scriptFarmers getting upset due to not getting SMS | एसएमएस नहीं मिलने से परेशान हो रहे किसान | Patrika News

एसएमएस नहीं मिलने से परेशान हो रहे किसान

एक लाख से अधिक किसानों को भेजा एसएमएस, 61386 किसानों से हुई खरीदी
धान खरीदी के लिए बचे महज 9 दिन
खरीदी केन्द्र के चक्कर काट रहे किसान

बालाघाट

Published: January 05, 2022 09:57:57 pm

बालाघाट. जिले में समर्थन मूल्य पर धान खरीदी के लिए अब कुछ ही दिन शेष रह गए हैं। लेकिन विडम्बना यह है कि अधिकांश किसानों तक एसएमएस नहीं पहुंच पाया है। जबकि विभाग द्वारा धान खरीदी के लिए सभी किसानों को एसएमएस भेज दिया है। इनमें से कुछेक किसानों को दूसरी बार भी मेसेज दिया गया है। इधर, एसएमएस नहीं मिलने से किसानों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। जिसके लिए किसान धान खरीदी केन्द्रों के चक्कर काट रहे हैं।
जानकारी के अनुसार विभाग द्वारा १ लाख १७ हजार २८४ किसानों को मेसेज भेजा गया है। इनमें से अनेक किसान ऐसे हैं, जिन्हें दूसरी बार मेसेज भेजा गया है। लेकिन अनेक किसानों को मेसेज नहीं मिला है। जिसके कारण उन्हें काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। विभाग से मिली जानकारी के अनुसार अभी तक ६१३८७ किसानों से २८९२४५६ क्विंटल धान की खरीदी की जा चुकी है। जिसमें से १७३६१९६.८३ क्विंटल धान का ही परिवहन हो पाया है। जबकि शेष धान अभी भी खरीदी केन्द्रों में ही भंडारित है। इधर, विभाग द्वारा जिन किसानों से धान की खरीदी की गई है उन किसानों को ४५ करोड़ ३७ लाख रुपए का भुगतान भी कर दिया गया है। लेकिन राशि भी किसानों के खाते में नहीं पहुंच पाई है।
मेसेज की जानकारी लेने केन्द्र तक पहुंच रहे किसान
इधर, मेसेज नहीं मिलने पर परेशान किसान अब केन्द्रों तक पहुंच रहे हैं। जो केन्द्रों से अपने मेसेज की जानकारी ले रहे हैं। ताकि वे अपनी उपज को समर्थन मूल्य पर बेच सकें। केन्द्रों तक पहुंचे किसानों के अनुसार विभाग द्वारा भेजा गया एसएमएस उन्हें नहीं मिल पाया है। जिस पर केन्द्रों द्वारा उन्हें धान केन्द्र तक लाए जाने की बात कही जा रही है। उल्लेखनीय है कि जिले में बड़ी संख्या में ऐसे किसान हैं, जो अभी भी एसएमएस नहीं मिलने के चिलते अपनी उपज नहीं बेच पाए हैं।
भुगतान के लिए काट रहे चक्कर
जिन किसानों से धान की खरीदी हो चुकी हैं, उनमें से अधिकांश किसान अब भुगतान के लिए बैंक के चक्कर काट रहे हैं। समय पर राशि नहीं मिलने के कारण किसानों को परेशान होना पड़ रहा है। राशि के लिए बैंक के चक्कर काटने से जहां किसानों का समय बर्बाद हो रहा है। वहीं रबी कार्य भी समय पर नहीं हो पा रहा है। जबकि विभाग द्वारा जिन किसानों से धान खरीदी है, उन्हें भुगतान किए जाने का दावा किया जा रहा है। उल्लेखनीय है कि खरीदी केन्द्र से जब तक धान का परिवहन होकर भंडारण स्थल तक नहीं पहुंच जाता तब तक किसानों के खाते में राशि नहीं आती है। जिसके कारण किसानों को समय पर राशि नहीं मिल पा रही है।
9 से 12 तक जिले में हल्की वर्षा की संभावना
भारत मौसम विज्ञान विभाग के क्षेत्रीय कार्यालय भोपाल से कृषि विज्ञानं केंद्र बडग़ाव बालाघाट को प्राप्त पांच दिवसीय मध्यम श्रेणी मौसम पूर्वानुमान के अनुसार जिले में 9 से 12 जनवरी को हल्की वर्षा के साथ मध्यम बादल रहने की संभावना है। इस दौरान सापेक्ष आद्रता 56 से 80 प्रतिशत रहने की संभावना है। अधिकतम तापमान 24 से 27 डिग्री सेल्सियस तथा न्यूनतम तापमान 10 से 12 डिग्री से सेलिस्यस, हवा की गति 4.4 से 8.3 किलोमीटर प्रति घंटा दक्षिण पूर्व रहने की संभावना है। जिला कृषि मौसम इकाई ग्रामीण कृषि मौसम सेवा राणा हनुमानसिंह कृषि विज्ञान केन्द्र, बडग़ांव बालाघाट द्वारा यह जानकारी दी गई है।
एसएमएस नहीं मिलने से परेशान हो रहे किसान
एसएमएस नहीं मिलने से परेशान हो रहे किसान

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Subhash Chandra Bose Jayanti 2022: आज इंडिया गेट पर सुभाष चंद्र बोस की होलोग्राम प्रतिमा का PM Modi करेंगे लोकार्पणCovid-19 Update: भारत में कोरोना के 3.37 लाख नए मामले, मौत के आंकड़ों ने तोड़े सारे रिकॉर्डUP चुनाव में PM Modi से क्यों नाराज़ हो रहे हैं बिहार मुख्यमंत्री नितीश कुमारU19 World Cup: कौन है 19 साल का लड़का Raj Bawa? जिसने शिखर धवन को पछाड़ रचा इतिहासSubhash Chandra Bose Jayanti 2022: पढ़ें नेताजी सुभाष चंद्र बोस के 10 जोशीले अनमोल विचारCG-महाराष्ट्र सीमा पर चेकिंग में लगे पुलिस जवानों से मारपीट, कोरोना जांच पूछा तो गाली देते हुए वाहन सवार टूट पड़े कांस्टेबल परसरकार का बड़ा फैसला, नई नीति में आमजन व किसानों को टोल टैक्स से छूटछत्तीसगढ़ में 24 घंटे में 11 कोरोना मरीजों की मौत, दुर्ग में सबसे ज्यादा 4 संक्रमितों की सांसें थमी, ज्यादातार वे जिन्होंने वैक्सीन नहीं लगाया
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.