बालोद: हाथियों के दल पर ग्रामीणों ने फिर बरसाए पत्थर, रास्ता रोके जाने से खफा दो DFO आपस में भिड़े, CCF से शिकायत

डीएफओ ने कहा कि हाथी को बिना नुकसान पहुंचाए जिले से बाहर भानुप्रातपपुर के जंगल जाने का प्रयास कर रहे हैं, लेकिन वहां के ग्रामीण पत्थरबाजी करते हैं।

By: Dakshi Sahu

Updated: 25 Oct 2020, 02:24 PM IST

बालोद. जिले के जंगल में पहुंचे चंदा हाथिनी के साथ 22 हाथियों के दल ने शुक्रवार को फिर बस्तर के भानुप्रातपपुर जंगल में प्रवेश किया। लेकिन रात 7 बजे करीब भानुप्रतापपुर वन क्षेत्र से लगे गांव के ग्रामीणों ने उन पर फिर पत्थर बरसा दिया। मशाल एवं टार्च जलाकर कर हाथियों को वापस बालोद जिले की वन क्षेत्र सीमा रजोलीडीह जंगल भेज दिया। दोबारा इस तरह की हरकत से बालोद वन विभाग की डीएफओ ने भानुप्रतापपुर वन क्षेत्र में हाथियों पर हो रहे अत्याचार की शिकायत सीसीएफ से की है।

डीएफओ ने कहा कि हाथी को बिना नुकसान पहुंचाए जिले से बाहर भानुप्रातपपुर के जंगल जाने का प्रयास कर रहे हैं, लेकिन वहां के ग्रामीण पत्थरबाजी करते हैं। पटाखे फोड़ते हैं। टार्च एवं मशाल जलाने लगते हैं। जो गलत है। अब भानुप्रतापपुर डीएफओ व बालोद डीएफओ आमने-सामने हो गए हैं। एक-दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप लगा रहे हैं। इस घटना की जानकारी वन विभाग मुख्यालय रायपुर तक पहुंच गई है।

दिनभर नहीं मिली हाथियों की खबर
शुक्रवार रात्रि हाथियों का दल वापस आने के बाद शनिवार को दिनभर दल की खबर नहीं मिली। डौंडी वन परिक्षेत्र रेंजर पुष्पेंद्र साहू ने बताया कि शुक्रवार को दल रजोलीडीह के जंगल में था, लेकिन शनिवार से उनकी खबर नहीं है। अंदेशा है कि वह रजोलीडीह के जंगल में ही होंगे। इधर वन विभाग के अमले ने ग्रामीणों को भी अलर्ट कर दिया है। उन्हें हाथियों से छेडख़ानी नहीं करने की सलाह दी है।

बालोद वन अमले ने रोका हाथियों का रास्ता
भानुप्रतापपुर डीएफओ मनीष कश्यप ने कहा कि हम अपने वन क्षेत्र से लगे ग्रामीणों को समझाने का प्रयास कर रहे हैं, लेकिन वन विभाग बालोद ने कोरर जंगल के पास पुलिया पर मशाल जला कर अपनी टीम की तैनाती कर दी है। जबकी हाथियों का दल कोरर जंगल जाना चाह रहे है। हम भी खुद चाहते हैं कि हाथी अपने रास्ते चले जाएं। रास्ते पर वन विभाग बालोद के कर्मचारी बैठ गए हैं। इस वजह से हाथी गांव में घुस गए थे, जिसे भगाने गांव वालों ने पटाखे फोड़े, डमरू बजाए व कुछ जगहों पर पत्थरबाजी की भी शिकायत मिली है। हम ग्रामीणों को समझा भी रहे हैं कि हाथियों के साथ छेडख़ानी न करें।

डीएफओ ने कहा-हाथी हमारे जंगल में ही रहे तो मंजूर है
डीएफओ सतोविशा समाजदार ने कहा कि हाथियों के दल ने गुरुर ब्लॉक से डौंडी ब्लॉक तक सफर कर लिया, लेकिन किसी भी प्रकार का बड़ा नुकसान नहीं पहुंचाया। उनके रास्ते में खेत आए तो फसल को नुकसान हुआ है, जिसका चिन्हांकन कार्य अंतिम चरण में है। प्रभावित किसानों को मुआवजा मिलेगा। भानुप्रतापपुर से हाथियों को खदेड़ा जा रहा है। वापस बालोद जिले के जंगल में हाथियों का दल है, हमे इससे कोई आपत्ति नहीं है।

अब डर कहीं हाथियों को न आ जाए गुस्सा
हाथी शांत स्वभाव के हैं। यही वजह है कि इस दल पर ग्रामीण पत्थरबाजी व छेडख़ानी कर रहे हैं। बार-बार हो रही पत्थरबाजी से हाथियों को गुस्सा न आ जाए। डर भी है कि गुस्से में आने से बड़ी घटना घट सकती है। लेकिन यह बात ग्रामीण नहीं समझ रहे है।

दो बार हो चुकी है पत्थरबाजी की घटना
वन विभाग के मुताबिक तीन दिन पहले भी हाथियों दल इरागांव के पास पहाड़ पर चढऩे का प्रयास किया, लेकिन भानुप्रतापपुर की सीमा से लगे गांव के ग्रामीणों ने पत्थर बाजी कर दी। यही घटना शुक्रवार शाम 7 बजे हुई। इस बार हाथी पहाड़ को पार कर भानुप्रतापपुर के एरिया में प्रवेश कर चुके थे। पत्थरबाजी, मशाल जलाने के कारण रात्रि 9 बजे के करीब रजोलीडीह के जंगल में आ गए, जो अभी भी वहीं पर मौजूद है।

पहाड़ पार कर ग्रामीण इलाके में घुस रहे हाथी
भानुप्रतापपुर के डीएफओ ने कहा कि भानुप्रतापपुर के जंगल से लगे ग्रामीणों को निर्देश है कि हाथियों से छेडख़ानी न करें। शुक्रवार को इरागांव की बस्ती में घुस गए थे। इस वजह से ग्रामीण घबरा गए। पत्थरबाजी व डमरू बजाने लगे। हालांकि वन विभाग बालोद भी जिस रास्ते पर हाथी जाना चाहता है, वहां पर अपने कर्मचारी तैनात कर दिए है। हाथी पहाड़ पार कर ग्रामीण इलाके में घुस रहे हंै। दरअसल हाथियों का दल कोरर के जंगल मार्ग की ओर जाना चाह रहे हैं। जानकारी विभाग के उच्च अधिकारी को भी दे दी है।

वन कर्मियों को वापस बुलाया
बालोद डीएफओ सतोविशा समाजदार ने कहा कि गरियाबंद से धमतरी होते हुए हाथी बालोद जिला में प्रवेश किया। गुरुर वन क्षेत्र से होते हुए डौंडी वन क्षेत्र तक बिना किसी परेशानी के सफर किया। जब भानुप्रतापपुर के रास्ते में जाने का प्रयास करते हैं तो वहां के ग्रमीणों ने हाथियों पर पत्थरबाजी व पटाखे फोड़कर वापस बालोद जिले की ओर खदेड़ देते हैं। हमने इसकी जानकारी भी सीसीएफ को दे दी है। भानुप्रतापपुर वन विभाग हमारे ही वन कर्मियों पर दोषारोपण कर रहा है। जिसके बाद हमने अपने सभी वन कर्मियों को रजोलीडीह वापस बुला लिया है।

Show More
Dakshi Sahu Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned