टिकट के लिए भोपाल से दिल्ली तक की दौड़ शुरू

टिकट के लिए भोपाल से दिल्ली तक की दौड़ शुरू

Bhaneshwar Sakure | Publish: Sep, 05 2018 08:36:51 PM (IST) Balaghat, Madhya Pradesh, India

भाजपा और कांग्रेस को चुनौती दे रहे अन्य दल

भानेश साकुरे
बालाघाट. विधानसभा चुनाव करीब आते ही सत्तारुढ़ भाजपा और कांग्रेस में टिकट की दावेदारी जोर-शोर से शुरू हो गई है। बालाघाट और वारासिवनी विधानसभा क्षेत्र में जहां भाजपा के संभावित उम्मीदवार प्रदेश और केन्द्र सरकार की जनहितैषी नीतियों और उनका द्वारा किए गए विकास कार्यों के कारण जीत की उम्मीद लगाए बैठे हैं। वहीं कांग्रेस प्रदेश व केन्द्र सरकार की जनविरोधी नीतियों, बढ़ती महंगाई, अपराधों के बढ़ते हुए ग्राफ, किसानों की समस्याओं को लेकर जीत की आस कर रहे हंै। इन्हीं मुद्दों के साथ वे जनता के बीच जा भी रहे हैं। कांग्रेस की तरह ही बसपा, आप, सपा नेता भी जनता के बीच प्रदेश सरकार की जनविरोधी नीतियों को लेकर जा रहे हंै।
बालाघाट विधानसभा क्षेत्र में भाजपा के संभावित प्रत्याशी और कैबिनेट मंत्री गौरीशंकर बिसेन द्वारा अपने कार्यकाल में कई निर्माण कार्य करवाए गए हैं। जिसमें मुख्य रूप से इस विधानसभा क्षेत्र में १०२ गांवों के लिए समूह पेयजल योजना, लालबर्रा-समनापुर के बीच वैनगंगा नदी के पोटियापाट में पुल निर्माण, धपेरा-कुम्हारी के बीच पुल निर्माण का कार्य (अभी निर्माणाधीन), बालाघाट में हाईटेक जैविक कृषि उपज मंडी, लालबर्रा में कृषि उपज मंडी, सड़कों का निर्माण कार्य सहित अन्य ऐसे निर्माण कार्य है, जिसके आधार पर वे जनता के बीच जा रहे हैं। वहीं बालाघाट विधानसभा क्षेत्र में कांग्रेस, बसपा, सपा, आप पार्टी के नेताओं द्वारा किसानों की समस्याओं के निराकरण, जनता की समस्याओं को उठाने, प्रदेश सरकार की जनविरोधी नीतियों को लेकर अपनी-अपनी जीत का दावा ठोक रहे हैं।
वारासिवनी विधानसभा क्षेत्र में भाजपा के संभावित प्रत्याशी व
वर्तमान विधायक डॉ. योगेन्द्र निर्मल भी प्रदेश सरकार की योजनाओं के लाभ सहित उनके द्वारा कराए गए सड़क, सभामंच, स्कूलों का उन्नयन, तालाब निर्माण सड़क निर्माण, ग्रामीण अंचलों में मूलभूत सुविधाएं नहीं होना सहित अन्य कार्यों को लेकर जनता के बीच में जा रहे हैं और लोगों से जनसम्पर्क करने में जुट गए हैं, जबकि कांग्रेस के संभावित
प्रत्याशी व पूर्व विधायक प्रदीप जायसवाल, बसपा के संभावित प्रत्याशी व जिला पंचायत सदस्य रामकुमार नगपुरे भी क्षेत्र की समस्याओं को लेकर जनता के बीच सक्रिय हैं। इन नेताओं द्वारा लगातार इस विधानसभा क्षेत्र में अपनी सक्रियता बनाए रखे हुए हैं। वहीं आप, सपा के संभावित प्रत्याशी नए चेहरे हैं।
नए राजनीतिक समीकरण
बालाघाट विधानसभा क्षेत्र में कांग्रेस और सपा या बसपा के बीच गठबंधन होने की संभावना जताई जा रही है। यदि पार्टी स्तर पर गठबंधन होता है तो बालाघाट विधानसभा क्षेत्र की स्थिति बदली सकती है। यहां पर गठबंधन के बाद ही प्रत्याशी के चयन पर चर्चा होगी।
विधायक और प्रतिद्वंद्वी का परफार्मेंस
बालाघाट में वर्ष २०१३ के विधानसभा चुनाव में भाजपा से गौरीशंकर बिसेन चुनाव जीते थे। उन्होंने सपा प्रत्याशी अनुभा मुंजारे को बहुत ही कम वोटों से परास्त किया था। मौजूदा समय में विधायक गौरीशंकर बिसेन की सक्रियता पूरे पांच वर्ष तक बनी रही है। वे प्रदेश सरकार में कैबिनेट मंत्री भी हंै, जिसके कारण क्षेत्र में उनका परफारर्मेंस अन्य नेताओं की तुलना में अच्छा रहा है। सपा नेत्री अनुभा मुंजारे भी लगातार सक्रिय रही हैं। जनता की आवाज को धरना-प्रदर्शन के माध्यम से समय-समय पर उठाते रही हैं।
वारासिवनी विधानसभा सीट से भाजपा के वर्तमान विधायक डॉ. योगेन्द्र निर्मल ने कांग्रेस के प्रदीप जायसवाल को परास्त किया था। निर्मल ने क्षेत्र में जनता के हित में कई कार्य किए हैं। वे लगातार क्षेत्र में सक्रिय बने हुए है। पूर्व विधायक प्रदीप जायसवाल भी लगातार सक्रिय रहकर जनता की समस्या का समाधान करने का प्रयास कर रहे हैं।
दावेदारी
भाजपा
बालाघाट : गौरीशंकर बिसेन, रमेश रंगलानी, लता एलकर।
वारासिवनी : डॉ. योगेन्द्र निर्मल, संजय सिंह मसानी, गौरव सिंह पारधी।
कांग्रेस
बालाघाट : अशोक सिंह सरसवार, अनुराग चतुरमोहता, विशाल बिसेन, मधुसूदन शर्मा।
वारासिवनी : प्रदीप जायसवाल, विवेक पटेल,
लोमहर्ष बिसेन।
बसपा
बालाघाट : खेमराज हरिनखेड़े।
वारासिवनी : रामकुमार नगपुरे।
आप
बालाघाट : अरविंद चौधरी, शेखर क्षीरसागर, ओमप्रकाश जायसवाल, नरेन्द्र जायसवाल, अफसाना खान।
वारासिवनी : सादिक कुरैशी, भीमसेन ठाकरे, शरद जैन।
सपा
बालाघाट : अनुभा मुंजारे।
इनका कहना है
प्रत्याशियों की सूची केन्द्रीय और प्रदेश नेतृत्व से ही जारी होगी। यह सूची कब तक जारी होगी, इस बारे में कुछ कहा नहीं जा सकता। जीत का मापदंड प्रत्याशी चयन के लिए पहली प्राथमिकता रखी गई है।
-रमेश रंगलानी, जिला अध्यक्ष भारतीय जनता पार्टी, बालाघाट
प्रदेश की स्क्रीनिंग कमेटी के द्वारा ही प्रत्याशियों के नामों की घोषणा की जाएगी। प्रत्याशी चयन को लेकर कमेटी ने जो मापदंड निर्धारित किए हैं, उसके आधार पर प्रत्याशी घोषित होंगे।
-विश्वेश्वर भगत, अध्यक्ष, जिला कांग्रेस कमेटी, बालाघाट

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned