रानी उमरझोला तालाब का मरम्मत कार्य अधूरा

रानी उमरझोला तालाब का मरम्मत कार्य अधूरा

Mukesh Yadav | Updated: 12 Jun 2019, 06:04:30 PM (IST) Balaghat, Balaghat, Madhya Pradesh, India

अभी तक नही चेते विभागीय अधिकारी कर्मचारी

लालबर्रा. क्षेत्र के पिपरिया बडग़ांव स्थित रानी उमरझोला जलाशय का एक वर्ष बीत जाने के बाद भी मरम्मतीकरण नहीं किया गया है। इस कारण अब स्थानीयजनों व किसानों को चिंता सताने लगी है कि यदि बार भी वर्षा के मौसम में तालाब की पार फूटती है और पानी संग्रह नहीं हो पाता है तो किसानों को बेजा परेशानियों का सामना करना पड़ेगा। वहीं सूखा जैसे हालात भी निर्मित हो सकते है।
जानकारी के अनुसार विगत वर्ष 29 अगस्त 2018 को अतिवृष्टि होने से तालाब की पार बह गई थी। इस दौरान बड़े पैमाने पर जल रिसाव होने लगा था वहीं तालाब की पार के पूरी से से ढह जाने के आसार निर्मित हो गए थे। तब स्थानीय लोगों की सक्रियता से तालाब की फूटी पार पर रेत की बोरी से बंधान कार्य कर किसी तरह से जल रिसाव को रोक लिया गया था। इसके बाद संबंधित विभाग के अधिकारियों को जानकारी देकर फूटी पार का मरम्मतीकरण करने कहा गया था। लेकिन अब तक पार का मरम्मतीकरण नहीं किया जा सका है। अब स्थानीयजनों का कहना है कि आगामी दिनों में बारिश का मौसम प्रारंभ होने वाला है। ऐसे में यदि बोरी बंधान कार्य बह जाता है तो पानी की बड़ी नुकसानी होगी और तालाब में जल संग्रहण नहीं हो पाएगा। किसानों ने शीघ्र ही पार की मरम्मतीकरण किए जाने की मांग की है।
किसानों का कहना है कि तालाब से सटकर ही उनके खेत लगे हुए है यदि पार से पानी का रिसाव होगा तो कई हैक्टेयर की फसलें भी बर्बाद हो जाएगी। वहीं तालाब में पानी संग्रहित नहीं होने से आस पास के करीब आधा दर्जन से अधिक ग्रामों में पानी की समस्या उत्पन्न होगी। किसानों की मांग है कि 2 दिन के अंदर कार्य प्रारंभ नही किया गया तो किसानों द्वारा उग्र आंदोलन करने की चेतावनी दी गई हैं।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned