रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी पर होगी रासुका की कार्रवाई

मंत्री कावरे ने की कोविड रोकथाम कार्यों की समीक्षा

By: Bhaneshwar sakure

Published: 04 May 2021, 10:26 PM IST

बालाघाट. मप्र शासन के राज्य मंत्री व जिले के कोविड प्रभारी मंत्री रामकिशोर नानो कावरे ने 4 मई को कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में अधिकारियों की बैठक लेकर जिले में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए किए जा रहे कार्यों, कोरोना संक्रमित मरीजों के उपचार संबंधी व्यवस्था की समीक्षा की। बैठक में कोरोना संक्रमण की चैन को तोडऩे के लिए कोरोना कफ्र्यू को और प्रभावी बनाने के संबंध में भी चर्चा की गई। इस दौरान मंत्री कावरे ने बैठक में अधिकारियों से कहा कि वे जिले में रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी करने वालों पर सख्त कार्रवाई करें। यदि कोई शासकीय कर्मचारी इसमें लिप्त पाए जाए तो उसे सेवा से बर्खास्त कर उसके विरूद्ध एफआइआर दर्ज की जाए और रासुका के अंतर्गत देशद्रोह की कार्रवाई भी की जाए। ऐसे किसी भी व्यक्ति को बख्शा नहीं जाएगा।
बैठक में कलेक्टर दीपक आर्य, पुलिस अधीक्षक अभिषेक तिवारी, अपर कलेक्टर फ्रेंक नोबल ए, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक गौतम सोलंकी, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ मनोज पांडेय, सिविल सर्जन डॉ अजय जैन, एसडीएम केसी बोपच, नगर पुलिस अधीक्षक कर्णिक श्रीवास्तव, जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ परेश उपलप, तहसीलदार रामबाबू देवांगन, नगर निरीक्षक एमआर रोमड़े, मुख्य नगर पालिका अधिकारी सतिश मटसेनिया, डॉ पंकज महाजन और डॉ तिडग़ाम उपस्थित थे।
मरीजों से अभद्र व्यवहार की होंगी जांच
मंत्री कावरे ने बैठक में कहा कि उन्हें शिकायत मिल रही है कि शुक्ला नर्सिंग होम सीटी स्केन के लिए आने वाले मरीजों से अभद्र व्यवहार किया जाता है। जिला प्रशासन यह सुनिश्चित करें कि जिले के किसी भी अस्पताल में मरीजों के साथ अभद्र व्यवहार नहीं होना चाहिए। शुक्ला नर्सिंग होम में सीटी स्केन कराने आए मरीज के साथ किए गए अभद्र व्यवहार की जांच एक टीम बनाकर की जाए। मरीज परेशानी में ही सीटी स्केन के लिए आता है और ऐसे में उसके साथ अभद्र व्यवहार किया जाए तो इसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। मंत्री कावरे ने कहा कि उन्हें यह भी शिकायत मिल रही है कि बालाघाट में जितने भी स्थान पर सीटी स्केन किया जा रहा है वहां मरीज को रिपोर्ट के साथ सीटी स्केन की फिल्म नहीं दी जा रही है। यह किसी भी दृष्टि से उचित नहीं है। सीटी स्केन कराने वाले मरीज को रिपोर्ट के साथ फिल्म भी मिलनी चाहिए। मंत्री कावरे ने कहा कि उन्हें शिकायत मिली है कि कुछ प्रायवेट चिकित्सक कोरोना संक्रमित मरीजों को टेलीमेडिसिन की सलाह देने के लिए शुल्क ले रहे है। जिले में कहीं पर भी ऐसी स्थिति नहीं आना चाहिए।
जिला चिकित्सालय में शीघ्र प्रारंभ की जाए सीटी स्केन
मंत्री कावरे ने कहा कि जिला चिकित्सालय बालाघाट में सीटी स्केन मशीन आ चुकी है। अब इसे शीघ्र प्रारंभ कराया जाए। जिससे मरीजों को प्रायवेट अस्पताल में सीटी स्केन के लिए नहीं जाना पड़ेगा। सीटी स्केन के लिए मरीजों से निर्धारित शुल्क ही लिया जाए। इस दौरान बताया गया कि जिला चिकित्सालय में सीटी स्केन शीघ्र ही प्रारंभ कर दी जाएगी। इसके लिए सभी आवश्यक तैयारियां की जा रही है। सीटी स्केन का मरीज को निर्धारित शुल्क देना होगा।
ऑक्सीजन खपत का ऑडिट करने के निर्देश
बैठक में मंत्री कावरे ने अधिकारियों से कहा कि अस्पताल में मरीज के आने पर उसे किसी भी परिस्थिति में भर्ती करने से मना न किया जाए। मरीज परेशान होने पर ही अस्पताल आता है। ऐसे में उसे भर्ती करने से मना किया जाएगा तो वह कहां जाएगा। अस्पताल में भर्ती कोविड मरीजों के परिजन वार्ड में न जाएं इसका ध्यान रखा जाए। कोविड वार्ड में ड्यूटी कर रहे स्टाफ की जिम्मेदारी है कि वह मरीज को समय पर दवाएं और भोजन उपलब्ध कराएं। कोविड वार्ड में साफ-सफाई पर भी विशेष ध्यान दिया जाए। कोविड मारीजों के साथ अच्छा व्यवहार किया जाए। हमारे सरकारी अस्पताल में प्रायवेट अस्पताल जैसी सारी सुविधाएं उपलब्ध है। जरूरत है तो वार्ड में सेवा दे रहे स्टाफ को मरीज की अच्छी देखभाल करने, मरीज से अच्छा व्यवहार करने की। डाक्टर्स भी राउंड पर जाएं तो अपने स्टाफ व मरीजों से दवा, नाश्ता व भोजन समय पर लेने की जानकारी अवश्य लें। मंत्री कावरे ने अधिकारियों से कहा कि जिले में ऑक्सीजन की कमी नहीं है। लेकिन जिला चिकित्सालय में ऑक्सीजन की खपत का ऑडिट अवश्य किया जाए।
निदान अस्पताल को बंद करने के निर्देश
बैठक में निर्देशित किया गया कि निदान अस्पताल को कोविड मरीजों के उपचार की दी गई अनुमति निरस्त की जाए और अस्पताल को बंद किया जाए। इस अस्पताल में कोविड के नए मरीज भर्ती नहीं किए जाएं।

Bhaneshwar sakure Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned