scriptDemand for employment in MNREGA is high, getting less | मनरेगा में रोजगार की मांग अधिक, मिल रहा कम | Patrika News

मनरेगा में रोजगार की मांग अधिक, मिल रहा कम

रोजगार की तलाश में पलायन कर रहे हैं ग्रामीण
मजदूरी भुगतान में देरी भी बन रही मोहभंग का कारण

बालाघाट

Published: March 27, 2022 10:11:20 pm

बालाघाट. मनरेगा में ग्रामीणों द्वारा रोजगार की मांग अधिक की जा रही है, लेकिन पंचायतों से उन्हें रोजगार कम मिल रहा है। आलम यह है कि रोजगार की तलाश में ग्रामीण पलायन कर रहे हैं। विडम्बना यह भी है कि मजदूरी भुगतान में देरी होने से ग्रामीणों का मनरेगा से मोहभंग होते जा रहा है। एक ओर रोजगार की समस्या तो दूसरी ओर भुगतान का शेष रहना। कुछ इस तरह की स्थिति बालाघाट जिले की बनी हुई है। जिले में मनरेगा से ग्रामीणों को पर्याप्त रोजगार नहीं मिल पा रहा है। वहीं पूर्व में किए गए कार्यों का भी भुगतान समय पर नहीं हो पाया है। आलम यह है कि जिले में अभी भी करोड़ों रुपए का मनरेगा से भुगतान शेष है। जिले में एक बार फिर से रोजगार की समस्या गहराने लगी है। कृषि कार्य से निवृत्त होने के बाद ग्रामीण अब रोजगार की तलाश में महानगरों की ओर पलायन कर रहे हैं।
मनरेगा की वेबसाइड से मिली जानकारी के अनुसार जिले में जिले में ३०४०७१ जॉब कार्ड धारी परिवार है। इन जॉब कार्डधारियों में से ५८२०२१ लोगों ने मनरेगा के तहत रोजगार की मांग की थी। जिसमें से अभी तक पंचायतों में मनरेगा के माध्यम से ४७३०३३ लोगों को ही रोजगार मिल पाया है। जिन ग्रामीणों को मनरेगा से रोजगार मिला है, उन्हें समय पर भुगतान भी नहीं हो पाया है। जिसके कारण ग्रामीणों ने रोजगार की तलाश में महानगरों की ओर पलायन करना शुरू कर दिया है।
महानगरों की ओर कर रहे पलायन
रोजगार की कमी के चलते जिले से बड़ी संख्या में ग्रामीण महानगरों की ओर पलायन कर रहे है। खासतौर पर जिले के बैहर, बिरसा, परसवाड़ा, लांजी, कटंगी, खैरलांजी, किरनापुर विकासखंड के ग्रामीण बड़ी संख्या में महानगरों की ओर पलायन करते हैं। पलायनकर्ता ग्रामीणों ने बताया कि बड़े शहरों में उन्हें रोजगार आसानी से मिल जाता है। साथ ही मजदूरी अधिक मिलती है। इतना ही नहीं भुगतान भी साप्ताहिक हो जाता है। जबकि जिले में उन्हें कम मजदूरी मिलती है। ग्रामीणों का कहना है कि पंचायतों में कार्य तो कर लिया जाता है, लेकिन उसका भुगतान महिनों बाद होता है। जिसके कारण उन्हें काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। जबकि मौजूदा समय में आजीविका चलाने के लिए पैसों की महत्ती आवश्यकता होती है। ऐसे में समय पर मजदूरी का भुगतान नहीं होने पर उन्हें मजबूरी में पलायन करना पड़ता है।
खल रही उद्योगों की कमी
जिले में वैसे तो प्रचूर मात्रा में खनिज, वन संपदा है, लेकिन इससे जुड़े कोई भी उद्योग धंधे नहीं है। जिसके कारण उद्योग धंधों की कमी खलने लगी है। हालांकि, शासन-प्रशासन द्वारा इनवेस्टर मीट के माध्यम से जिले में उद्योग धंधों की स्थापना के प्रयास किए गए। लेकिन उनकी स्थापना नहीं होने के चलते मौजूदा समय में ग्रामीणों को रोजगार नहीं मिल पा रहा है। वहीं पूर्व में संचालित उद्योग धंधे भी बंद हो गए हैं। जिनके चलते ग्रामीण अब रोजगार की तलाश में महानगरों की ओर पलायन कर रहे हैं। विदित हो कि ग्रामीण प्रतिवर्ष कृषि कार्य से निवृत्त होने के बाद रोजगार की तलाश में महानगरों की ओर पलायन कर जाते हैं। जिसका सिलसिला जिले में बदस्तूर जारी है।
मनरेगा में रोजगार की मांग अधिक, मिल रहा कम
मनरेगा में रोजगार की मांग अधिक, मिल रहा कम
विखं जॉब कार्ड धारी ग्रामीणों द्वारा की गई अब तक मिला
रोजगार की मांग रोजगार
बैहर 22881 53763 41965
बालाघाट 26263 46830 35693
बिरसा 32943 64802 57728
कटंगी 32475 58150 45116
खैरलांजी 33196 6 3451 52072
किरनापुर 32242 60688 47525
लालबर्रा 35437 61172 52794
लांजी 35507 62098 48181
परसवाड़ा 23336 51904 42418
वारासिवनी 29791 59163 49541

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

महाराष्ट्र की राजनीति में बड़ा उलटफेर: एकनाथ शिंदे ने ली मुख्यमंत्री पद की शपथ, देवेंद्र फडणवीस बने डिप्टी सीएमMaharashtra Politics: बीजेपी ने मौका मिलने के बावजूद एकनाथ शिंदे को क्यों बनाया सीएम? फडणवीस को सत्ता से दूर रखने की वजह कहीं ये तो नहीं!भारत के खिलाफ टेस्ट मैच से पहले इंग्लैंड को मिला नया कप्तान, दिग्गज को मिली बड़ी जिम्मेदारीउदयपुर कन्हैयालाल हत्याकांडः कानपुर से आतंकी कनेक्शन, एनआईए की टीम जल्द जा कर करेगी छानबीनAgnipath Scheme: अग्निपथ स्कीम के खिलाफ प्रस्ताव पारित करने वाला पहला राज्य बना पंजाब, कांग्रेस व अकाली दल ने भी किया समर्थनPresidential Election 2022: लालू प्रसाद यादव भी लड़ेंगे राष्ट्रपति पद के लिए चुनाव! जानिए क्या है पूरा मामलाMumbai News Live Updates: शरद पवार ने किया बड़ा दावा- फडणवीस डिप्टी सीएम बनकर नहीं थे खुश, लेकिन RSS से होने के नाते आदेश मानाUdaipur Murder: आरोपियों को लेकर एनआईए ने किया बड़ा खुलासा, बढ़ी राजस्थान पुलिस की मुश्किल
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.