आरोग्य हास्पिटल के संचालक की 1 करोड़ की अघोषित संपत्ति उजागर

लगभग 70-80 लाख रुपए का टैक्स होगा भरना, एक दिन पहले छिंदवाड़ा व बालाघाट की आयकर टीम ने आरोग्य हॉस्पिटल में की थी जांच

By: mukesh yadav

Published: 12 Nov 2017, 08:30 PM IST

बालाघाट। शहर के गुजरी बाजार के निकट संचालित आरोग्य हॉस्पिटल के संचालक के यहां हुई आयकर विभाग की जांच में बेनामी सम्पत्ति मिलने की पुष्टि विभागीय अधिकारियों ने की है। आयकर विभाग के सूत्रों के मुताबिक लगभग 1 करोड़ की अघोषित सम्पत्ति सामने आई और आरोग्य अस्पताल के संचालक ने एक करोड़ की अघोषित सम्पत्ति को सरेंडर किया है। अब इस सम्पत्ति पर आरोग्य अस्पताल के संचालक को लगभग 70 से 80 लाख रुपए का टैक्स चुकाना होगा।
उल्लेखनीय हैं कि विगत 10 नवंबर को बालाघाट और छिंदवाड़ा की आयकर विभाग की टीम ने संयुक्त रूप से आरोग्य हॉस्पिटल में छापा मारा था। इस अस्पताल के संचालक डॉक्टर आरके जैन और उनके पुत्र डॉक्टर शुुधात्म जैन हैं। आयकर विभाग ने इस जांच को रूटिन जांच बताया था। आय से अधिक सम्पत्ति मामले में हुई इस जांच की प्रक्रिया पूरी हो गई हैं। आयकर विभाग ने आरोग्य हास्पिटल के संचालक की सम्पत्ति के दस्तावेजों को खंगाला। जिसमें लगभग 1 करोड़ की सम्पत्ति उनके चल एवं अचल संपत्ति के दस्तावेजों एवं अस्पताल के संचालकों द्वारा दी गई जानकारी से अधिक पाए गए। इस बेनामी सम्पत्ति को लेकर डॉक्टर परिवार को अब आयकर विभाग में लगभग 70 से 80 लाख रुपए जमा करने होगें।
पूर्वजों की संपत्ति पर कारोबार
सूत्रों के मुताबिक आयकर विभाग ने डॉक्टर परिवार की सम्पत्ति को लेकर हुई शिकायत पर यह कार्रवाई की थी। पर आयकर विभाग ने किसी शिकायत की बात को नकार दिया था और कहा था कि यह रूटिन जांच हैं। सूत्रों के मुताबिक आयकर विभाग को डॉक्टर परिवार की बालाघाट मुख्यालय में आरोग्य हास्पिटल के अलावा नवनिर्मित्त निर्माणाधीन हॉस्पिटल और स्थानीय कुछ खरीदी गई प्रापर्टी के दस्तावेज प्राप्प्त हुए हैं। इसके अलावा गांव में कुछ सम्पत्ति के दस्तावेज प्राप्त हुए। हालांकि इस संबंध में डॉक्टर परिवार ने अपनी प्रापर्टी को अपने पूर्वजों की सम्पत्ति बताते हुए उसी पर कारोबार को आगे बढ़ाने की बात कही हैं।
जमा कराना पड़ेगा टेक्स
जानकारी में आया कि आयकर विभाग ने आगामी मार्च माह तक टैक्स की राशि जमा करने की मोहलत दी हैं। टैक्स का स्लैब बढ़ गया हैं। इसलिए एक करोड़ की अघोषित सम्पत्ति पर लगभग 70 से 80 लाख रुपए का टैक्स तय होने का अनुमान हैं। मार्च माह की अवधि तक अगर नियत टैक्स की राशि को जमा नहीं की जाती हैं, तो उस सम्पत्ति को आयकर विभाग अपने आधिपत्य में ले लेगी।
वर्सन
आरोग्य हॉस्पिटल में एक दिन पहले हुए आयकर विभाग की रूटिन जांच की कार्रवाई पूरी हो गई हैं। करीब 1 करोड़ की अघोषित सम्पत्ति का मामला सामने आया हैं। जिसमें 70 से 80 लाख रुपए का टैक्स जमा करना होगा।
यूएस मर्सकोले, बालाघाट आयकर अधिकारी

mukesh yadav Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned