सड़क को लेकर भड़का जनाक्रोश, तपती धूप में किया चकाजाम आंदोलन

दो घंटे तक थमे रहे वाहनों के पहिए लगा जाम

By: mukesh yadav

Published: 24 May 2018, 05:25 PM IST

वारासिवनी. गर्रा से मोवाड़ सड़क निर्माण में भेदभाव को लेकर जागरूक नागरिक मंच ने तपती धूप में दो घंटे तक चकाजाम कर धरना दिया। युवाओं के साथ महिलाओं के भी आंदोलन को देखकर तहसीलदार, थानाप्रभारी व एमपीआरडीसी के महाप्रबंधक बालाघाट को टिहलीबाई स्कूल के सामने आंदोलन स्थल पर आकर सफाई देनी पड़ी। अधिकारीयों ने सड़क निर्माण की पुरी जानकारी पहली बार सार्वजनिक रूप से देकर निर्माण कंपनी के अधिकारीयों व टीम को कड़क लहजे में डीपीआर के अनुसार ही सड़क निर्माण करने का आदेश जारी किया।
नगर में टिहली बाई से कालेज चौक तक सड़क निर्माण को लेकर सुबह से डामरीकरण कार्य एक तरफ प्रारंभ होते देख नागरिकगणों ने पहले समाधान की मांग कर कार्य रूका दिया था। इसके बाद अनुविभागीय अधिकारी राजस्व को ज्ञापन देकर नागरिकों ने आंदोलन कर दो घंटे तक चकाजाम कर धरना दिया। इस दौरान सड़क के दोनों किनारे पर वाहनों की कतार सी लग गई थी। धूप में भी नागरिकगण आंदोलन करते हुए देखे गए।
डीपीआर के विरुद्ध किया जा रहा कार्य
जागरूक नागरिक मंच के सदस्यों में सुनील पिपरेवार, कैलाश दुल्हानी, सोनू जायसवाल सहित दर्जनों युवाओं ने बताया कि सड़क निर्माण के अंतिम चरण में स्वीकृत डीपीआर के विरुद्ध कार्य किया जा रहा है। निर्माण के दौरान प्रभावशाली लोगों को फायदा पहुंचाने के लिए भेदभाव पूर्वक कार्य किया जा रहा है। विद्युत पोल की शिफ्टिंग गुणवत्ता पूर्वक नहीं होने के साथ भेदभाव पूर्वक कार्य किया गया है। सड़क के दोनों ओर जो नाली बनाई जा रही है वह किसी भी मापदंड में सहीं नहीं है। पंडित दिनदयाल चौक नगर का सबसे व्यस्ततम चौक है। जहां सौदर्यीकरण की संभावना सबसे ज्यादा है वहा हाईलैंड और मुर्ति की स्थापना के लिए कार्नर में स्थान अभी ही सुनिश्चित किया जा सकता है। लेकिन इस पर ध्यान देना तो दूर इसकी मैपिंग और डीपीआर भी तैयार नहीं किया गया है।
मौके पर पहुंचे अधिकारी
आंदोलन की गंभीरता देखकर थाना प्रभारी व तहसीलदार धरना पर पहुंचे। एमपीआरडीसी के महाप्रबंधक के आने व उनकी तर्को के बाद आंदोलन को किसी तरह स्थगित किया गया। अधिकारीयों जागरूक नागरिक मंच के सदस्यों के साथ विभाग के वार्ड चार के कार्यालय में चर्चा कर संतुष्टि व समाधान के निष्कर्ष तक पहुंचने में सफलता हासिल की। प्रशासन के अधिकारीयों ने सड़क निर्माण कंपनी कल्याण ग्रुप की टीम को निर्देशित कर डीपीआर के अनुसार सड़क निर्माण करने का आदेश जारी किया। टिहलीबाई स्कूल के पास सड़क की ऊंचाई में एक तरफ संभव हो सके दस से पंद्रह सेंटीमीटर हाईट कम, सड़क के किनारे की नाली गुणवत्ता, लेबल व तराई कार्य करने की बात भी कही। कार्य के नियमानुसार होने पर विशेष ध्यान दिया गया।
यह रहे शामिल
आंदोलन के दौरान जागरूक नागरिक मंच के सदस्यों में सुनील पिपरेवार, कैलाश दुल्हानी, मनीष खंडेलवाल, रमेश सोनवाने, सोनू जायसवाल, रिंकू दुबे, धन्नू सोनेकर, दीपक पाल, तुलसी व्यास, जीतेन्द्र व्यास, सुरेश गोखले, मून्नू कठाने, मनोज लिल्हारे, राजू पंडोरिया, सुदीप शुक्ला, मोनू मिश्रा, सुरेश दुबे के साथ महिलाओं ने भी धरना प्रदर्शन में योगदान दिया।

mukesh yadav Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned