scriptMahaparva of Goddess Worship from Navratri 2 | देवी आराधना का महापर्व नवरात्रि 2 से | Patrika News

देवी आराधना का महापर्व नवरात्रि 2 से

कालीपाट मंदिर में 651, त्रिपुर सुंदरी मंदिर 311 ज्योतिकलशों की होगी स्थापना

बालाघाट

Published: April 01, 2022 09:36:22 pm

बालाघाट. देवी आराधना का महापर्व नवरात्रि 2 अप्रैल से शुरू हो रही है। इस वर्ष 9 दिनों की नवरात्रि है। इन 9 दिनों में मां के नौ दिव्य रूपों की पूजा की जाएगी। नवरात्रि के पहले दिन कलश की स्थापना की जाती है। इसके पहले दिन को हिंदू नव वर्ष की शुरुआत के रूप में भी मनाया जाता है। नवरात्रि पर्व पर नगर मुख्यालय स्थित कालीपाट मंदिर में 651, त्रिपुर सुंदरी मंदिर में 311 ज्योतिकलशों की स्थापना की जाएगी।
पंडित राजेश दुबे नवेगांव के अनुसार इस बार 2 अप्रैल से शुरू होकर 11 अप्रैल तक रहेगी। 11 अप्रैल को ये पारण के साथ समाप्त होगी। 9 दिनों की नवरात्रि होगी। इन पूरे 9 दिनों में मां के 9 रूपों की आराधना की जाती है। शास्त्रों में 9 दिनों की नवरात्रि को बहुत शुभ माना गया है। इस बार मां घोड़े पर सवार होकर आएंगी। ये नवरात्रि चैत्र माह के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि से शुरू होती है और नवमी तक चलती है। दशमी तिथि को पारण करने के बाद ये व्रत पूरा माना जाता है। नवरात्रि की तिथियां कई बार घटती-बढ़ती है। कोई तिथि 24 घंटे से अधिक तो कोई 12 घंटे से कम भी हो सकती है। आमतौर पर नवरात्रि की सामान्य अवधि 9 दिनों की होती है लेकिन कभी-कभी तिथियां बढऩे पर नवरात्रि 10 दिनों की हो जाती है और घटने या लोप होने पर ये 8 या 7 दिन की भी हो जाती है।
डॉ. प्रो. अरविन्द चंद्र तिवारी ज्योतिषाचार्य के अनुसार हर घर में नवरात्रि के पहले दिन कलश स्थापना की जाती है, इसे घटस्थापना भी कहते हैं। इस बार नवरात्रि घटस्थापना का मुहूर्त 2 अप्रैल शनिवार को सुबह 7 बजकर 30 मिनट से 9 बजे और दोपहर में 11.36 से 12.24 बजे तक अभिजीत मुहूर्त शुभ है। कलश स्थापना प्रतिपदा यानी नवरात्रि के पहले दिन देवी शक्ति की पूजा के साथ की जाती है। ऐसी मान्यता है कि अगर ये पूजा शुभ मुहूर्त में न हो, तो मां अप्रसन्न हो जाती हैं। इसलिए कलश स्थापना हमेशा शुभ मुहूर्त में ही करनी चाहिए। दोपहर में 12 बजे से चर, लाभ, अमृत के चौघडिय़ा में भी स्थापना कर सकते है। कलश स्थापना का सबसे उत्तम समय दिन का पहला एक तिहाई हिस्सा होता है। किसी दूसरी स्थिति में अभिजीत मुहूर्त सबसे उत्तम माना गया है।
देवी आराधना का महापर्व नवरात्रि 2 से
देवी आराधना का महापर्व नवरात्रि 2 से

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

नाम ज्योतिष: ससुराल वालों के लिए बेहद लकी साबित होती हैं इन अक्षर के नाम वाली लड़कियांभारतीय WWE स्टार Veer Mahaan मार खाने के बाद बौखलाए, कहा- 'शेर क्या करेगा किसी को नहीं पता'ज्योतिष अनुसार रोज सुबह इन 5 कार्यों को करने से धन की देवी मां लक्ष्मी होती हैं प्रसन्नइन राशि वालों पर देवी-देवताओं की मानी जाती है विशेष कृपा, भाग्य का भरपूर मिलता है साथअगर ठान लें तो धन कुबेर बन सकते हैं इन नाम के लोग, जानें क्या कहती है ज्योतिषIron and steel market: लोहा इस्पात बाजार में फिर से गिरावट शुरू5 बल्लेबाज जिन्होंने इंटरनेशनल क्रिकेट में 1 ओवर में 6 चौके जड़ेनोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेर

बड़ी खबरें

Azam Khan Release: दो साल बाद जेल से रिहा हुए आजम खान, दोनों बेटों ने किया रिसीव, शिवपाल भी पहुंचेGyanvapi Masjid Row: ज्ञानवापी मामले पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई आज, हिंदू-मुस्लिम पक्ष रखेंगे अपने-अपने तर्कExclusive: ज्ञानवापी सर्वे रिपोर्ट से मंदिर-मस्जिद के सबूतों का नया अध्याय, जानें क्या है इन सर्वे रिपोर्ट मेंJammu Kashmir: रामबन में जम्मू-श्रीनगर हाईवे पर निर्माणाधीन सुरंग का एक हिस्सा ढहा, 7 लोग फंसे, रेस्क्यू ऑपरेशन जारीभाजपा राष्ट्रीय पदाधिकारी बैठक: नड्डा ने दिया एकजुटता का संदेश, आज पीएम मोदी बताएंगे जीत का फॉर्मूलाGood News: AIIMS दिल्ली में अब 300 रुपए तक के टेस्ट होंगे मुफ्तIPL 2022, RCB vs GT: Virat Kohli का तूफान, RCB ने जीता मुकाबला, प्लेऑफ की उम्मीदों को लगे पंखBRICS Summit: ब्रिक्स देशों के शिखर सम्मेलन में शामिल हुए भारत के विदेश मंत्री जयशंकर ने उठाया आतंकवाद का मुद्दा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.