अन्य पिछड़ा वर्ग पोस्टमैट्रिक बालक/बालिका छात्रावास खोले जाने गुहार

अन्य पिछड़ा वर्ग पोस्टमैट्रिक बालक/बालिका छात्रावास खोले जाने गुहार
अन्य पिछड़ा वर्ग पोस्टमैट्रिक बालक/बालिका छात्रावास खोले जाने गुहार

Mahesh Kumar Doune | Updated: 17 Sep 2019, 07:31:44 PM (IST) Balaghat, Balaghat, Madhya Pradesh, India

जिले की तहसील वारासिवनी में अन्य पिछड़ा वर्ग पोस्टमैट्रिक बालक/बालिका छात्रावास खोले जाने कलेक्टर को ज्ञापन सौंपा गया।

बालाघाट. जिले की तहसील वारासिवनी में अन्य पिछड़ा वर्ग पोस्टमैट्रिक बालक/बालिका छात्रावास खोले जाने कलेक्टर को ज्ञापन सौंपा गया। अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के पदाधिकारियों ने 17 सितम्बर को पिछड़ा वर्ग एवं अल्पसंख्यक कल्याण विभाग आयुक्त के नाम कलेक्टर दीपक आर्य को ज्ञापन सौंपा।
इस दौरान अभाविप के पदाधिकारियों ने बताया कि वारासिवनी विधानसभा अतंर्गत ९० ग्राम पंचायत आती है। जहां पर महज एक उच्च शैक्षणिक संस्थान शंकरसाव पटेल महाविद्यालय है। यहां अध्ययनरत छात्र-छात्राओं की संख्या करीब 2000 है। महाविद्यालय में प्रवेश प्रक्रिया में भारी मशक्कत के बाद भी नव प्रवेशित विद्यार्थियों की संख्या में हर वर्ष बढ़ोत्तरी हो रही है। महाविद्यालय में दर्ज संख्या के मुकाबले पोस्ट मैट्रिक छात्रावास की संख्या काफी कम है जो ङ्क्षचताजनक है। क्षेत्र में खासकर अन्य पिछड़ा वर्ग के लोग अधिक निवास करते है। ओबीसी वर्ग के छात्र-छात्राएं ज्यादातर ग्रामीण अंचलों के है। जिनको अध्ययन के लिए काफी लंबा सफर तय करना होता है। ऐसे में उनको मजबूरन किराए का कमरा लेकर रहना पड़ता है। आर्थिक परेशानियों के चलते ग्रामीण अंचल के अधिकांश छात्र-छात्राएं पढ़ाई अधर में छोडऩे मजबूर हो जाते है। उन्होंने शासन-प्रशासन से इस समस्या को गंभीरता से लेते हुए शीघ्र मांगों का निराकरण करने गुहार लगाई है।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned