scriptThe city starts crawling here when the train arrives | ट्रेन आने पर यहां रेंगने लगता हैं शहर | Patrika News

ट्रेन आने पर यहां रेंगने लगता हैं शहर

पत्रिका अभियान बिग इश्यू-
शहर के रेलवे फाटकों पर ओवर ब्रिज की दरकार
घोषणाएं हुई लेकिन नहीं हो पाया है अमल
चार में से सिर्फ सरेखा फाटक को मिल पाई है तकनीकि स्वीकृति

बालाघाट

Published: June 19, 2022 10:02:14 pm

इंट्रो:- जिले में विकास कार्यो की घोषणाएं तो बहुत हुई, लेकिन इन पर अमल अपेक्षाकृत नहीं हो पाया है। खासकर शहर की अति महत्वकांक्षी रेलवे फाटकों पर ओवर ब्रिज की दरकार वर्षो से बनी हुई है। यहां दिनभर में कई बार फाटकों में जाम और फिर शहर रेंगने लगता है।
बालाघाट. २०११ की जनगणना के अनुसार लगभग ८५ हजार की जनसंख्या वाले बालाघाट शहर में लगातार जनसंख्या बढ़ रही है। बढ़ती आबादी के बीच यातायात का दबाव भी शहर में बढ़ता जा रहा है। ब्राडगेज का काम पूरा होने के बाद इस ट्रैक पर ट्रेनों का संचालन भी शुरू हो चुका है। रेलवे फाटकों पर कई यातनाओं भरी जाम की समस्या भी शुरू हो गई है। इस समस्या से निजात पाने जनता को वर्षो से ओवर ब्रिज की दरकार है। लेकिन इसके लिए नींव तक नहीं डल पाई है।
बजट में किया गया शामिल
जानकारी के अनुसार राज्य सरकार ने शहर के भटेरा चौकी, बैहर चौकी, गर्रा और सरेखा में कुल चार रेलवे फाटकों में ओवरब्रिज निर्माण को बजट में शामिल किया हैं, लेकिन अकेले सरेखा फाटक को छोड़ दें, तो अन्य के लिए प्रारंभिक योजना तक तैयार नहीं हो पाई है। सरेखा में रेलवे ब्रिज के लिए तकनीकि स्वीकृति प्रदान की गई। इसके लिए डीपीआर की कुल लागत ८६ करोड़ ८० लाख ७४ हजार का स्टीमेट मप्र सरकार के पास प्रशासकीय स्वीकृति के लिए भेजा गया। तकनीकि स्वीकृति ३८ करोड़ ६७ लाख की मिली है। जबकि प्रशासकीय स्वीकृति के तहत डीपीआर स्वीकृत होना बाकी है। गर्रा क्रासिंग के लिए डीपीआर नहीं बनाया गया हैं। इसी तरह भटेरा चौकी में ओवर ब्रिज निर्माण के लिए डीपीआर ड्राइंग डिजाइन कार्य आगे नहीं बढ़ नहीं पाया है।
ट्रेन आने पर यहां रेंगने लगता हैं शहर
ट्रेन आने पर यहां रेंगने लगता हैं शहर
सरेखा फाटक:-
लागत : करीब ८७ करोड़।
लंबाई- 990 मीटर
चौड़ाई-12 मीटर
पांच-पांच मीटर सर्विस रोड
स्थिति- इसका डिजाइन राज्य स्तर पर तैयार हो गया हो गया है। रेलवे बोर्ड डिजाइन फाइनल होना बाकी है।

भटेरा चौकी फाटक -
लागत आंकलित नहीं।
लंबाई 500 से 1000 मीटर
चौड़ाई 12 मीटर
दोनों ओर सर्विस रोड, पांच-पांच मीटर।
स्थिति:- इसका सर्वे हो चुका है। भूमि अधिग्रहण में निर्माण से तीन गुना राशि लगेगी, इसलिए पेंच फंसा है। इसे भी बजट में शामिल किया जा चुका है।
गर्रा चौकी फाटक-
लागत करीब 40 करोड़।
लंबाई 500 मीटर
चौड़ाई 12 मीटर
दोनों ओर सर्विस रोड पांच-पांच मीटर।
स्थिति- सर्वे हो चुका है। डिजाइन तैयार होना है।

