बालोद के लीड कॉलेज बड़ी गड़बड़ी, जनभागीदारी समिति की राशि में नौ लाख का हेरफेर

बालोद के लीड कॉलेज बड़ी गड़बड़ी, जनभागीदारी समिति की राशि में नौ लाख का हेरफेर

Dakshi Sahu | Publish: Oct, 13 2018 01:31:00 PM (IST) Balod, Chhattisgarh, India

प्राचार्य ने कहा पुरानी जांच के आधार पर कार्रवाई करेंगे। पहली जांच में 9 लाख, 7 हजार रुपए की गड़बड़ी होने की पुष्टि हो चुकी है।

बालोद. जिले के लीड कॉलेज में जनभागीदारी समिति की राशि में लाखों रुपए की गड़बड़ी सामने आई है। पिछली बार जांच में मामले में बाबू द्वारा की गई गड़बड़ी पकड़ी गई थी, फिर भी मामला दबा दिया गया था। कॉलेज में नए प्राचार्य के पदभार ग्रहण करने के बाद मामले पर कार्रवाई की तैयारी है। प्राचार्य ने कहा पुरानी जांच के आधार पर कार्रवाई करेंगे। पहली जांच में 9 लाख, 7 हजार रुपए की गड़बड़ी होने की पुष्टि हो चुकी है।

शुल्क में गड़बड़ी की
विभाग के बाबू ने ही कॉलेज में छात्र-छात्राओं से हर साल लिए जाने वाले जनभागीदारी शुल्क में गड़बड़ी की है। गड़बड़ी एक-दो नहीं बल्कि 9 लाख रुपए की है। इसकी कॉलेज प्रबंधन को पूरी जानकारी होने के बावजूद मामले को दबाए रखा गया। पत्रिका इस बड़े मामले का खुलासा कर रहा है, तब जाकर वर्तमान प्राचार्य ने मामले पर कार्रवाई करने की बात कही है।

गड़बड़ी का यह मामला
विद्यार्थियों से महाविद्यालय विकास के लिए ली जाने वाली जनभागीदारी शुल्क का यहां सदुपयोग नहीं हो पा रहा है। कॉलेज के पूर्व प्राचार्य ने इस मामले में जांच भी कराए थे, जांच में गड़बड़ी की पुष्टि भी हुई। जांच दल ने रिपोर्ट भी प्राचार्य को सौंपी थी, पर भी इस मामले में दोषी पर कार्रवाई नहीं की जा सकी। इसलिए शासकीय राशि में लाखों की गड़बड़ी करने वाले कर्मचारी अभी भी बिंदास है। कहा जाए कि कॉलेज प्रबंधन ही दोषी को संरक्षण दे रहे हैं।

बाबू को दिया था दो दिनों का समय
इस मामले में पूर्व प्राचार्य मिश्रा ने कहा जनभागीदारी की राशि मामले में गड़बड़ी सामने आई थी। हमने गड़बड़ी करने वाले बाबू को दो दिन का समय दिया था, पर दो दिन में राशि जमा की है या नहीं इसकी जानकारी नहीं है। गड़बड़ी की है तो इस पर कार्रवाई होना चाहिए। कॉलेज सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक यह गड़बड़ी बीते 6 माह से चल रही है, पर किसी को भनक तक नहीं लगी।

जब जनभागीदारी निधि की राशि जमा करने वाले कॉलेज के सहायक ग्रेड-2 अधिकारी कुलेश्वर बघेल की कार्यप्रणाली व हाव-भाव में परिवर्तन देखा गया, तो गड़बड़ी की आशंका हुई। उसके बाद पूर्व प्राचार्य मिश्रा ने 15 दिन पहले ही इस मामले की जांच करने चार सदस्यीय टीम बनाई थी। टीम ने जांच रिपोर्ट भी पूर्व प्राचार्य को सौंपी थी। रपोर्ट में गड़बड़ी होने की पुष्टि हुई थी, पर भी मामले में अब तक संबंधित पर कोई कार्रवाई नहीं की जा सकी है। पहली जांच में 9 लाख, 7 हजार रुपए की गड़बड़ी होने की पुष्टि हुई है। बताया जा रहा है कि इस मामले की सहीं जांच कराई जाए तो और भी गड़बड़ी सामने आ सकती है।

शासकीय पीजी कॉलेज बालोद में रेगुलर विद्यार्थी लगभग 2500 हैं, वहीं प्राइवेट विद्यार्थी लगभग 4 हजार के लगभग हैं। पीजी कॉलेज से मिली जानकारी के मुताबिक रेगुलर विद्यार्थियों से जनभागीदारी शुल्क के रूप में 300 रुपए से कक्षा अनुसार 500 तक प्रति विद्यार्थी लिया जाता है, वहीं प्राइवेट विद्यार्थियों से प्रति छात्र 400 रुपए लिया जाता है। इन्हीं राशि को गबन किया गया है। बताया जाता है कि स्टेट बैंक में जनभागीदारी के नाम से अलग से बैंक खाता है, पर इस खाते में इसके शुल्क की राशि को जमा ही नहीं कराया गया है।

मामला दबाने का प्रयास
बताया जाता है कि पूर्व प्राचार्य ने कॉलेज के बाबू कुलेश्वर बघेल को दो दिनों के भीतर गड़बड़ी की गई राशि को जमा करने के निर्देश दिए थे, पर कितनी राशि वापस की गई इसकी भी कोई जानकारी कॉलेज प्रबंधन को नहीं है। पर जिस तरह से आरोपी पर धीमी कार्रवाई हो रही है उससे ऐसा लगता है कि पूरे कॉलेज प्रबंधन इस मामले की कड़ी जांच व दोषी पर कार्रवाई की बजाय मामले को दबाने के फिराक में है।

जांच में मिली गड़बड़ी, फिर हो गया तबादला: पूर्व प्राचार्य मिश्रा
पीजी कॉलेज बालोद के पूर्व प्राचार्य मिश्रा से जब इस मामले में पत्रिका ने जानकारी ली, तो उन्होंने कहा कि मामले की जांच कराई गई थी। जांच रिपोर्ट में गड़बड़ी की पुष्टि हुई है। कॉलेज के बाबू कुलेश्वर बघेल को फटकार भी लगाई गई थी। उन्हें कड़े निर्देश दिए गए थे कि दो दिनों के भीतर हर हाल में पूरी राशि जमा करा दें, नहीं तो कानूनी कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि इस निर्देश के बाद मेरा कॉलेज से ट्रांसफर हो गया और आगे क्या कार्रवाई की गई उसकी जानकारी नहीं हो पाई है।

जांच रिपोर्ट व फाइल देखकर करेंगे कार्रवाई: प्राचार्य खलखो
इधर वर्तमान प्राचार्य जेके खलखो ने कहा इस मामले की अभी मुझे जानकारी नहीं है। अभी मैं पदभार ग्रहण किया हूं। मामले की फाइल को देखकर आगे की कार्रवाई की जाएगी। दोषी के खिलाफ कानूनी कार्रवाई भी कराई जाएगी। मामले में कॉलेज के जनभागीदारी शुल्क के प्रभार में रहे बाबू कुलेश्वर बघेल जिन पर समिति में जमा राशि के हिसाब-किताब की जिम्मेदारी है उसके मोबाइल फोन पर संपर्क करने का प्रयास किया गया, पर उनका मोबाइल बंद बताया।

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned