आरोग्य हॉस्पिटल में आयकर विभाग का छापा

आय को लेकर मिली सूचना पर छिंदवाड़ा और बालाघाट आयकर विभाग की टीम ने शुक्रवार को आरोग्य हॉस्पिटल में छापा मारा है।

By: mukesh yadav

Published: 10 Nov 2017, 06:48 PM IST

बालाघाट। आय को लेकर मिली सूचना पर छिंदवाड़ा और बालाघाट आयकर विभाग की टीम ने शुक्रवार को डॉ आरके जैन और शुद्धात्म जैन के क्लिनिक आरोग्य हॉस्पिटल में छापा मारा है। जिसमें टीम उनके आय से जुड़े दस्तावेजों की जांच कर रही। हालांकि आयकर अधिकारी इसे रूटीन चेंकिंग बात रहे हैं। लेकिन जिस हिसाब से वरिष्ठ अधिकारी जांच के लिए पहुंचे है। उससे आशंका व्यक्त की जा रही है कि यह मामला आय से ज्यादा संपति का हो सकता है। बहर हाल आयकर अधिकारी जांच पूरी होने के बाद ही कुछ कहे जाने की बात कर रहे हैं।
कार्रवाई के दौरान ज्वाइंट कमिश्नर प्रशांत चौगले छिंदवाड़ा, एमएम लांजेवार डिप्टी कमिश्नर, निरीक्षक आयकर विभाग यूएस मर्सकोले शामिल रहे।

नगर में धूल से बढ़ा प्रदूषण
कटंगी। शहर की प्रगतिरत् सिवनी रोड इस समय यहां से प्रतिदिन गुजरने वाले 5 हजार लोगों एवं हजारों स्थानीय रहवासियों की परेशानी का कारण बन गई है। हालात यह है कि इस मार्ग पर पूरे दिन धूल के गुबार उठते रहते हैं। जिससे लोगों को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। वहीं धूल से होने वाले प्रदूषण को रोकने के लिए स्थानीय अधिकारी भी किसी प्रकार के कारगार कदम नहीं उठा रहे हैं। सिवनी रोड निवासियों के मुताबिक एक तरफ जहां सड़क बनाने का काम ठेकेदार धीमी गति से कर रहा है। वहीं दूसरी ओर इस मार्ग पर दिन भर वाहनों की आवाजाही से धूल उड़कर दुकानों और घरों के अंदर जा रही है। इस स्थिति में लोगों का जीना मुश्किल हो गया है। दुकानदारों के मुताबिक धूल दुकानों तथा घरों के अंदर रखे सामान पर जमा हो रही है तथा धूल के कण मुंह और नाक के जरिए शरीर के अंदर पहुंच रहे हैं। इससे लोगों के स्वास्थ्य पर विपरीत असर पड़ रहा है।
यहां अधिक परेशानी
जानकारी अनुसार सिनेमा चौक से लेकर कृष्ण मंदिर तक सड़क की हालात बहुत अधिक खराब होने की वजह से यहां लोगों का पैदल निकलना भी मुश्किल हो गया है। सिवनी रोड पर के धूल के गुबार हवा में उडऩे के कारण यहां काम करने वाले व्यापारी परेशान हैं। उनका कहना है कि धूल की वजह से सबसे ज्यादा परेशानी व्यापारी वर्ग को हो रही है। वे अपनी दुकान पर कोई भी सामान नहीं रख पा रहे हैं, क्योंकि वाहन निकलने पर सड़क से उडऩे वाली धूल दुकानों में समा जाती है। इससे सामान खराब हो रहा है। धूल से सनी हुई सामग्री को लेने में ग्राहक भी ऐतराज दिखाते है। स्थानीय लोगों का यह भी आरोप है कि ठेकेदार एवं स्थानीय प्रशासन, नगर परिषद् की लापरवाही के कारण सिवनी रोड के स्थानीय लोग धूल खाने को मजबूर हो रहे हैं।

mukesh yadav Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned