ईओडब्ल्यू ने खंगाले दस्तावेज, वेयर हाउस का किया निरीक्षण

डीएसओ, नान डीएमओ के कार्यालय भी पहुंची टीम, ईओडब्ल्यू की पांच सदस्यीय टीम कर रही है जांच, मिलर्स पर अभी तक दर्ज नहीं हो पाई है एफआइआर, अमानक चावल सप्लाई का मामला

By: Bhaneshwar sakure

Updated: 05 Sep 2020, 08:59 PM IST

बालाघाट/वारासिवनी. अमानक चावल सप्लाई मामले में जांच कर रही ईओडब्ल्यू की पांच सदस्यीय टीम ने चावल सप्लाई से जुड़े दस्तावेजों की जांच की। वेयर हाउस और मिलों का निरीक्षण किया। इसके अलावा नागरिक आपूर्ति निगम और जिला खाद्य एवं आपूर्ति अधिकारी के कार्यालय भी जांच टीम पहुंची। हालांकि, अभी तक अमानक चावल सप्लाई मामले में किसी भी मिलर्स के खिलाफ एफआइआर नहीं हो पाई है।
जानकारी के अनुसार अमानक चावल मिलने की केंद्रीय जांच दल की रिपोर्ट के बाद प्रदेश सरकार के आदेश पर कलेक्टर द्वारा सभी १८ राइस मिलों को सील करवा दिया गया है। वहीं प्रदेश सरकार ने इस मामले की ईओडब्ल्यू को जांच सौंप दी है। साथ ही इन १८ मिलर्स पर एफआइआर करने के आदेश भी दिए हैं। जिसके चलते जिले में सीएसपी बालाघाट के नेतृत्व में एसआइटी का गठन किया गया है। यह टीम मिलर्स के खिलाफ एफआइआर दर्ज करने के लिए साक्ष्य एकत्रित कर रही है। सरकार के निर्देश के बाद भी अभी तक किसी भी मिलर्स पर एफआइआर नहीं हो पाई है।
इधर, ईओडब्ल्यू की पांच सदस्यीय टीम वरिष्ठ अधिकारी प्रदीप कुमार जैन के नेतृत्व में वारासिवनी पहुंची। जिनके द्वारा वारासिवनी क्षेत्र की ग्राम पंचायत वारा में स्थित मप्र वेयरहाउसिंग एंड लॉजिस्टिकस कार्पोरेशन, गर्रा स्थित सीडब्ल्यूसी सहित अन्य वेयर हाउस का निरीक्षण कर प्रकरण की बारीकियों को जाना। इन पांच सदस्यीय टीमों के द्वारा सील किए गए राइस मिलों के दस्तावेजों की जांच भी की जा रही है। इसके अलावा शुक्रवार को भोपाल से बालाघाट पहुंची ईओडब्ल्यू की टीम ने वारा और गर्रा स्थित शासकीय वेयर हाउस व अन्य वेयर हाउस का निरीक्षण किया। माना जा रहा है कि ईओडब्ल्यू के द्वारा जांच किए जाने से इस मामले में और भी खुलासे हो सकते हैं।
इनका कहना है
ईओडब्ल्यू की पांच सदस्यीय टीम भोपाल से बालाघाट पहुंची है। उनके द्वारा वेयर हाउस गोदामों का निरीक्षण किया गया है। साथ ही जो राइस मिले सील की गई है, उसके प्रकरण की जांच कर अग्रिम कार्रवाई की जा रही है।
-संदीप सिंह, एसडीएम, वारासिवनी
इस मामले की पूरी जांच ईओडब्ल्यू कर रही है। जांच में जो भी तथ्य आएंगे, उसके आधार पर आगे की कार्रवाई होगी।
-दीपक आर्य, कलेक्टर, बालाघाट

Bhaneshwar sakure Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned