एफएक्यू का टैग लगी बोरियों में निकला सड़ा, घुना हुआ गेंहू

26 हजार क्विंटल खराब गेंहू की जिले में पहुंची खेप, पीडीएस के माध्यम से गरीबों को किया जाएगा वितरित, अमानक चावल के बाद खराब गेंहू की हुई है सप्लाई

By: Bhaneshwar sakure

Published: 13 Jan 2021, 11:27 AM IST

बालाघाट. जिले में कोरोना काल में अमानक चावल सप्लाई किए जाने के बाद फिर से अब खराब गेंहू की आपूर्ति कर दी गई है। यह गेंहू वर्ष २०१७-१८ में खरीदा गया है। जो कि रायसेन, सिहोर सहित अन्य स्थानों से बालाघाट पहुंचा हैं। यह गेंहू ट्रेन के माध्यम से बालाघाट पहुंचाया गया है। जिसे अब गोदामों में भंडारित करने का कार्य किया जा रहा है। इधर, जिले में आपूर्ति किए गए खराब गेंहू को सार्वजनिक वितरण प्रणाली के माध्यम से गरीबों की थाली तक पहुंचाया जाएगा।
जानकारी के अनुसार बालाघाट ४२ बोगियों की मालगाड़ी की सहायता से सड़ा हुआ गेंहू बालाघाट पहुंचाया गया हैं। बताया गया है कि प्रत्येक बोगी में १२-१३ सौ गेंहू की बोरियां भरी हुई थी। यहां करीब ५२ हजार बोरियों में २६ हजार क्विंटल सड़े हुए गेंहू की आपूर्ति कर दी गई है। जानकारी के अनुसार वर्ष २०१७-१८ में शासन द्वारा जो गेंहू समर्थन मूल्य पर खरीदा गया था, उसे अब बालाघाट में सार्वजनिक वितरण प्रणाली के माध्यम से गरीबों को वितरित किए जाने के लिए भेजा गया है। विडम्बना यह है कि यह गेंहू पूरी तरह से सड़ गया है। जो इंसानेां के खाने के योग्य ही नहीं बचा है। बावजूद इसके नागरिक आपूर्ति निगम द्वारा इस गेंहू को बालाघाट जिले में आपूर्ति किए जाने के लिए भेज दिया गया है। विदित हो कि जिले में कोरोना काल के दौरान अमानक चावल की आपूर्ति की गई थी। जिसे सोसायटियों के माध्यम से गरीबों को भी वितरित कर दिया गया था। शिकायत के बाद इसकी जांच कराई कराई। केन्द्रीय टीम ने जांच कर इसकी रिपोर्ट प्रदेश सरकार को सौंपी थी। जिसके बाद मामला प्रकाश में आया था। अभी इस मामले जांच पूरी तरह से ठंडी भी नहीं पड़ी है। इसके बाद भी खराब, सड़ा और घुना हुआ गेंहू की जिले में आपूर्ति कर दी गई है।
बोरियों में लगा है एफएक्यू का टेग
विडम्बना यह है कि जिन बोरियों में भरकर सड़े गेंहू की आपूर्ति बालाघाट जिले में की गई है, उन बोरियों में एफएक्यू का भी टेग लगा हुआ है। इससे स्पष्ट होता है कि विभागीय अधिकारियों द्वारा इस गेंहू के गुणवत्ता की न तो जांच की गई और न ही उसकी क्वॉलिटी देखी गई है। जैसे बोरियों में भरा हुआ था, उसे उसी हालत में भेज दिया गया।
सडऩे लगी है बोरियां, खराब हो रहा गेंहू
इधर, बालाघाट पहुंची गेंहू से भरी बोरियां सडऩे लगी है। जिसके कारण उसके अंदर भरा हुआ गेंहू और ज्यादा खराब हो चुका है। अधिकांश बोरियों में तो घुना हुआ गेंहू भेजा गया है। वहीं कुछेक बोरियां तो पूरी तरह से पानी के संपर्क में आने के कारण सड़ गई है, जिसका असर उसमें रखे गेंहू पर पड़ गया है। इधर, विभाग द्वारा बालाघाट में आपूर्ति किए गए गेंहू की जांच किए बगैर ही उसे अनलोड किया जा रहा है। बाद में इस गेंहू को अन्यत्र गोदामों में भंडारित करने के लिए भी ले जाया जाने लगा है। इस तरह से एक बार फिर से जिले में निवासरत गरीबों को खराब, घुना व सड़ा हुआ गेंहू सार्वजनिक वितरण प्रणाली के माध्यम से वितरित करने की तैयारी की जा रही है।

Show More
Bhaneshwar sakure Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned