मायावती बोलीं, छह चरणों में गठबंधन की लहर देखकर घबरा गई है बीजेपी

मायावती बोलीं, छह चरणों में गठबंधन की लहर देखकर घबरा गई है बीजेपी
मायावती

Mohd Rafatuddin Faridi | Publish: May, 14 2019 05:02:30 PM (IST) | Updated: May, 14 2019 05:24:53 PM (IST) Ballia, Ballia, Uttar Pradesh, India

सलेमपुर में हुई गठबंधन की रैली, बसपा सुप्रीमो मायावती, सपा मुखिया अखिलेश यादव और आरएलडी अध्यक्ष चौधरी अजीत सिंह ने किया संबोधित।

बलिया . सातवें चरण के लिये राजनीतिक दलों ने अपना पूरा जोर लगा दिया है। सलेमपुर में गठबंधन की संयुक्त जनसभा हुई जिसे बसपा सुप्रीमो मायावती, सपा मुखिया अखिलेश यादव और आरएलडी चीफ चौधरी अजीत सिंह ने संबोधित किया। इस दौरान मायावती ने जहां नरेन्द्र मोदी और बीजेपी पर खूब हमले किये वहीं कांग्रेस को भी नहीं बख्शा। उन्होंने कहा कि छह चरणों में गठबंधन की लहर देखकर बीजेपी घबरा गयी है। यूपी में सभी चरणों की वोटिंग से जो रिपोर्ट मिली है वह बहुत अच्छी और उत्साहित करने वाली है। गठबंधन के पक्ष में एकतरफा वोट पड़ता चला आ रहा है। 23 मई के बाद नमो-नमो वाले जा रहे हैं और अब जय भीम वाले आ रहे हैं। उन्होंने गठबंधन में दरार डालने की कोशिशों का आरोप लगाते हुए नरेन्द्र मोदी को भी आड़े हाथों लिया।

 

मायावती ने कहा कि चुनाव के दौरान इन लोगों ने गठबंधन को कमजोर करने और तोड़ने व भ्रम पैदा करने की कोशिश की है, लेकिन कामयाब नहीं हो सके। इससे ये काफी दुखी हैं। ये गठबंधन के बारे में अनाप-शनाप बातें कह रहे हैं क्योंकि ये खुद फेल हो चुके हैं। उन्होंने बीजेपी केा आगाह करते हुए कहा कि बीजेपी एण्ड कंपनी कितनी भी कोशिश कर ले लेकिन गठबंधन कमजोर पड़ने वाला नहीं। ये लम्बा चलेगा, क्योंकि ये महामिलावटी नहीं बल्कि सामाजिक परिवर्तन का महागठबंधन है। गठबंधन पहले भाजपा को केन्द्र और फिर यूपी की सत्ता से बाहर करेगा।

 

सलेमपुर के प्रत्याशी आरएस कुशवाहा की तारीफ करते हुए कहा कि ये अतिपिछड़े वर्ग से आते हैं और बसपा के सच्चे सिपाही हैं। इन्हें सोनिया गांधी के खिलाफ चुनाव लड़ने को कहा गया तो झट से तैयार हो गए। इन्होंने कभी खुद अपनी इच्छा नहीं जाहिर की, बल्कि पार्टी के आदेश का पालन करते रहे। ये बसपा के प्रदेश अध्यक्ष हैं और इन्हें इस बार हम लोकसभा भेज रहे हैं। कहा कि पूर्वांचल और खासतौर से सलेमपुर में कुशवाहा वोट बहुत है। यहां से जो भी चुनकर गए उन्होंने क्षेत्र का ध्यान नहीं रखा।

 

उनके बाद अखिलेश यादव ने भी अपने संबोधन में भाजपा को ही निशाने पर रखा। उन्होंने कहा कि बीजेपी ने छल करके सरकार बनाई और पांच साल तक धोखा दिया। अब 23 को परिणाम आने के बाद देश की राजनीति में बदलाव आएगा। महागठबंधन की आंधी में इनकी नींव तक का पता नहीं चलेगा।

 

कहा कि सरकार बन जाने पर किसानों को लागत का डेढ़गुना मुनाफा देने और उनकी आय दोगुनी करे का झूठा वादा किया गया था। जो चाय के बहाने सत्ता में पहुंचे वो अब चौकीदार बनकर आ रहे हैं। उनकी चाय खराब निकली, क्योंकि बिना अच्छे दूध के अच्छी चाय नहीं बन सकती। नरेन्द्र मोदी के साथ ही वह योगी आदित्यनाथ को भी निशाने पर लेते रहे। कहा कि चौकीदार के साथ-साथ यूपी में ठोकीदार केा भी हटाना है।

 

अखिलेश यादव ने कहा कि अब बीजेपी की सभाओं में अब न भीड़ है न जोश। न ही नारा लगाने वाले हैं। कहा कि नरेन्द्र मोदी गरीब और किसान के नहीं बल्कि एक प्रतिशत अमीरों के प्रधानमंत्री हैं। आदर्श गांव के नाम पर जो धोखा दिया उसके चलते अब बीजेपी के लोग गांव में नहीं घुस पा रहे हैं। जो सिलिंडर दिया वह भी कोई दोबारा नहीं भरवा पाया।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned