आवास घोटाले के ठेकेदारों पर दर्ज कराएं एफआईआर

पत्रिका खबर का असर-
पत्रिका ने १७ फरवरी को खबर का प्रमुखता से प्रकाशन कर उठाया था मुद्दाटीएल की

बैठक में कलेक्टर ने जारी किए सख्त निर्देश

By: mukesh yadav

Published: 01 Mar 2021, 09:06 PM IST

बालाघाट. जिले के आदिवासी बैगाओं के साथ आवास योजना के नाम पर छल करने वाले ठेकेदार पर एट्रोसिटी एक्ट के तहत मामला दर्ज किया जाएगा। पत्रिका में खबर का प्रमुखता से प्रकाशन होने के बाद कलेक्टर दीपक आर्य ने मामले को गंभीरता से लिया है। जिन्होंने सोमवार को समय सीमा (टीएल) की बैठक में प्रधानमंत्री आवास योजना की समीक्षा के दौरान यह निर्देश जारी किए। वहीं बैठक में उपस्थित आवास योजना की परियोजना अधिकारी नेतरा उके द्वारा दो मार्च को जिम्मेदार ठेकेदार के विरूद्ध एफआईआर करवा दिए जाने की बात कही है।
जानकारी के अनुसार आदिवासी बैहर जनपद क्षेत्र की ग्राम पंचायत उकवा पोंडी में प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत वर्ष २०१६ में बैगा कॉलोनी के नाम पर ३४ बैगाओं के आवास स्वीकृत किए गए थे। बैगाओं ने पंचायत के कहने पर ठेकेदारों को आवास निर्माण का ठेका दिया। ठेकेदार द्वारा स्वयं से आदिवासियों से बैंक पर्ची पर अंगूठा लेकर राशि का आहरण किया जाते रहा, लेकिन आवास का निर्माण पूर्ण नहीं किया। आवास के नाम पर बैगाओं से किए गए इस छल मामले को दबा भी दिया गया था। जानकारी पत्रिका को लगने पर पत्रिका ने अपने १७ फरवरी के अंक में में आवास के नाम पर आदिवासी बैगाओं से छल नामक शीर्षक से खबर का प्रमुखता से प्रकाशन किया। मामले को संज्ञान में लेकर निर्देश जारी किए गए हैं।
यह जारी किए गए निर्देश
कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में टीएल बैठक के दौरान कलेक्टर आर्य ने पीएम आवास योजना के अंतर्गत ग्राम पोंडी.उ एवं देवरबेली में हितग्राहियों से राशि लेने के बाद भी उनका आवास नहीं बनाने वाले ठेकेदारों के विरुद्ध एट्रोसिटी एक्ट के अंतर्गत थाने में प्ररकण दर्ज कराने के निर्देश दिए। इस पर जिला पंचायत की आवास योजना की परियोजना अधिकारी नेतरा उके ने बताया कि 01 मार्च को देवरबेली के ठेकेदार के विरुद्ध एफआईआर दर्ज कर ली जाएगी और 02 मार्च को पोंडी.उ के ठेकेदार के विरुद्ध एफआईआर दर्ज की जाएगी।

mukesh yadav Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned