scriptPaddy stored in the open gets wet due to unseasonal rain, farmers upse | बेमौसम बारिश से खुले में भंडारित धान भीगी, किसान भी हुए परेशान | Patrika News

बेमौसम बारिश से खुले में भंडारित धान भीगी, किसान भी हुए परेशान

क्षति का आंकलन करने में जुटा प्रशासन
धीमी गति से हो रहा धान का परिवहन
आसमान पर छाए रहे काले बादल, बारिश की चेतावनी

बालाघाट

Published: December 29, 2021 11:28:09 pm

बालाघाट. बेमौसम बारिश और ओलावृष्टि से खरीदी केन्द्रों में खुले में भंडारित धान भीग गई है। इससे शासन को लाखों रुपए की क्षति हुई है। हालांकि, प्रशासन धान की क्षति होने का आंकंलन कर रहा है। इधर, बेमौसम बारिश ने जहां प्रशासन की पोल खोल दी। वहीं बारिश व ओलावृष्टि से किसानों को भी काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा। वहीं खरीदी केन्द्रों में बिक्री के लिए लेकर गए किसानों की धान भी भीग गई। इसके कारण भी किसानों को काफी नुकसान हुआ है।
जानकारी के अनुसार जिले में समर्थन मूल्य पर २२ लाख क्विंटल से अधिक की धान की खरीदी की गई है। लेकिन समय पर धान का परिवहन नहीं होने केे कारण अधिकांश धान केन्द्रों में ही खुले में ही भंडारित है। मंगलवार की देर शाम और रात्रि में हुई बारिश से इन खरीदी केन्द्रों में भंडारित अधिकांश धान भीग गई है। जिससे प्रशासन को काफी क्षति हुई है। हालांकि, प्रशासन द्वारा धान की क्षति का आंकलन कर रहा है। इधर, खरीदी केन्द्रों द्वारा धान की सुरक्षा के लिए पॉलीथिन ढकी गई थी, लेकिन समितियों की इस व्यवस्था की पोल बेमौसम बारिश ने खोल दी है।
जिले में 24 मिमी वर्षा रिकार्ड
मौसम विभाग द्वारा बालाघाट जिले में 2 जनवरी तक हल्की से मध्यम वर्षा होने और आसमान में बादल छाए रहने की संभावना बताई गई है। 29 दिसंबर को सुबह 8 बजे समाप्त हुए 24 घंटे के दौरान जिले में 24 मिमी औसत वर्षा रिकार्ड की गई है। बीते 24 घंटे में तहसील कटंगी में 23 मिमी, वारासिवनी में 38 मिमी, बिरसा में 20 मिमी, तिरोड़ी में 61 मिमी, लांजी में 10 मिमी, बैहर में 30 मिमी, किरनापुर में 6 मिमी, परसवाड़ा में 21 मिमी, बालाघाट में 28 मिमी, तहसील खैरलांजी में ८ मिमी वर्षा रिकार्ड की गई है। जिले में किसानों द्वारा इन दिनों खेतों में रबी फसलेे लगाई गई है। कम वर्षा होने के कारण इससे रबी फसलों को लाभ ही होगा। वर्तमान में उत्तरी पाकिस्तान के ऊपर पश्चिमी विक्षोभ समुद्र तल से 3.1 किमी की ऊंचाई पर एक चक्रवातीय परिसंचरण के रूप में ट्रफ के साथ सक्रिय है। इसके प्रभाव में प्रेरित चक्रवातीय परिसंचरण दक्षिण-पश्चिमी राजस्थान के ऊपर सक्रिय है, जिससे होकर मध्य प्रदेश और तेलंगाना तक ट्रफ लाइन भी गुजर रही है। साथ ही मध्य उत्तर प्रदेश के ऊपर भी चक्रवातीय परिसंचरण सक्रिय है। इनके कारण प्रदेश के मुख्यत: उत्तरी, मध्य और पूर्वी क्षेत्रों में तड़ित झंझावात ओलावृष्टि का मौसम सक्रिय है।
बेमौसम बारिश से खुले में भंडारित धान भीगी, किसान भी हुए परेशान
बेमौसम बारिश से खुले में भंडारित धान भीगी, किसान भी हुए परेशान

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Assembly Election 2022: चुनाव आयोग का फैसला, रैली-रोड शो पर जारी रहेगी पाबंदीगोवा में बीजेपी को एक और झटका, पूर्व सीएम लक्ष्मीकांत पारसेकर ने भी दिया इस्तीफाUP चुनाव में PM Modi से क्यों नाराज़ हो रहे हैं बिहार मुख्यमंत्री नितीश कुमारसुरक्षा एजेंसियों की भुज में बड़ी कार्यवाही, 18 लाख के नकली नोटों के साथ डेढ़ किलो सोने के बिस्किट किए बरामदUP Assembly Elections 2022 : टिकट कटा तो बदली निष्ठा, कोई खोल रहा अपने नेता की पोल तो कोई दे रहा मरने की धमकीPunjab Election 2022: भगवंत मान का सीएम चन्नी को चैलेंज, दम है तो धुरी सीट से लड़ें चुनावUP चुनाव आयोग ने हटाए 3 जिलों में DM, SP, शिकायतों पर एक्शनIIT Madras का 'परख' ग्रामीण व दुर्गम स्थानों में करेगा Corona की जांच
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.