पहले कागजों में तैयार किया मीनाक्षी तालाब

पहले कागजों में तैयार किया मीनाक्षी तालाब

Bhaneshwar sakure | Publish: Jun, 14 2018 01:29:25 PM (IST) Balaghat, Madhya Pradesh, India

अधिकारियों के आने की सूचना मिलते ही रातोंरात कर दिया खनन,जिला पंचायत सीईओ ने किया स्थल निरीक्षण

बालाघाट. जनपद पंचायत वारासिवनी के अंतर्गत ग्राम पंचायत एकोड़ी में सरपंच-सचिव ने अधिकारियों से सांठ-गांठ कर कागजों में ही मीनाक्षी तालाब का निर्माण कर दिया। विडम्बना यह है कि इस तालाब निर्माण का न केवल मस्टर रोल भी जारी हो गया। बल्कि स्थल परीक्षण होने के साथ-साथ मजदूरी का भुगतान भी कर दिया गया। इस तालाब निर्माण कार्य में २३० मजदूरों को दो अलग-अलग मस्टररोल के माध्यम से ४ लाख ६३ हजार ३५२ रुपए का भुगतान किया गया है। इस मामले की ग्राम पंचायत एकोड़ी के पंच कमलेश हरिनखेड़े, ग्रामीण सौरभ हरिनखेड़े ने मंगलवार को कलेक्टर से शिकायत भी की है। जिसकी जांच के लिए बुधवार को जिला पंचायत सीईओ मंजूषा राय अन्य अधिकारियों के साथ जांच के लिए ग्राम पंचायत एकोड़ी पहुंची थी।
जानकारी के अनुसार ग्राम पंचायत एकोड़ी में सरपंच-सचिव ने एकोड़ी निवासी शांतिलाल पिता बीपतलाल के नाम से मीनाक्षी तालाब स्वीकृत किया था। यह तालाब ५ लाख ५१ हजार रुपए की लागत से तैयार किया जाना था। लेकिन बगैर किसी कार्य के ही १७ मार्च २०१८ और १८ मई २०१८ तक दो मस्टररोल क्रमांक १०५३३, ७६० के माध्यम से २३० मजदूरों को ४ लाख ६३ हजार ३५२ रुपए का भुगतान कर दिया गया। जिस स्थान पर सरपंच-सचिव ने मीनाक्षी तालाब का निर्माण होना दर्शाया है, वहां पिछले कई वर्षों से पुराना तालाब था। इसी स्थान पर कागजों में निर्माण कार्य दर्शाकर फर्जी जिओ टेगिंग अतिरिक्त कार्यक्रम अधिकारी द्वारा की गई। वहीं मस्टररोल जनरेट कर भुगतान कर दिया गया।
जेसीबी मशीन लगाकर कर दी खुदाई
इधर, मंगलवार को इस मामले की शिकायत की जानकारी मिलते ही सरपंच-सचिव ने रातोंरात उक्त स्थान पर जेसीबी मशीन लगाकर खनन का कार्य किया है। ताकि जांच में उक्त स्थान पर मीनाक्षी तालाब के निर्माण होने के संकेत मिल सकें। हालांकि, बुधवार को जिला पंचायत सीईओ सहित अन्य अधिकारी मौके पर पहुंचे। उन्होंने स्थल का निरीक्षण किया। लेकिन जांच के मामले में उन्होंने कुछ भी कहने से इंकार कर दिया।
मीनाक्षी तालाब का कागजों में निर्माण
सरपंच-सचिव ने अधिकारियों के साथ सांठ-गांठ कर कागजों में ही मीनाक्षी तालाब का निर्माण कर दिया। तालाब निर्माण की राशि का फर्जी तरीके से आहरण कर अफरा-तफरी कर दी। इस मामले में दोषियों पर कार्रवाई होना चाहिए।
-सौरभ हरिनखेड़े, ग्रामीण
करीब ४.५० लाख रुपए के मीनाक्षी तालाब का कागजों में निर्माण किया गया है। फर्जी तरीके से मस्टर रोल जारी कर उसका भुगतान भी कर लिया गया है। इस फर्जीवाड़े में अधिकारियों की भी सांठगांठ है। मामले की निष्पक्ष जांच होनी चाहिए।
-कमलेश हरिनखेड़े, पंच, ग्राम पंचायत एकोड़ी
इस मामले की शिकायत मिलने पर बुधवार को स्थल का निरीक्षण किया गया है। अभी जांच की जा रही है। जांच में जो तथ्य सामने आएंगे, उसके आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी।
-मंजूषा राय, सीईओ, जिला पंचायत बालाघाट

Ad Block is Banned