बैहर चौकी फाटक-
लागत-आंकलित नहीं।
लंबाई- 500 मीटर
चौड़ाई 12 मीटर
दोनों ओर सर्विस रोड पांच.पांच मीटर।
स्थिति- बजट में शामिल कराने प्रस्तावित।
वर्सन
२०११ की जनगणना में शहर की आबादी लगभग ८५ हजार की थी, जो कि अब एक लाख से भी उपर हो गई है। वाहनों की संख्या भी बढऩे से यातायात का काफी दबाव बढ़ गया है। ऐसे में फाटकों पर ओवर ब्रिज बनना ही चाहिए। अब तक इनके निर्माण को लेकर इमानदारी से पहल नहीं की गई है।
अजय ठाकुर, युवा
सरकार को ओवर ब्रिज के निर्माण के लिए बहुत समय मिला। ब्राडगेज निर्माण के समय इनके निर्माण की कार्रवाई शुरू कर देनी थी। अब यह समस्या बेहद गंभीर हो गई है। आम नागरिकों को जाम की समस्या से जूझना पड़ रहा है। कोरोना की वजह से पैसेंजर ट्रेन बंद हैं, वरना इतनी ट्रेनें गुजरती की फाटक ही लगा रहता।
इकबाल एहमद कुरैशी, जागरूक नागरिक
ट्रेनों के गुजरने के दौरान फाटकों पर जाम की स्थिति उत्पन्न होती है। इस समस्या से छुटकारा के लिए ओवर ब्रिज बेहद जरूरी है। रेलवे बोर्ड और सरकार इस दिशा में गंभरीता अपनाए। ताकि आम जनता को इस समस्या से छुटकारा मिल सकें।
-राजेन्द्र प्रसाद चौबे, समाज सेवी
फाटक बंद होने पर भीषण गर्मी और बारिश में अवाम को कई यातनाओं का सामना पड़ता है। उनकी तकलीफ को शायद हमारे जनप्रतिनिधि महसूस नहीं कर रहे हैं। इसके लिए हमारे द्वारा अभियान छेड़ा जा रहा है। ओवर ब्रिजों का निर्माण शीघ्रता से होना ही चाहिए।
यूनुस खान, अध्यक्ष हम फाउंडेशन

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

जयपुर में एक स्वीमिंग पूल में रात का सीसीटीवी आया सामने, पुलिसवालें भी दंग रह गएकचौरी में छिपकली निकलने का मामला, कहानी में आया नया ट्विस्टइन 4 राशियों के लोग होते हैं सबसे ज्यादा बुद्धिमान, देखें क्या आपकी राशि भी है इसमें शामिलचेन्नई सेंट्रल से बनारस के बीच चली ट्रेन, इन स्टेशनों पर भी रुकेगीNumerology: इस मूलांक वालों के पास धन की नहीं होती कमी, स्वभाव से होते हैं थोड़े घमंडीबुध जल्द अपनी स्वराशि मिथुन में करेंगे प्रवेश, जानें किन राशि वालों का होगा भाग्योदयधन कमाने की योजना बनाने में माहिर होती हैं इन बर्थ डेट वाली लड़कियां, दूसरों की चमका देती हैं किस्मतCBSE ने बदला सिलेबस: छात्र अब नहीं पढ़ेगे फैज की कविता, इस्लाम और मुगल साम्राज्य सहित कई चैप्टर हटाए

बड़ी खबरें

Maharashtra Political Crisis: शिवसेना में बगावत के बाद अब उपद्रव का डर! पोस्टर वॉर के बीच एकनाथ शिंदे के गढ़ ठाणे में धारा 144 लागूAmit Shah on 2002 Gujarat Riots: गुजरात दंगों पर SC के फैसले के बाद बोले अमित शाह, PM मोदी को इस दर्द को झेलते हुए देखा हैकेरल में राहुल गांधी के दफ्तर पर हुए हमले के बाद बड़ी कार्रवाई, DSP निलंबित, ADGP करेंगे मामले की जांच25 जून 1983, 39 साल पहले भारत ने रचा था इतिहास, लॉर्ड्स में वर्ल्ड कप जीतकर लहराया तिरंगाकौन हैं तपन कुमार डेका, जिन्हें मिली इंटेलिजेंस ब्यूरो की कमानपाकिस्तान की खुली पोल, 26/11 मुंबई हमले का मास्टर माइंड साजिद मीर जिंदा, ISI ने मोस्ट वांटेड आतंकी को बताया था मराMumbai News Live Updates: 'शिवसेना बालासाहेब' नाम से शिंदे खेमे ने बनाया नया समूह, बागी विधायक दीपक केसरकर ने दी जानकारीMaharashtra Political Crisis: एक्शन में शिवसेना! अयोग्य करार देने के लिए डिप्टी स्पीकर को भेजा 4 और MLA के नाम, 16 बागियों पर भी कार्रवाई की तैयारी
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.