मोमबत्ती लेकर कलेक्ट्रेट पहुंचे लिपिक, सौंपा ज्ञापन

ग्रेड-पे उन्नयन किए जाने की मांग

By: mukesh yadav

Published: 20 Jul 2018, 09:02 PM IST

बालाघाट. मप्र लिपिक वर्गीय शासकीय कर्मचारी जिला संघ के पदाधिकारियों ने शुक्रवार को एक बार फिर वेतन विसंगती की मांग को लेकर मुख्यमंत्री व प्रमुख सचिव मप्र शासन के नाम संबोधित ज्ञापन अपर कलेक्टर को सौंपा है। संघ के सभी लिपिक कर्मचारी मोमबत्ती जलाकर कलेक्ट्रेट पहुंचे। यहां उन्होंने अपर कलेक्टर शिवगोविंद मरकाम को ज्ञापन सौंपकर मांगे पूरी करवाए जाने की बात कही।
ज्ञापन में लिपिकोंं ने बताया कि विगत समय अध्यापक, पंचायत सचिव, होमगार्ड, पेंशनर्स, आंगनवाड़ी कार्यकर्ता इत्यादि का वेतन वृद्धि की गई है। अभी २९ मई १८ की केबीनेट ने एक साथ ४६ संवर्गो की ग्रेड पे बढ़ाई है। लेकिन न जाने क्यो मप्र के लिपिक वर्ग की वेतन विसंगति का मुद्दा निरंतर शासन के ध्यान से छूटता जा रहा है। लिपिको के अनुसार पटवारी, सहायक शिक्षक, एमपीडब्लू, एएनएम, व्हीएफए, ग्राम सेवक, ग्राम सहायक ये सब संवर्ग लिपिक से कम थे। अब अधिक वेतन पर हो गए है। लेकिन यहां पर पारस्परिक सापेक्षता ध्यान नहीं रखा गया है। लिपिकों ने ज्ञापन के माध्यम से मांग की है कि लिपिकों की समस्याओं का अध्ययन करने हेतू रमेशचंद्र शर्मा समिति गठित की गई थी। जिसके प्रतिवेदन में लिपिक हितैषी २३ अनुशंसाए है। लेकिन ये अनुशंसाए लागू नहीं की जा रही है। जिसे शीघ्र लागू किया जाए। वहीं अन्य संवर्गो के अनुसार लिपिको का भी ग्रेड पे उन्नयन किया जाए।
ज्ञापन के दौरान संगठन के अध्यक्ष योगेन्द्र सिंह तोमर के साथ ही कार्यकारी अध्यक्ष महेश पंवार, एसके नाथ, एलसी करवते, राजेन्द्र खरे, कदीर खान, शेख हबीब, वीएन कावरे, एसएस तिवारी, देवेन्द्र मंसूरे, उमेश पंचेश्वर, अनिल शर्मा, एफसी राहंगडाले, एसएस तिवारी, देवेन्द्र मंसूरे, एके झा, राजेन्द्र गिरी, विनोद वर्मा महेश पंवार, एसएस तिवारी, देवेन्द्र मंसूरे, एसके नाथ, एलसी करवते, राजेन्द्र खरे, कदीर खान, शेख हबीब, वीएन कावरे, उमेश पंचेश्वर, अनिल शर्मा, एफसी राहंगडाले, एसएस तिवारी, देवेन्द्र मंसूरे, सहित संगठन के अन्य पदाधिकारीगण शामिल रहे।

mukesh yadav Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned