scriptTraveling 30 km for two time ration | दो वक्त के राशन के लिए तीस किमी का कर रहे सफर | Patrika News

दो वक्त के राशन के लिए तीस किमी का कर रहे सफर

आदिवासी अंचल में नेटवर्क फेल होने से मुख्यमंत्री राशन आपके ग्राम योजना
आदिवासी क्षेत्रों में डिजिटल इंडिया का डिजिटल सिस्टम फेल

बालाघाट

Published: April 23, 2022 09:37:01 pm

बालाघाट. दो वक्त के राशन के लिए आदिवासियों को तीस किमी का पैदल सफर तय कर रहे हैं। अप्रैल माह की भीषण गर्मी के आखिरी सप्ताह में भी ग्रामीण कच्चे पक्के रास्तों से पैदल व अन्य साधनों से राशन के लिए सफर तय करते हैं। बावजूद इसके ग्रामीणों को कभी राशन नहीं मिल पाता तो कभी बैरंग लौटना पड़ता है। दरअसल, जिले के आदिवासी अंचल बैहर, बिरसा, लांजी के आदिवासी दुर्गम गांवों में नेटवर्क की बड़ी समस्या चुनौती बनकर आज भी खड़ी है। जिसके कारण मुख्य मंत्री राशन आपके द्वार जैसी योजना भी फेल साबित हो रही है।
जानकारी के अनुसार जिले के आदिवासी अंचल के कुर्रेझरी गांव में सोसायटी नहीं है। इस गांव में नेटवर्क की समस्या है। जिसके चलते यहां के ग्रामीणों को करीब १५ किमी की दूरी तय कर राशन लेने के लिए लातरी आना पड़ता है। इसी तरह आदिवासी ग्राम बोड़की, हर्रा, डोंगरिया, मांडवा, गंजेसरा, जालदा जैसे ऐसे दर्जनों गांव हैं जहां के ग्रामीणों को राशन के लिए काफी मशक्कत करनी पड़ती है। इधर, आदिवासी क्षेत्रों में बैगा समुदाय सहित अन्य लोग राशन लेने तीस से पचास किमी का सफर तय करते हैं जिसको संज्ञान में लेते हुए मध्यप्रदेश शासन ने मुख्यमंत्री राशन आपके ग्राम योजना शुरु की है। लेकिन नेटवर्क की कमी के चलते समस्या जस की तस बनी हुई है।
ग्रामीण चमारसिंग वरकड़े, भोंवरसिंग धुर्वे, हरेसिंग उमड़े, सेहस्ता टेकाम, रहमत टेकाम, कुंवसिंग धुर्वे, जीतुलाल, दलसिंग मरकाम सहित अन्य ग्रामीणों ने बताया कि उन्हें राशन लेने के लिए आज भी मिलो सफर तय करना पड़ता है। यह सफर भी वे पैदल ही तैय करते हैं। वहीं राशन दुकान से राशन लेने के बाद वे देर शाम घर लौटते हैं। लेकिन इन ग्रामीणों को उस समय सबसे अधिक खराब लगता है, जब वे शाम तक राशन दुकान में रहने के बाद सेल्समेन कहता है कि आज राशन नहीं मिल पाएगा और नेटवर्क समस्या के चलते बैरंग लौटना पड़ता है। यह समस्या वर्षों से बनी हुई है। बावजूद इसका अभी तक स्थायी समाधान नहीं हो पाया है।
परसवाड़ा विधानसभा क्षेत्र के विधायक व प्रदेश सरकार में मंत्री रामकिशोर से समाजसेवी हितेश अजीत ने पिछले साल आदिवासियों की अनाज की समस्या पर ध्यान आकृष्ट कराया था। तब मंत्री रामकिशोर कावरे ने मामले की गंभीरता को समझते हुए आदिवासी बाहुल्य गांवों में राशन दुकान के नहीं खुलने तक चलित वाहन से राशन पहुंचाने की व्यवस्था करने का आश्वासन दिया था। उसके बाद मुख्यमंत्री राशन आपके ग्राम योजना आई, लेकिन नेटवर्क की समस्या के चलते दर्जनों गांवों में इस महत्वाकांक्षी योजना का जमीनी स्तर पर क्रियान्वयन नहीं हो पा रहा है।
दो वक्त के राशन के लिए तीस किमी का कर रहे सफर
दो वक्त के राशन के लिए तीस किमी का कर रहे सफर

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

1119 किलोमीटर लंबी 13 सड़कों पर पर्सनल कारों का नहीं लगेगा टोल टैक्सयहाँ बचपन से बच्ची को पाल-पोसकर बड़ा करता है पिता, जैसे हुई जवान बन जाता है पतिशुक्र का मेष राशि में गोचर 5 राशि वालों के लिए अपार 'धन लाभ' के बना रहा योगराजस्थान के 16 जिलों में बारिश-आंधी व ओलावृ​ष्टि का अलर्ट, 25 से नौतपाजून का महीना इन 4 राशि वालों के लिए हो सकता है शानदार, ग्रह-नक्षत्रों का खूब मिलेगा साथइन बर्थ डेट वालों पर शनि देव की रहती है कृपा दृष्टि, धीरे-धीरे काफी धन कर लेते हैं इकट्ठा7 फुट लंबे भारतीय WWE स्टार Saurav Gurjar की ललकार, कहा- रिंग में मेरी दहाड़ काफीशुक्र देव की कृपा से इन दो राशियों के लोग लाइफ में खूब कमाते हैं पैसा, जीते हैं लग्जीरियस लाइफ

बड़ी खबरें

टाइम मैगजीन ने जारी की 100 प्रभावशाली लोगों की लिस्ट, जेलेंस्की, पुतिन के साथ 3 भारतीय भी शामिलHaj 2022: दो साल बाद हज पर जाएंगे मोमिन, पहला भारतीय जत्था 4 जून को होगा रवानाआ गया प्लास्टिक कचरे का सफाया करने वाला नया एंजाइमWomen's T20 Challenge: पहले ही मैच में धमाकेदार जीत दर्ज की सुपरनोवास ने, ट्रेलब्लेजर्स को 49 रनों से हरायाअनिल बैजल के इस्तीफे के बाद Vinai Kumar Saxena बने दिल्ली के नए उपराज्यपालISI के निशाने पर पंजाब की ट्रेनें? खुफिया एजेंसियों ने दी चेतावनीममता बनर्जी ने केंद्र सरकार पर साधा निशाना, कहा - 'भाजपा का तुगलगी शासन, हिटलर और स्टालिन से भी बदतर'लगातार बारिश के बीच ऑरेंज अलर्ट जारी, केदारनाथ यात्रा पर लगी रोक, प्रशासन ने कहा - 'जो जहां है वहीं रहे'
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.