घर की छत पर बनाया गार्डन और उगा दिए 40 प्रकार के दुर्लभ प्रजाति के औषधीय पौधे

बालोद जिले के ग्राम बेलमांड निवासी पुरुषोत्तम राजपूत ने अपने घर के छत पर विलुप्त हो रहे दुर्लभ प्रजाति के 40 प्रकार के औषधि पौधों का रोपण किया है। वे छत पर पॅालीथिन व मिट्टी के सहारे जैविक कृषि भी कर रहे है। वे जैविक खाद के उपयोग से धनिया, मेथी, करेला, टमाटर, लौकी आदि शाक सब्जी, भाजी भी पैदावार कर रहे है।

बालोद @ patrika . जिले के ग्राम बेलमांड निवासी पुरुषोत्तम राजपूत ने अपने घर के छत पर विलुप्त हो रहे दुर्लभ प्रजाति के 40 प्रकार के औषधि पौधों का रोपण किया है। वे छत पर पॅालीथिन व मिट्टी के सहारे जैविक कृषि भी कर रहे है। वे जैविक खाद के उपयोग से धनिया, मेथी, करेला, टमाटर, लौकी आदि शाक सब्जी, भाजी भी पैदावार कर रहे है।

आयुर्वेद चिकित्सा पद्धति आज भी बेहतर
लोगों का नि:शुल्क उपचार के लिए 2017 में पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह ने उन्हें आयुर्वेद के क्षेत्र में बेहतर काम के लिए हर्बल चिकित्सकीय सम्मान से सम्मानित भी किया था। उन्होंने कम उम्र में ही बीमारी के शिकार लोगों को आयुर्वेद चिकित्सा पद्धति अपनाने व जैविक कृषि पर जोर दिया है।

जैविक कृषि को दें बढ़ावा
उन्होंने कहा आज लोग भौतिकवाद होकर भटक गए और रसायनिक खाद से उत्पाद खाद्य के कारण बीमारी के शिकार हो रहे हैं। ऐसे में जैविक कृषि को बढ़ावा देना चाहिए। अपनी परंपरागत पुरातन आयुर्वेद चिकित्सा को अपनाना चाहिए ताकि लोग निरोगी जीवन जी सकें। आयुर्वेद के जानकार लोग भी औषधि पौधे और जैविक खेती को देखने आते हैं। कई लोग उनसे प्रेरणा लेकर जैविक खेती की ओर अग्रसर हो रहे हैं।

घर की छत पर बनाया गार्डन और उगा दिए 40 प्रकार के दुर्लभ प्रजाति के औषधीय पौधे
IMAGE CREDIT: balod patrika

कैंसर दूर करने का भी दावा
पुरुषोत्तम राजपूत पेशे से नाड़ी वैद्य है। घर पर जगह नहीं होने के कारण उन्होंने छत पर ही दुर्लभ औषधि पौधों का रोपण किया है। उन्होंने 40 प्रकार के औषधि पौधे रोपे हैं। पौधे में कैंसर को ठीक करने वाले श्यामा हल्दी, तिलिया कंद, कचनार एवं गुगलु जैसे औषधीय पौधे शामिल हैं। नहीं छत पर सर्पगंधा, शतावर, पारस, पीपल, अर्जुन, अश्वगंधा, मूसली सहित और भी अन्य पौधे हैं।

Show More
Chandra Kishor Deshmukh Bureau Incharge
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned