दूसरे दिन खरीदी केन्द्रों में लटके रहे ताले, नहीं शुरु हो पाई खरीदी

बैठक में कर्मचारियों की समस्याओं का निराकरण करने का कलेक्टर ने दिया आश्वासन

By: Bhaneshwar sakure

Published: 03 Dec 2019, 09:28 PM IST

बालाघाट. दो दिन बीत जाने के बाद भी जिले में समर्थन मूल्य पर धान की खरीदी शुरू नहीं हो पाई। दरअसल, मप्र सहकारी कर्मचारी महासंघ के आव्हान पर समिति कर्मचारियों द्वारा ९ सूत्रीय मांगों को लेकर धान खरीदी का विरोध किया जा रहा था। जिसके चलते दो दिनों तक केन्द्रों में ताले लटके रहे। इन केन्द्रों में धान का एक भी दाना नहीं खरीदा गया। विदित हो कि शासन के निर्देशानुसार २ दिसंबर से जिले में समर्थन मूल्य पर धान खरीदी शुरू की जानी थी। प्रशासन द्वारा खरीदी से संबंधित सभी तैयारियां पूर्ण कर लिए जाने और २ दिसंबर से खरीदी शुरू कर दिए जाने के दावे भी किए गए थे। लेकिन पहले और दूसरे दिन किसी भी केन्द्र में धान का एक दाना नहीं खरीदा गया।
मप्र सहाकरी कर्मचारी महासंघ के सचिव एमपी ठाकरे के मुताबिक को जिले के सभी १६९ खरीदी केन्द्रों में दोनों दिन में किसी भी प्रकार की धान खरीदी नहीं की गई। उन्होंनत बताया कि अपनी ९ सूत्रीय मांगों को लेकर सभी खरीदी कर्मचारियों द्वारा मप्र सहकारी कर्मचारी महासंघ भोपाल के बेनर तले मांगे पूरी होने तक खरीदी कार्य नहीं करने का निर्णय लिया गया है। इस कारण सोमवार और मंगलवार को किसी भी केन्द्र में धान की खरीदी नहीं की गई। उन्होंने बताया कि गत वर्ष समर्थन मूल्य पर धान खरीदी की समय सीमा के बाद एक हजार से अधिक किसानों का धान खरीदा गया था। जिसमें किसानों को ३५० रुपए प्रति क्विंटल का कम भुगतान किया गया था। इस राशि को समिति से वसूलने का फरमान जारी किया गया था। जिसके कारण भी कर्मचारी काफी आक्रोशित थे। इधर, पहले दिन ही समर्थन मूल्य पर धान की खरीदी नहीं होने पर कलेक्टर ने इन प्रदर्शनकारी कर्मचारियों की एक बैठक आयोजित की। इस बैठक में कलेक्टर ने कर्मचारियों को उनकी समस्याओं का निराकरण किए जाने का आश्वासन दिया। जिसके बाद से तीसरे दिन बुधवार को समर्थन मूल्य पर धान की खरीदी शुरू होने की संभावना है।
बैरंग लौटे किसान
समर्थन मूल्य पर धान खरीदी के दूसरे दिन अनेक केन्द्रों से किसान बैरंग लौटे। दरअसल, केन्द्रों में ताले लटके होने और वहां पर कोई नहीं होने से किसानों को जानकारी देने वाला कोई नहीं था। इस दौरान किसानों को परेशानियों का भी सामना करना पड़ा।
इनका कहना है
सहकारी कर्मचारियों की मांग का निराकरण किए जाने का आश्वासन कलेक्टर द्वारा दिया गया है। खरीदी केन्द्रों को लेकर जो समस्या सामने आई थी, उसका भी निराकरण कर लिया गया है। बुधवार से समर्थन मूल्य पर धान की खरीदी प्रारंभ हो जाएगी। इसके लिए डाटा ऑपरेटर को प्रशिक्षण भी दे दिया गया है।
-उदय सिंह नगपुरे, प्रशासक, जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक बालाघाट

Bhaneshwar sakure Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned