जब बालोद कलेक्टर को आया गुस्सा तब ग्रामीणों ने पैर पकड़कर कहा, साहब अब हमें मुक्ति दे दो..

जब बालोद कलेक्टर को आया गुस्सा तब ग्रामीणों ने पैर पकड़कर कहा, साहब अब हमें मुक्ति दे दो..

Dakshi Sahu | Publish: Nov, 15 2017 12:01:47 PM (IST) Balod Collectorate, Balod, Chhattisgarh, India

कलेक्टर भीड़ देख ग्रामीणों पर भड़क गए और ग्रामीणों को फटकार लगाई कि आखिर किसके आदेश पर कलक्टोरेट परिसर में आए।

बालोद. ग्राम देवारभाट के ग्रामीण सरपंच, सचिव और रोजगार सहायक की कार्यप्रणाली से इतने त्रस्त हो चुके हैं कि बड़ी संख्या में मंगलवार को उसकी शिकायत लेकर कलक्टोरेट पहुंच गए। वे अधिकारी के पैर पकड़कर कहा साहब इन तीनों को हटाएं, तभी हमें राहत मिल पाएगी।

कलेक्टोरेट परिसर में घुस आए
मामले के अनुसार जिले के ग्राम देवारभाट के ग्रामीण बड़ी संख्या में कलक्टोरेट आकर पंचायत सरपंच, सचिव व रोजगार सहायक की कार्यप्रणाली की शिकायत करने बड़ी संख्या में ग्रामीण नारे लगाते कलेक्टोरेट परिसर में घुस आए, तो अपर कलेक्टर भीड़ देख ग्रामीणों पर भड़क गए और ग्रामीणों को फटकार लगाई कि आखिर किसके आदेश पर कलक्टोरेट परिसर में आए।

रोजगार सहायक मनमर्जी से काम करते हैं

जुलुस के लिए कोई आदेश लिए थे क्या? उसके बाद ग्रामीणों ने अधिकारी से माफी मांगते हुए उनके पैर पकड़ लिए। उसके बाद ग्रामीणों ने अपर कलेक्टर को अपनी समस्या बताई। ग्रामीण राम कुमार ने बताया सरपंच और सचिव व रोजगार सहायक मनमर्जी से काम करते हैं।

दुकान को हटाने की मांग रखी

बिना किसी सूचना के ही रोजगार सहायक की भर्ती कर दी, जो गलत है। इसे नएसिरे से किया जाए। साथ ही स्कूल के पास से गुटखा, पाउच की दुकान को हटाने की मांग रखी। कहा स्कूल के पास गुटखे की दुकान से बच्चों में गलत आदत पड़ रही है।

अधिकारी बोले हो जाएगा काम, तब शांत हुए
ग्रामीणों की मांग पर अपर कलक्टर एके घृतलहरे ने कहा आप सभी की मांग पर कार्रवाई करेंगे। स्कूल के पास से गुटखा पाउच की दुकानें हटावा देंगे। सरपंच, सचिव व रोजगार सहायक द्वारा किए कार्यों में अनियमितता की जांच कर आगे की कार्रवाई की जाएगी। उसके बाद ग्रामीणों ने अपर कलक्टर के पैर छूए और चले गए। अपर कलक्टर ने गांव के पांच सदस्य को कल बुधवार को मिलने के लिए बुलाया है।

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned