किशोरी की मौत के मामले के मामले में अब मॉ व नानी ने जताई हत्या की आशंका

mukesh yadav

Publish: Sep, 16 2017 09:15:54 (IST)

Balaghat, Madhya Pradesh, India
किशोरी की मौत के मामले के मामले में अब मॉ व नानी ने जताई हत्या की आशंका

पुलिस अधीक्षक से शिकायत कर मामले की निष्पक्ष जांच किए जाने की मांग, पूर्व में पिता ने जताई थी हत्या की आशंका, अपनी सांस का भी हाथ होने के लगाए थे आरोप

बालाघाट. शहर के स्नेह नगर में किराए का कमरा लेकर रही छात्रा अंजली करोसिया (१७) की गत ०३ सितंबर को फांसी के फंदे पर लटका शव बरामद किया गया था। इस मामले में कोतवाली पुलिस ने मर्ग दर्ज कर मामले को विवेचना में लिया था। इस मामले में शनिवार को नया मोड़ सामने आया है। इस मामले में अब मृतिका छात्रा की मॉ नीतू व नानी चंपाबाई ने पुलिस अधीक्षक कार्यालय पहुंचकर हत्या की आशंका जाहिर कर मामले की निष्पक्ष जांच की मांग की है।
जानकारी के अनुसार इसके पूर्व घटना दिनांक के दिन मृतिका अंजली के पिता बाबूलाल ने भी इस मामले में हत्या की आशंका जाहिर की थी। उस समय बाबूलाल ने किसी पंकज डहरवाल और अपनी सांस चंपाबाई पर हत्या का आरोप लगाया था। वहीं अब अंजली की मॉ व नाली ने हत्या की आशंका जाहिर की। पुलिस सभी परिजनों के बयान के आधार जांच कर रही है।
अलग-अलग रहते हैं पति-पत्नी
शिकायत करने पहुंची मॉ नीतू व नानी चंपाबाई ने बताया कि अंजली के पिता बाबूलाल आपराधिक प्रकरण के चलते सिवनी जेल में रहने के कारण नीतू अपनी मॉ चंपाबाई के साथ कटंगी वार्ड नंबर ९ में निवास करती है, जो कि नपा में दैवैभो कर्मचारी भी है। नीतू के साथ उसकी दो पुत्री सोनम व अंजली रहती थी। लेकिन इसके बाद कटंगी के ही कुछ संप्रभात लोगों द्वारा अंजली को बहला फुसलाकर व प्रलोभन देकर उसे अपने साथ बालाघाट ले जा लिया गया था। तब से वह बालाघाट में रहकर पढ़ाई कर थी। इस बीच उन्हें अखबार के माध्यम से जानकारी लगी कि उनकी बेटी अंजली की मौत हो गई। तब उन्होंने एसपी कार्यालय पहुंचकर मामले की शिकायत की है। वहीं इस मामले की जांच किए जाने की अपील की है।

परियोजना अधिकारी को हटाने का आदेश मिलने पर धरना स्थगित
बालाघाट. परियोजना अधिकारी निर्मलसिंह ठाकुर को हटाने का आदेश प्राप्त होने पर लालबर्रा में आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं व पर्यवेक्षकों द्वारा की जा रही हड़ताल स्थगित कर दी गई।
इस संबंध में श्रमिक नेता इकबाल अहमद कुरैशी ने बताया कि १२ सितम्बर से परियोजना अधिकारी ठाकुर के खिलाफ परियोजना कार्यालय के कर्मचारी, पर्यवेक्षकों व आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं के साथ अभद्र व्यवहार व जातिगत अपमानित करने से सामूहिक अवकाश लेकर परियोजना कार्यालय के समक्ष धरना आंदोलन किया जा रहा था। लेकिन १६ सितम्बर को कलेक्टर के आदेशानुसार निर्मलसिंह को परियोजना कार्यालय से हटाकर जिला कार्यालय एकीकृत बाल विकास सेवा बालाघाट में संलग्न किया गया है।
इस दौरान जिला पंचायत अध्यक्ष रेखा बिसेन ने भी कर्मचारियों की मांगों को जायज बताते हुए इस संबंध में संबंधित अधिकारियों से चर्चा कर मांगों का निराकरण कराने का आश्वासन दिया। इस अवसर पर संगठन के सचिव ललीता नागेश्वर, देवेन्द्र हरिनखेड़े सहित परियोजना कार्यालय के कर्मचारी व आंगनबाड़ी कार्यकर्ता उपस्थित रहे।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned