ऐसी मजबूरी, फटा हुआ PPE किट पहनकर महिला स्वास्थ्यकर्मी ने कोरोना संदिग्ध को पहुंचाया अस्पताल, बढ़ा संक्रमण का खतरा

संकट की इस घड़ी में स्वास्थ्य कर्मचारी दोहरी मार झेलने को मजबूर है। दरअसल सुरक्षा के लिए पहने जाने वाले पीपीई किट की अनुपलब्धता के कारण महिला स्वास्थ्यकर्मी को फटा हुआ किट पहनकर कोरोना संदिग्ध को अस्पताल पहुंचाना पड़ा।

By: Dakshi Sahu

Published: 16 May 2020, 11:58 AM IST

बालोद. लॉकडाउन 3.0 में ग्रीन जोन बालोद (Balod district) जिले में भी कोरोना का संक्रमण पहुंच गया, जिससे जिले में हड़कम्प मच गया है। जिले के क्वारंटाइन सेंटर में मुंबई से लौटा युवक कोरोना पॉजिटिव मिला है। जिसके बाद उसके संपर्क में आए लोगों को क्वारंटाइन किया जा रहा है। संकट की इस घड़ी में स्वास्थ्य कर्मचारी दोहरी मार झेलने को मजबूर है। दरअसल सुरक्षा के लिए पहने जाने वाले पीपीई किट (PPE kit) की अनुपलब्धता के कारण महिला स्वास्थ्यकर्मी को फटा हुआ किट पहनकर कोरोना संदिग्ध को अस्पताल पहुंचाना पड़ा। संजीवनी 108 एंबुलेंस में कार्यरत महिला ईएमटी को सुरक्षा के लिए किट नहीं दिया गया। उन्होंने मांगकर फटे हुए पीपीई किट से काम चलाया। (coronavirus in chhattisgarh)

मांगना पड़ रहा किट
बढ़ते कोरोना की रफ्तार को देखते हुए जिले के संजीवनी 108 के कोरोना योद्धा की टीम बिना किसी पुख्ता सुरक्षा के ही कोरोना मरीज और उनके संपर्क में आने वालों को अस्पताल ला रही है। जिससे इन कर्मचारियों में भी संक्रमण का खतरा बना हुआ है। जिला अस्पताल को छोड़ जिले के अन्य शासकीय अस्पतालों में पर्याप्त मात्रा में कोरोना से बचने किट नहीं है। न ही संजीवनी 108 के कर्मचारियों के पास किट है। ऐसे में कोरोना पॉजिटिव या कोरोना संदिग्ध मरीजों की जानकारी मिलती है तो पहले अस्पताल प्रबंधन से किट मांगते हैं, फिर मरीजों को लाने
जाते हैं।

ऐसी मजबूरी, फटा हुआ PPE किट पहनकर महिला स्वास्थ्यकर्मी ने कोरोना संदिग्ध को पहुंचाया अस्पताल, बढ़ा संक्रमण का खतरा

ईएमटी ने साल्हे के युवक को कोरोना अस्पताल पहुंचाया
कोकान में मिले कोरोना पॉजिटिव मरीज के बाद अब जिला स्वास्थ्य एवं महामारी नियंत्रण विभाग के अधिकारियों ने युवक के संपर्क में आने वालों को तलाश शुरू कर दी है। उन्हें कोरोना अस्पताल या क्वारंटाइन सेंटर पहुंचाया जा रहा है। वही शुक्रवार को डौंडी की संजीवनी 108 की टीम ने पॉजिटिव मरीज के संपर्क में आने वाले साल्हे के युवक को महिला ईएमटी ने फटा किट पहनकर कोरोना अस्पताल पहुंचाया।

कोरोना संक्रमण के योद्धा को सुरक्षित रखना जरूरी
जिले के संजीवनी 108 की टीम के पास एक भी सुरक्षा किट नहीं है। यहां तक एम्बुलेंस संचालक जय अम्बे एम्बुलेंस सेवा कम्पनी ने भी कोई सुरक्षा के साधन उपलब्ध नहीं कराया है। जिला स्वास्थ्य विभाग 108 टीम के लिए उनके कार्यालय में पर्याप्त मात्रा में सुरक्षा किट उपलब्ध कराए, जिससे कोरोना या फिर संदिग्ध केस आने पर मरीज लाने में सुविधा हो। वर्तमान में केस आने पर अस्पताल प्रबंधन का इंतजार करना पड़ता है।

अस्पताल पहुंचते ही रो पड़ा संपर्क में आया युवक
कोरोना पॉजिटिव मरीज युवक से जब स्वास्थ्य विभाग ने पूछताछ की, उसके साथ कितने लोग थे। तब पता चला कि साल्हे का भी युवक है। उस युवक को कोरोना अस्पताल लाया गया। जब उसे क्वारंटाइन करने अंदर ले जा रहे थो युवक रो पड़ा। वह कोरोना अस्पताल से वापस घर जाना चाह रहा था। दरअसल इस युवक में बुखार के लक्षण पाए गए हैं। जिसके बाद इसे अस्पताल में लाया गया।

coronavirus
Show More
Dakshi Sahu
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned