मिलावट ओर दूषित आहार का सेवन कर रहे जिलेवासी

प्रशासन की कार्रवाई में सामने आ रही सच्चाई
पैकेट बंद मिर्च, मशाला के अधिक मामले सामने आ रहे अमानक
जिला मुख्यालय में ६७ और किरनापुर से ६२ हजार रुपए का वसूल किया गया जुर्माना

By: mukesh yadav

Published: 30 Jan 2021, 11:30 AM IST


बालाघाट. जिला मुख्यालय सहित तहसील क्षेत्रों की छोटी किराना दुकानों और हॉटलों में वर्षो से अमानक खाद्य पदार्थो और मसालो का विक्रय धड़ल्ले से किया जा रहा है। स्वयं जिला प्रशासन की कार्रवाई में इस तरह की जानकारी सामने आ रही है।
दरअसल शासन के निर्देश पर खाद्य सुरक्षा विभाग द्वारा जिलेभर में मिलावट से मुक्ति अभियान चलाया जा रहा है। इस दौरान शहर मुख्यालय में लिए गए एक सैकड़ा से अधिक सेम्पलों की जांच में एक दर्जन सेम्पलों में मिलावट व अमानक स्तर के पाए गए हैं। जिन पर कार्रवाई करते हुए ऐसे विक्रेताओं से ६७ हजार रुपए का जुर्माना वसूल किया गया है। इसी तरह किरनापुर तहसील क्षेत्र से 131 नमूने जांच हेतु लिए गए। 25 नमूने मैजिक बॉक्स से जांच हेतु लिए गए। इनमें सेम्पल अमानक पाए जाने पर आठ प्रतिष्ठानों से 62000 रुपए की राजस्व वसूली विभाग द्वारा की गई है। खाद् सुरक्षा विभाग के अधिकारियों की माने तो अमानक व मिलावट के मामले पैकेट बंद मिर्च, मशालों से अधिक सामने आ रहे हैं। वहीं हॉटलों में परोसे जाने वाले व्यंजन भी बेजा गंदगी के बीच बनाए जाने के मामले सामने आए हैं। जिन पर जुर्माना कार्रवाई की गई है।
अधिकारियों के अनुसार मिलावट से मुक्ति अभियान में मोबाइल फूड टेस्टिंग लैबोरेट्री वेन काफी मददगार साबित हो रही है। इसके उपयोग से उन्हें सेम्पलों की रिपोर्ट काफी कम समय में प्राप्त हो रही है। परिणाम स्वरूप उनकी टीम मौके पर ही कार्रवाई कर रही है। खाद् सुरक्षा विभाग की टीम के अनुसार आमजनता ऐसे अमानक खाद्य पदार्थो व मसालों का मजे से इस्तेमाल करते आ रहे हैं। इन्होंने बाहर की खाद् सामग्रियों का उपयोग सावधानी पूर्वक किए जाने व मिर्च मसालों के पैकेट में पहले उसकी निर्माण तिथि देखे जाने की अपील की है।

mukesh yadav Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned