तेंदुए के शिकार मामले में दो और आरोपी गिरफ्तार

अब तक पांच आरोपियों की हो चुकी है गिरफ्तारी

By: Bhaneshwar sakure

Published: 23 Jan 2021, 09:33 PM IST

बालाघाट. तेंदुआ का शिकार करने के आरोप में वन अमले ने दो आरोपियों को और गिरफ्तार कर लिया है। इसके पूर्व इसी मामले में तीन आरोपी की गिरफ्तारी पहले ही हो चुकी थी। वन अमले ने गिरफ्तार आरोपियों के पास से तेंदुए के अवशेष के अलावा अन्य वन्य जीवों के भी अवशेष बरामद किए थे। जिसमें मुख्य रुप से पुरानी बंदर की खोपड़ी, वन्य प्राणी घोरपड़ का चमड़ा, कछुआ का सख्त खोल, मृत सांप का सिर, जंगली सूकर के बाल शामिल है। इसके अलावा शिकार में उपयुक्त जाल व फंदे सहित अन्य सामग्री को भी जब्त किया है। वन अमले ने इस मामले में छिंदीटोला निवासी शंकर उर्फ भीमसेन पिता अदन सिंह आर्मो (३५), हंसराम उर्फ चीरु पिता चैतन सिंह (३५), मेहताप उर्फ मुन्ना पिता लामूसिंह (४८) को गिरफ्तार किया गया है। वहीं इस मामले में फरार चल रहे चमरु पिता रजेसिंह और बिसन उर्फ मसन पिता अदन सिंह को भी गिरफ्तार कर लिया है। जिन्हें अभी वन अमले ने अपनी अभिरक्षा में रखा है।
जानकारी के अनुसार भुरूक कटंगी मार्ग पर जोगीझंडा नाले किनारे तेंदुआ का शव मिला था। मृत मिले तेंदुए के चारों पैर के नाखून, मूंछ और पंूछ गायब है। शंकर उर्फ भीमसेन पिता अंदन सिंह छिंदीटोला निवासी व अन्य चार आरोपियों के द्वारा १६ जनवरी को गुलेल से खेदा कर भरमार बंदुक की सहायता से तेंदुआ का शिकार किया गया था। आरोपियों से पूछताछ के दौरान शंकर के पास से शिकार में प्रयोग की गई भरमार बंदुक जब्त की गई है। शंकर ने भरमार बंदुक से तेंदुए का शिकार करने की बात भी स्वीकार की है। इसके अतिरिक्त शंकर के घर से बंदर की खोपड़ी, वन्य प्राणी घोरपड़ का चमड़ा, कछुआ का सख्त खोल, मृत सांप का सिर, जंगली सूकर के बाल, शिकार में प्रयुक्त जाल व फंदे भी जब्त किए गए हैं। हंसराम के पास से मृत तेंदुआ के शव से निकाले गए मूंछ के बाल बरामद किए गए हैं। इसी तरह मेहताप ने भी शिकार में शामिल होने की बात स्वीकार की है।

Show More
Bhaneshwar sakure Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned