किसानों की गुहार नहीं सुन रही सरकार

धान खरीदी के 4 दिन शेष, किसान नहीं बेच पाये उपज

तिरोड़ी। समर्थन मुल्य पर धान खरीदी की समय-सीमा अब महज 4 दिन शेष रह गई ह। लेकिन क्षेत्र के हजारों किसान अब तक अपनी उपज नहीं बेच पाए हैं। किसान सरकार से लगातार धान खरीदी की तिथि बढ़ाने की गुहार लगा रहे हैं। मगर, सरकार है कि किसानों की मांग को कोई तवज्जों नहीं दे रहे हैं। दरअसल, इस साल किसानों के साथ सरकार के अलावा प्रकृति ने भी बड़ा छल किया है। धान कटाई के बाद जब किसान अपनी उपज को बेचने के लिए तैयार कर रहा था तब अचानक होने वाले बारिश से किसान उपज नहीं बेच पाए। वहीं सरकार भी धान खरीदी के लिए पुख्ता बंदोबस्त करने में पुरी तरह से नाकाम साबित हुई। जिन खरीदी केन्द्रों में धान का भंडारण हुआ वहां से समय पर धान का उठाव नहीं होने के कारण खरीदी केन्द्र प्रभारियों ने खरीदी बंद कर दी। इस वजह से कई किसान परेशान हुए। जिन किसानों ने अपनी उपज केन्द्र में लाकर रखी उन किसानों को खुद रतजगा कर फसलों की सुरक्षा करनी पड़ी।
उल्लेखनीय है कि इस साल सरकार ने समर्थन मूल्य पर होने वाली धान खरीदी 15 दिन विलंब यानि 1 दिसबंर से शुरू की थी। इसके बावजूद खरीदी केन्द्रों में परिवहन, सुरक्षा के पर्याप्त बंदोबस्त नहीं किए गए थे। विधानसभा कटंगी में तो मैंपिग नहीं होने के कारण एक माह बीतने के बाद भी कई धान खरीदी केन्द्रों में खरीदी शुरू नहीं हो पाई थी, पंरतु इन खरीदी केन्द्रों के पंजीकृत किसानों को भी उपज बेचने के लिए अधिक समय नहीं दिया जा रहा है। सरकार ने धान खरीदी की एक सीमा तय कर रखी है। जिस पर सरकार आज भी बरकरार है। जबकि किसान अपनी उपज नही बेच पाए है। यहां पठार अंचल के दिग्धा, हरदोली, चाकाहेटी के कई किसान अपनी उपज ही नहीं बेच पाए। इन किसानों ने बताया कि वह मोबाइल पर संदेश (मैसेज) का इंजतार करते रहे लेकिन मैसेज ही नहीं आया। वहीं जिन किसानों को मैसेज आया था वह बारिश की वजह से धान की उपज को केन्द्र तक नहीं ले जा पाए थे।
विदित हो कि क्षेत्र के किसानों ने लगातार प्रशासन को ज्ञापन सौंपकर धान खरीदी की तिथि बढ़ाने की मांग की है। लेकिन अब तक खरीदी की तारिख नहीं बढ़ाई गई है जिससे किसानों में बेजा आक्रोश देखने को मिल रहा है। जानकारी अनुसार खरीदी केन्द्र कटंगी, बीसापुर, सिरपुर, भजियापार, अतरी-सांवगी, आगरवाड़ा, कटेरा, बनेरा, जराहमोहगांव, जाम, मानेगांव, खैरलांजी, धनकोषा, बोथवा, बम्हनी, टेकाड़ी, महकेपार, कुड़वा, कटेधरा, नांदी और परसवाड़ा सभी खरीदी केन्द्रों में अभी पंजीकृत किसानों ने अपनी उपज लाकर नहीं बेची है। यहां पंजीकृत किसान सरकार से खरीदी की तारिख बढ़ाने की मांग कर रहे है।

mukesh yadav Reporting
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned