टीबी पीडि़त मासूम को क्षय अधिकारी ने लिया गोद

मासूम के ठीक होने तक अपनी ओर से हर माह देंगे 500 रुपए की राशि

By: Bhaneshwar sakure

Published: 06 Mar 2021, 08:06 PM IST

बालाघाट. जिला क्षय अधिकारी डॉ आशुतोष बांगरे ने 4 मार्च को 14 माह की बच्ची नित्या चौधरी जो कि टीबी रोग से ग्रसित पाई गई है। उसे गोद लिया और उसके टीबी से मुक्त होने तक उसे हर माह 500 रुपए की राशि पोषण आहार के लिए अपनी ओर से देने का संकल्प लिया है। शासन की योजना के अनुसार टीबी के मरीज को उपचार के दौरान 6 माह तक प्रति माह 500 रुपए की राशि पोषण आहार के लिए प्रदान की जाती है। डॉ बांगरे ने बताया कि बच्ची नित्या को शासन से मिलने वाली 500 रुपए की राशि के अतिरिक्त वे अपनी ओर से हर माह 500 रुपए की राशि प्रदान करेंगें। जिससे बालिका के माता-पिता उसे अच्छा आहार दे सकेंगें और बालिका टीबी को मात देकर शीघ्र स्वस्थ्य हो सकेगी। नित्या चौधरी वारासिवनी तहसील के ग्राम भांडी के निवासी रेखा अनिल चौधरी की 14 माह की बेटी है। कम वजन की होने व कुपोषित होने के कारण नित्या को जिला चिकित्सालय के पोषण पुनर्वास केन्द्र में भर्ती कराया गया था। पोषण पुनर्वास केन्द्र में जांच के दौरान पाया गया कि बच्ची नित्या टीबी से ग्रसित है। पोषण पुनर्वास केन्द्र में निर्धारित दिनों तक भर्ती रहने के बाद उसे आज 4 मार्च को छुट्टी दे दी गई है। अब नित्या का टीबी का उपचार घर पर ही किया जाएगा। उसके टीबी के उपचार के लिए जरुरी दवाएं प्रदान की गई है और उसके माता-पिता को सलाह दी गई है कि बच्ची को दवा निर्धारित समय के अनुसार अनिवार्य रूप से दी जाए। कोई भी दवा छूटना नहीं चाहिए। दवाओं का कोर्स पूर्ण करने पर नित्या 6 माह में टीबी को परास्त कर ठीक हो जाएगी। नित्या चौधरी के माता-पिता भी अब पूरी तरह से आश्वस्त है कि उनकी बेटी को डॉ बांगरे का संरक्षण मिलने से वह जल्द ही स्वस्थ्य हो जाएगी। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ मनोज पांडेय ने डॉ आशुतोष बांगरे द्वारा की गई पहल की सराहना करते हुए कहा उनके इस कार्य से प्रेरित होकर अन्य लोग भी ऐसे जरूरतमंद बच्चों की मदद के लिए आगे आएंगे।

Bhaneshwar sakure Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned