scriptPannalal became an angel by taking the pledge of donating the body | देहदान का संकल्प लेकर पन्नालाल बने देवदूत | Patrika News

देहदान का संकल्प लेकर पन्नालाल बने देवदूत

जीते जी दूसरों के काम आ रहे, मरने के बाद भी जीवन बचाना लक्ष्य

बालाघाट

Published: May 01, 2022 09:50:29 pm

बालाघाट. महापुरुषों ने कहा है कि जीवन ज्यादा लंबा होने से अच्छा है कि छोटा हो, लेकिन उपयोगी हो। मौत आने के बाद भी लगे कि मानव जीवन के कर्ज और व मातृभूमि का ऋण चुका दिया। ऐसे ही सोच के धनी हंसमुख स्वभाव के परिचायक पूर्व सीआरपीएफ जवान, ग्रापं पाथरी के वर्तमान सरपंच, पर्यावरण संरक्षण प्रेमी पन्नालाल नगपुरे आम लोगों से जुदा है। जिनके मानवसेवी कार्य समाज के लिए सराहनीय है। जिले व क्षेत्र की आम जनता सरपंच पन्नालाल नगपुरे को इस भूमिका में देखते हैं। सरपंच पन्नालाल नगपुरे ने मरने के बाद देहदान का निर्णय लिया है। उन्होंने गोंदिया मेडिकल कॉलेज पहुंचकर शरीर रचना शास्त्र सहायक प्रध्यापक डॉक्टर योगेश गणोरकर, लैब टैक्नीशियन नितिन राहंगडाले को देहदान का प्रतिज्ञा वचन पत्र अपने जन्मदिन के अवसर पर सौंपा।
सरपंच पन्नालाल नगपुरे बताते हैं कि अगर मेरे निर्जीव शरीर से आज के युवा काबिल डॉक्टर बनेंगे तो उससे बड़ा पूण्य का कोई कार्य नहीं हो सकता। डॉक्टरों की भूमिका इस कोरोनाकाल में देख चुके हैं। डॉक्टर अपनी जान की परवाह न करते हुए वे भगवान बनकर मानव जाति को बचाने का कार्य किए है। अगर उनके मृत शरीर में शोध करके दो भी काबिल डॉक्टर बन जाते हैं तो उनका पूरा जीवन सार्थक हो जाएगा। उन्होंने बताया कि उनके इस निर्णय से परिवार के पूरे सदस्य असहमत थे। समझाने में मान गए, लेकिन उनकी पत्नी ने दो टुक कह दिया कि वे देहदान करने नहीं देंगी। इसके बाद उन्होंने अपनी पत्नी को बताया कि उसे (पत्नी) को दो बार ऑपरेशन कर डाक्टरों ने बचाया हैं वही कर्ज उतारने देहदान कर रहे हैं। परिजनों को बताया कि डॉक्टर मृत शरीर पर कई शोध करते हैं और हजारों जिंदगियां बचाते हैं। अगर मरने के बाद किसी के काम आ सकें तो इससे बड़ा धर्म और मानवीय सेवा पृथ्वी में नहीं हो सकता। सरंपच पन्नालाल नगपुरे ने बताया कि दो साल पहले युवा हितेश अजीत ने नेत्रदान का संकल्प लिया था। उसी से प्रेरित होकर उन्होंने अपने जन्मदिन के अवसर पर देहदान का संकल्प लिए हैं।
गौरतलब है कि पन्नालाल नगपुरे का ब्लड ग्रूप बी निगेटिव है, जो असाधारण ब्लड ग्रूप है। पन्नालाल वर्तमान में सरपंच व कपड़ा व्यवासायी होने के साथ-साथ दो छोटे बच्चे के पिता की जिम्मेदारी संभालते है। इन सबके बीच जब भी पन्नालाल नगपुरे को पता चलता है कि अमुक जरूरतमंद को रक्त की जरूरत है तो वे अपने महत्वपूर्ण कामों को छोड़कर दूसरों का जीवन बचाने निकल पड़ते हैं।
देहदान का संकल्प लेकर पन्नालाल बने देवदूत
देहदान का संकल्प लेकर पन्नालाल बने देवदूत

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

17 जनवरी 2023 तक 4 राशियों पर रहेगी 'शनि' की कृपा दृष्टि, जानें क्या मिलेगा लाभज्योतिष अनुसार घर में इस यंत्र को लगाने से व्यापार-नौकरी में जबरदस्त तरक्की मिलने की है मान्यतासूर्य-मंगल बैक-टू-बैक बदलेंगे राशि, जानें किन राशि वालों की होगी चांदी ही चांदीससुराल को स्वर्ग बनाकर रखती हैं इन 3 नाम वाली लड़कियां, मां लक्ष्मी का मानी जाती हैं रूपबंद हो गए 1, 2, 5 और 10 रुपए के सिक्के, लोग परेशान, अब क्या करें'दिलजले' के लिए अजय देवगन नहीं ये थे पहली पसंद, एक्टर ने दाढ़ी कटवाने की शर्त पर छोड़ी थी फिल्ममेष से मीन तक ये 4 राशियां होती हैं सबसे भाग्यशाली, जानें इनके बारे में खास बातेंरत्न ज्योतिष: इस लग्न या राशि के लोगों के लिए वरदान साबित होता है मोती रत्न, चमक उठती है किस्मत

बड़ी खबरें

पूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिंदबरम के बेटे के घर पर CBI की रेड, कार्ति बोले- कितनी बार हुई छापेमारी, भूल चुका हूं गिनतीकुतुब मीनार और ताजमहल हिंदुओं को सौंपे भारत सरकार, कांग्रेस के एक नेता ने की है यह मांगकोर्ट में ज्ञानवापी सर्वे रिपोर्ट पेश होने में संशय, दूसरी ओर सुप्रीम कोर्ट में एक बजे सुनवाई, 11 बजे एडवोकेट कमिश्नर पहुंचेंगे जिला कोर्टहरियाणा: हरिद्वार में अस्थियां विसर्जित कर जयपुर लौट रहे 17 लोग हादसे के शिकार, पांच की मौत, 10 से ज्यादा घायलConstable Paper Leak: राजस्थान कांस्टेबल परीक्षा रद्द, आठ गिरफ्तार, 16 मई के पेपर पर भी लीक का सायाShivling In Gyanvapi: असदुद्दीन ओवैसी का अजीबोगरीब दावा, ज्ञानवापी में शिवलिंग नहीं, फव्वारा मिलाशिवलिंग मिलने के बाद वायरल हुआ ज्ञानवापी का वीडियों, आप खुद ही देखें क्या है सच्चाईनारी शक्ति : दूल्हे और उसके दोस्तों का हुड़दंग देखकर दुल्हन ने लौटाई बारात, दूसरे के संग लिए फेरे
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.