शर्मनाक: बलात्कार पीडि़ता मेडिकल टेस्ट कराने छह घंटे बैठी रही अस्पताल के गलियारे में, CS ने लेडी डॉक्टर को थमाया नोटिस

कलेक्टर जनमेजय महोबे ने तत्काल सिविल सर्जन एसएस देवदास से सम्पर्क किया और जानकारी मांगी। बिना बताए ड्यूटी से नदारद चिकित्सक को नोटिस जारी करने के निर्देश दिए। (Rape case in Balod)

By: Dakshi Sahu

Updated: 30 Jul 2020, 06:55 PM IST

दुर्ग. दुर्ग संभाग के बालोद जिले के जिला अस्पताल में शर्मशार कर देने वाली घटना सामने आई है। यहां दुष्कर्म की पीडि़ता नाबालिग लड़की को मेडिकल टेस्ट करवाने के लिए 6 घंटे इंतजार करना पड़ा। दोपहर 12 बजे से अस्पताल गई पीडि़ता की शाम 6 बजे मेडिकल जांच हुई। तब तक वह अस्पताल में ही बैठी रही।

कलेक्टर जनमेजय महोबे ने तत्काल सिविल सर्जन एसएस देवदास से सम्पर्क किया और जानकारी मांगी। बिना बताए ड्यूटी से नदारद चिकित्सक को नोटिस जारी करने के निर्देश दिए। सिविल सर्जन ने ड्यूटी नहीं आने वाली डॉ. प्रभा बर्मन को कारण बताओ नोटिस जारी कर तत्काल जवाब मांगा है। इसके पूर्व घटना की जानकारी मिलने पर सिविल सर्जन ने डॉ. प्रभा बर्मन से मोबाइल से सम्पर्क किया, लेकिन उन्होंने फोन रिसीव नहीं किया था।

चिकित्सक ने की लापरवाही
बलात्कार पीडि़ता के जांच के मामले में सिविल सर्जन एसएस देवदास ने मामले पर कहा कि यह बड़ी लापरवाही है। जिस चिकित्सक की ड्यूटी लगाई गई थी वह ड्यूटी पर नहीं आई। फोन भी रिसीव नहीं किया। इस लापरवाही के लिए उसे कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है।

Show More
Dakshi Sahu Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned