90 की रफ्तार से दौड़ा लामता-नैनपुर के बीच इलेक्ट्रिक इंजन

लामता-नैनपुर ब्रॉडगेज विद्युतीकरण का अधिकारियों ने किया निरीक्षण, समनापुर-लामता के बीच रेल पथ का भी किया गया निरीक्षण

By: Bhaneshwar sakure

Published: 23 Aug 2020, 09:02 PM IST

बालाघाट. लामता से नैनपुर के बीच किए ब्रॉडगेज में किए गए विद्युतीकरण और लामता से समनापुर के बीच किए गए अमान परिवर्तन का रविवार को अधिकारियों का निरीक्षण किया। इधर, दोनों ही ओर अधिकारियों के निरीक्षण किए जाने से अब शीघ्र ही ट्रेनों के संचालन होने की उम्मीद जाग गई गई है।
जानकारी के अनुसार रविवार को सीआरएस एके राय, मंडल प्रबंधक शोभना बंदोपाध्याय, चीफ इंजिनियर वीके बाकड़े (विद्युत), आरएम सोनकर, महावीर जैन, वीके त्रिपाठी, उदयभान सिंह, दीनानाथ गुप्ता, मृत्युन्जय मोहन सहित अन्य अधिकारियों ने रविवार को समनापुर-लामता- नैनपुर ब्रॉडगेज का निरीक्षण किया। रविवार की सुबह करीब १० बजे विशेष निरीक्षण इंजन यान से सीआरएस लामता पहुंचे थे। जहां उन्होंने रेल्वे स्टेशन का निरीक्षण किया। इसके बाद स्पेशल ट्रेन (डीजल इंजन चलित) से निरीक्षण के लिए नैनपुर के लिए रवाना हुए। जिसमें पायलट के रुप में एसके सोनी, कमलेश, पीडी मेवाती गार्ड भी मौजूद रहे। वहीं नैनपुर से लामता के लिए विद्युत इंजन से स्पेशल ट्रेन का स्पीड निरीक्षण किया गया। जिसमें नैनपुर से 13.7 मिनिट पर रवाना हुए जो लामटा 13.47 बजे पहुंचे। इस बीच स्पीड अधीकतम 90 रही, जिसमें स्टेशन, यार्ड एकासना आर्डर पर गति धीमी कि गई। इस निरीक्षण के दौरान आरके परते लोको पायलट, अमित कुमार, प्रशांत मेश्राम, गार्ड जेएस राजपूत भी इंजन में उपस्थित रहे। इसके बाद सीआरएस अधिकारी एके राय, मंडल प्रबंधक शोभना बंदोपाध्याया सहित समस्त अधिकारी सड़क मार्ग से समनापुर के लिए रवाना हुए।
डीआरएम को सौंपा ज्ञापन
इस कार्यक्रम के दौरान लामता के नागरिकों द्वारा डीआरएम को ज्ञापन सौंपकर चर्चा की गई। जिसमें रेल्वे ट्रेक के पास एलसी कलर 62 से रेल्वे स्टेशन के पास नाले तक नाली निर्माण कराने से बरसात का पानी वार्ड नंबर 8, 9 के घरों व रोड में पानी के भराव की निकासी के लिए, लामता स्टेशन में यात्री प्रतीक्षालय, प्रथम श्रेणी प्रतीक्षालय, आरक्षण केंद, रेल मंत्रालय द्वारा सवारी गाड़ी शुरू होने पर लामता से सवारी गाडिया शुरू करने की मांग की गई। जिस पर डीआरएम ने सीआरएस हो जाने के बाद रेल मंत्रालय द्वारा निर्देश पर आगे कि कार्रवाई किए जाने का आश्वासन दिया। वहीं भू-अर्जन समिति और ब्राडगेज संघर्ष समिति ने भी डीआरएम को एक ज्ञापन सौपकर भू-अर्जित जमीन के बदले नौकरी न मिलने पर विशेष चर्चा की।

Bhaneshwar sakure Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned