लॉक डाउन लगते ही दोगुना हुए फल व सब्जियों के दाम

टैक्सियों के चालक भी किराए के नाम पर मचा रहे लूट
२५-३० किमी के सफर के ले रहे ढाई सौ से तीन सौ रुप

By: mukesh yadav

Published: 12 Apr 2021, 08:40 PM IST


बालाघाट. जिले में एक बार फिर कोरोना आपदा को अवसर बनाते हुए सब्जी-फल विक्रेताओं और टैक्सी चालकों ने आमजनों से लूट मचानी शुरू कर दी है। पिछले फरवरी से मार्च माह में सब्जियों के दाम जहां ४० रुपए प्रति किलो के अंदर थे, वहीं अप्रैल माह में इनके दाम ८० रुपए से लेकर १०० रुपए तक कर दिए गए हैं। इसी तरह के हाल फलों के भी किए गए हैं। फलों के दामों में भी बेहतासा वृद्धि कर ३० से ६० रुपए मिलने वाले फलों के मूल्य अब ८० से १२० रुपए प्रति किलो विक्रय किए जा रहे हैं।
आमजनों और मजबूरों से मनमानी लूट किए जाने के मामलों में सबसे आगे टैक्सी चालक हैं। बस, रेल सहित अन्य परिवहन सेवा बंद कर दिए जाने से टैक्सी चालक दो से तीन गुना तक अधिक किराया यात्रियों से वसूल रहे हैं। इधर कोरोना महामारी के बचाव कार्य में व्यस्त अधिकारियों का इस ओर बिलकुल भी ध्यान नहीं है। पिछले बार लॉक डाउन में जिस तरह से राजस्व अधिकारियों ने सभी का मूल्य निर्धारण किया था, लेकिन इस बार ऐसा कुछ नहीं किया जा रहा है। इन सब बातों का खामियाजा मजबूरी में फसे लोगों को अपनी मेहनत की गाढ़ी कमाई गंवा कर भुगताना पड़ रहा है।
२५-३० किमी. सफर के तीन सौ रुपए
लॉक डाउन लगते ही मजदूरी करने गांवों से शहरी इलाकों व जनपद मुख्यालय में पहुंचे मजदूर जिले में ही अपने गांव वापस लौटने लगे हैं। जिसका पूरा फायदा टैक्सी चालक उठा रहे हैं। खासकर महाराष्ट्र और छग सीमाओं पर टैक्सी चालकों ने खुली छूट मचा रखी है। रजेगांव बार्डर से ताजे मामले सामने आ रहे हैं। यहां रजेगांव से किरनापुर, लांजी, हट्टा सहित अन्य २५ से ३० किमीं रेंज के गांवों तक परिवहन किए जाने के नाम पर यात्रियों से ढाई सौ से तीन सौ रुपए तक लिए जा रहे हैं। वहीं मौके पर मौजूद अधिकारी भी यात्रियों से की जा रही लूट की ओर खामोश बने हुए हैं।
पैदल सफर कर रहे मुसाफिर
टैक्सी चालकों की मनमानी से सर्वाधिक परेशानी गरीब तबके के लोगों और दिहाड़ी मजदूरी कर परिवार का पालन करने वालों को हो रही है। जिनके द्वारा ऐसे टैक्सी चालकों की टैक्सियों में सफर न कर पैदल चलना ही मुनासिब समझा जा रहा है। इस कारण खासकर रजेगांव बार्डर से लांजी, किरनापुर सहित अन्य आस पास के गांवों तक जाने ग्रामींणों को पैदल सफर करते देखा जा रहा है। चिलचिलाती धूप में बाल बच्चों व पूरे परिवार के साथ लोग पैदल ही अपने घरों तक जा रहे हैं।
इधर मंडी में उमड़ी भीड़
जानकारी के अनुसार कोरोना संक्रमण में वृद्धि को देखते हुए पहले शनिवार व रविवार दो दिनों का लॉक डाउन लगाया गया था। इसके बाद प्रदेश सरकार के निर्देश पर लॉ डाउन को २२ तक बढ़ा दिया गया। इस बीच सोमवार को शहर का प्रमुख इतवारी बाजार की मंडी खुली, इस दौरान बड़ी संख्या में लोग १० दिनों तक के लिए राशन पानी व सब्जियों की खरीदारी करने पहुंचे। बाजार में भीड़ बढऩे की सूचना मिलने पर पुलिस को बाजार में उतरना पड़ा और पुलिस कर्मचारियों ने नियमों पालन करते हुए खरीदी करवाई और मार्केट को नियमानुसार बंद करवाया।

फैक्ट फाइल- फल व सब्जियों के मार्च व अप्रैल माह में बढ़े दामों के आंकड़े।
फलों के दाम- प्रति किलो
फल मार्च अप्रैल
सेब ३० ५०
अंगूर ३० ५०
अनार २५ ५०
चीकू ४० ८०
संतरा ५५-६० ८०-१००

सब्जियों के दाम- प्रति किलो
सब्जी मार्च अप्रैल
आलू १०-१२ १५-२० रु
प्याज ११-१५ १८-२० रु
टमाटर ०५-०८ १५-२० रु
बरबटी ३५-४० ५०-६०
गोभी २५-३० ३५-४०
पालक १५-२० ७०-८०
लौकी २०-२५ ४५-५०
भिंडी २०-२५ ३५-४०

mukesh yadav Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned