेन, कांग्रेसी नेता विशाल बिसेन, केबिनेट मंत्री प्रतिनिधि के रुप में मौसम हरिनखेड़े सहित अन्य जनप्रतिनिधियों ने ओलाप्रभावित क्षेत्रों का भ्रमण किया। वहीं किसानों से चर्चा की।
१५ दिन में नहीं मिला मुआवजा तो होगा आंदोलन
युवा कांग्रेस महासचिव विशाल बिसेन ने बुधवार को ओलावृष्टि से प्रभावित ग्रामों का सघन दौर किया। पीडि़त किसानों से मुलाकात की है। इस दौरान कांग्रेसी नेता ने लालबर्रा क्षेत्र के ग्राम टेंगनी, पनबिहरी, सालई, बघोली, टेकाड़ी, उदासी टोला, रामजी टोला, पांढरवानी सहित अन्य ग्रामों का दौरान किया। चर्चा के दौरान उन्होंने किसानों से अपील की है कि नुकसान से भयभीत होकर वे कोई गलत कदम न उठाएं। उन्होंने प्रशासन से मांग की है कि तत्काल प्रभावित क्षेत्रों का सर्वेक्षण कराया जाए। पीडि़त किसानों को शीघ्र मुआवजा दें। उन्होंने कहा कि फसल खराब होने की स्थिति में तत्काल राजस्व और कृषि विभाग द्वारा सर्वेक्षण कर प्रति एकड़ 15 हजार रुपए का मुआवजा प्रदान करें। साथ ही कर्ज भी माफ किया जाए। उन्होंने कहा कि 15 दिन के भीतर पीडि़त किसानों को मुआवजा नहीं मिलता है तो वे उग्र आंदोलन करेंगे।
दर्जनों गांव हुए प्रभावित
किरनापुर क्षेत्र में बीते दो दिनों से बदल रहे मौसम के मिजाज के चलते मंगलवार देर शाम क्षेत्र के अंधिकांश ग्रामों में ओलावृष्टि होने से खेतों में लगी फसले पूरी तरह बर्बादहो गई। क्षेत्र के ग्राम भुवा, बोरगांव, भानेगांव, सेवती, हट्टा, सिवनीकला, सारद, माटे सहित दर्जनभर ग्रामों में मंगलवार की शाम बारिश के साथ ओलावृष्टि हो जाने से सामान्य जनजीवन पूरी तरह से अस्त-व्यस्त हो गया।
जिपं अध्यक्ष ने ओला पीडि़त क्षेत्र का किया दौरा
बुधवार को जिपं अध्यक्ष रेखा बिसेन ने विकासखंड लालबर्रा के ओला पीडि़त क्षेत्रों का दौरा कर फसलों का जायजा लिया। इस दौरान बघोली, चिचगांव, सालई, घोटी, छिंदलई, साल्हे ला. व अन्य गांव शामिल है। जिपं अध्यक्ष ने बताया कि ओलावृष्टि होने के कारण किसानों की फसल बर्बाद हो चुकी है। जिससे किसानों को आर्थिक क्षति हुई है। उन्होंने कहा कि किसान परेशान न हो उनकी खराब हुई फसलों का मुआवजा शासन से दिलवाया जाएगा। इस अवसर पर उपस्थित कृषि व राजस्व विभाग के अधिकारियों को ओलाप्रभावित ग्रामों को चिन्हित कर सर्वे कार्य प्रारंभ कराए जाने के निर्देश दिए। उन्होंने स्पष्ट कहा कि सर्वे के दौरान किसी भी प्रकार का पक्षपात न हो। जिपं अध्यक्ष के अनुसार लालबर्रा क्षेत्र के अतरी, टेंगनी, घोटी, बबरिया, पिपरिया, छिंदलई, सालई, खैरगांव, ददिया, बेलगांव, पांढरवानी, लालबर्रा, डोरली, बम्हनी, मुरझड, कौडिया, खामघाट, देवरी, बेलगांव, कटंगा, घोटी, चिचगांव, साल्हे ला., बघोली में ओलावृष्टि हुई है।
मंत्री प्रतिनिधि के रुप में मौसम ने लिया जायजा
प्रदेश के केबिनेट मंत्री गौरीशंकर बिसेन के निर्देश पर मौसम हरिनखेड़े ने लालबर्रा के डोरली, बम्हनी, घोटी सहित अन्य ओला प्रभावित ग्रामों का निरीक्षण किया। इसके बाद उन्होंने सिवनी जिले के विकासखंड केवलारी अंतर्गत छगरा, लोपा, खापा, चिचवन, विरानखमरिया, सिंगोडी, कचरवाड़ा, खमरिया, किरकिराजीत, जुरतरा सहित अन्य ओलाप्रभावित ग्रामों का निरीक्षण किया। इस दौरान मंत्री बिसेन की ओर से मौसम हरिनखेडऩे ने किसानों को आश्वस्त कराया कि इस विपदा के समय पूरी भाजपा सरकार किसानों के साथ है। शासन की ओर से आरबीसी 6-4 अंतर्गत मुआवजा स्वीकृत कर लाभ दिलाया जाएगा।

डाउनलोड करें पत्रिका मोबाइल Android App: https://goo.gl/jVBuzO | iOS App : https://goo.gl/Fh6jyB

Ad Block is Banned