शिक्षा, स्वास्थ्य के क्षेत्र में हो विकास

Bhaneshwar Sakure

Publish: Sep, 16 2018 09:53:32 PM (IST) | Updated: Sep, 16 2018 09:53:33 PM (IST)

Balaghat, Madhya Pradesh, India

बालाघाट.जिले में शिक्षा के क्षेत्र में विकास होना बहुत ही जरुरी है। जिले के कॉलेजों में बच्चों को बहुत अच्छी शिक्षा दी जाए, ताकि वे आगे पढ़कर अपना और अपने जिले का नाम रोशन कर सकें। दरअसल, व्यक्ति के जीवन में शिक्षा काफी मायने रखती है। जब तक व्यक्ति शिक्षित नहीं होगा, तब तक न तो उसका विकास होगा और न ही वह अपने परिवार व क्षेत्र का विकास कर पाएगा। इसके लिए जिले के जनप्रतिनिधियों को भी आगे आने की जरुरत है। वक्त बदलने के साथ ही शिक्षा के स्तर में भी काफी बदलाव आया है। देश के अन्य बड़े शहरों में अच्छी शिक्षा दी जाती है। जिसके चलते जिले के ही विद्यार्थी अच्छी गुणवत्तायुक्त शिक्षा प्राप्त करने के लिए महानगरों की ओर जाते हैं। जिले के जनप्रतिनिधियों को कुछ ऐसा करना चाहिए, ताकि महानगरों में मिलने वाली शिक्षा बालाघाट जिले में ही मिले। जिससे यहां के बच्चे इसी जिले में ही शिक्षा अध्ययन कर सकेंगे। बालाघाट जिला वन संपदा से परिपूर्ण है। लेकिन उससे जुड़े कोई भी उद्योग धंधे स्थापित नहीं है। यदि इससे जुड़े उद्योग धंधों की स्थापना होती है तो न केवल लोगों को रोजगार मिलेगा। बल्कि जिले की आय में भी वृद्धि होगी। बालाघाट जिले में अच्छी गुणवत्ता की मैगनीज, तांबा निकाला जाता है। लेकिन इसके शोधन के लिए यहां पर कोई भी संयंत्र नहीं है। जिसके कारण लोगों को रोजगार नहीं मिल पा रहा है। जिले में नेता ऐसे होना चाहिए जो कि विकास की सोच के साथ कार्य करें। ताकि देश और जिले के विकास हो सकें। पहले जनता मतदान के दौरान गुमराह होती थी, लेकिन आज के समय में लोग पढ़े लिखे हैं। उन्हें कैसे नेता को चुनना है, इसकी उनमें अच्छी समझदारी आ गई है। आजकल के जनप्रतिनिधि भी काफी समझदार और पढ़े-लिखे हैं, जो अच्छी सोच के साथ बेहतर कार्य कर रहे हैं।
मेडिकल कॉलेज खुले
जिले में मेडिकल कॉलेज की बहुत आवश्यकता है। मेडिकल कॉलेज नहीं होने के कारण बच्चों को शिक्षा अध्ययन करने के लिए बाहर जाना पड़ रहा है। इधर, स्वास्थ्य के क्षेत्र में भी यह जिला काफी पिछड़ा हुआ है। यहां डॉक्टरों की कमी के चलते लोगों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं नहीं मिल पा रही है। बड़े शहरों में जाकर लोगों को महंगा उपचार करना पड़ रहा है। यदि मेडिकल कॉलेज खुल जाता है तो न केवल जिले में डॉक्टरों की संख्या में बढ़ोत्तरी होगी। बल्कि लोगों को उपचार के लिए न तो भटकना पड़ेगा और न ही बाहर जाना पड़ेगा। इसके लिए जनप्रतिनिधियों को प्रयास करने की आवश्यकता है।
निर्मला प्रेमप्रकाश त्रिपाठी, समाजसेविका

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned