scriptCorruption-लघु तालाब हुआ गायब, मौके पर नजर आई समतल जमीन | The small pond disappeared, flat land was seen on the spot | Patrika News
बालाघाट

Corruption-लघु तालाब हुआ गायब, मौके पर नजर आई समतल जमीन

हितग्राही की जमीन से लघु तालाब गायब हो गया। मौके पर केवल समतल जमीन नजर आई। जबकि तालाब निर्माण के नाम पर राशि का आहरण कर लिया गया। यह खुलासा उस समय हुआ, जब जनपद पंचायत बालाघाट की टीम जांच करने के लिए मौके पर पहुंची। बालाघाट. हितग्राही की जमीन से लघु तालाब गायब हो […]

बालाघाटJul 03, 2024 / 10:12 pm

Bhaneshwar sakure

लघु तालाब

निर्माणाधीन तालाब में लगी फसल।

हितग्राही की जमीन से लघु तालाब गायब हो गया। मौके पर केवल समतल जमीन नजर आई। जबकि तालाब निर्माण के नाम पर राशि का आहरण कर लिया गया। यह खुलासा उस समय हुआ, जब जनपद पंचायत बालाघाट की टीम जांच करने के लिए मौके पर पहुंची।
बालाघाट. हितग्राही की जमीन से लघु तालाब गायब हो गया। मौके पर केवल समतल जमीन नजर आई। जबकि तालाब निर्माण के नाम पर राशि का आहरण कर लिया गया। यह खुलासा उस समय हुआ, जब जनपद पंचायत बालाघाट की टीम जांच करने के लिए मौके पर पहुंची। मामला जनपद पंचायत बालाघाट के ग्राम पंचायत टिटवा का है।
जानकारी के अनुसार ग्राम पंचायत टिटवा में चार हितग्राहियों के नाम पर लघु तालाब स्वीकृत हुए हैं। जिसमें हितग्राही राजेंद्र प्रताप और मजिद खान के लघु तालाब निर्माण में गड़बड़ी पाई गई। मजिद खान के जमीन पर तालाब ही नजर नहीं आया। जबकि राजेंद्र प्रताप ने प्राक्कलन के अनुसार तालाब का निर्माण नहीं किया। इतना ही नहीं एक निर्माणाधीन तालाब में फसल भी लगी पाई गई।
सीएम हेल्पलाइन में हुई थी शिकायत
जांच के लिए पहुंचे अधिकारियों ने बताया कि लघु तालाब निर्माण में भ्रष्टाचार किए जाने के मामले की सीएम हेल्पलाइन में शिकायत हुई थी। शिकायत मिलने के बाद जनपद पंचायत बालाघाट से एसडीओ खरे, एपीओ नंदिनी तिवारी, उप यंत्री ठाकुर मौके पर पहुंचे। उन्होंने सरपंच, रोजगार सहायक, ग्रामीणों की उपस्थिति पर मौका स्थल की जांच की। जहां पर शिकायत के आधार पर सरपंच, रोजगार सहायक, ग्रामीणों की उपस्थिति में लघु तालाब निर्माण की जांच की गई है। प्रारंभिक जांच में काफी अनियमितताएं पाई गई है।
2 लाख 80 हजार रुपए की राशि का हुआ आहरण
जांच के लिए पहुंचे अधिकारियों ने चारों हितग्राहियों के तालाबों के स्थल की जांच की। जिसमें हितग्राही मजिद खान के तालाब के बारे में कोई जानकारी नहीं दे पाए। जबकि तालाब निर्माण के नाम पर 2 लाख 80 हजा रुपए की राशि का आहरण भी कर लिया गया। जब राशि का आहरण हुआ है तो तालाब का निर्माण क्यों नहीं किया गया, अधिकारी फिलहाल इस मामले की जांच कर रहे हैं। इधर, रोजगार सहायक आत्माराम का कहना है कि लगभग 280000 के राशि आहरित कर तालाब का निर्माण किया गया है, लेकिन तालाब कहां गया इसकी जानकारी उन्हें भी नहीं है।
निर्माणाधीन तालाब में हितग्राही ने लगाया रोपा
जांच के दौरान अधिकारियों ने एक निर्माणाधीन तालाब में रोपा पाया। दरअसल, इस निर्माणाधीन तालाब का नियमानुसार निर्माण नहीं किया गया। वहीं हितग्राही ने उसमें रोपा लगा दिया। इसी तरह अधिकारियों ने जब हितग्राही राजेंद्र प्रताप के तालाब की जांच की तो उसे प्राक्कलन के अनुसार होना नहीं पाया गया। इस तालाब के निर्माण में अधिक राशि आहरित होना पाया गया है। इस तरह से तालाब निर्माण के नाम पर भ्रष्टाचार किया गया है।
इनका कहना है
ग्राम पंचायत टिटवा में लघु तालाब निर्माण में अनियमितता किए जाने की शिकायत सीएम हेल्पलाइन में की गई थी। मौके पर पहुंचकर जांच की गई। एक तालाब मौके पर ही नहीं मिला। एक हितग्राही ने प्राक्कलन के अनुसार निर्माण नहीं किया। एक हितग्राही के तालाब में रोपा मिला है। सभी मामले की जांच की जा रही है।
-नंदिनी तिवारी, एपीओ मनरेगा

Hindi News/ Balaghat / Corruption-लघु तालाब हुआ गायब, मौके पर नजर आई समतल जमीन

ट्रेंडिंग वीडियो