40 करोड़ का बाइपास वन विभाग को पौधरोपण के लिए जमीन नहीं मिलने के कारण अधर में

40 करोड़ का बाइपास वन विभाग को पौधरोपण के लिए जमीन नहीं मिलने के कारण अधर में
40 करोड़ का बाइपास वन विभाग को पौधरोपण के लिए जमीन नहीं मिलने के कारण अधर में

Chandra Kishor Deshmukh | Updated: 18 Sep 2019, 08:11:11 AM (IST) Balod, Balod, Chhattisgarh, India

राज्य शासन द्वारा ग्राम तरौद से दैहान तक 40 करोड़ की लागत से बनने वाली बाइपास सड़क निर्माण विभागों की स्वीकृित और मुआवजा के पेंच के चलते अधर में लटकता दिख रहा है।

बालोद @ patrika. राज्य शासन द्वारा ग्राम तरौद से दैहान तक 40 करोड़ की लागत से बनने वाली बाइपास सड़क निर्माण विभागों की स्वीकृति और मुआवजा के पेंच के चलते अधर में लटकता दिख रहा है। निर्माण की जद में आने वाले किसानों को मुआवजा के अलावा वन विभाग को पौधरोपण के लिए अभी तक जमीन नहीं मिलने के कारण मामले में देरी हो रही है।

वन विभाग ने दे दी है पेड़ काटने की अनुमति
लोक निर्माण विभाग ने साफ कहा है कि जब तक किसानों को मुआवजा नहीं मिलेगा तब तक निर्माण शुरू नहीं किया जाएगा। वहीं वन विभाग ने तो पेड़ काटने की अनुमति दे दी है पर बदले में पौधरोपण के लिए अन्य जगह पर जमीन नहीं मिलने के कारण कटाई शुरू नहीं हो पा रही है।

ढाई हजार पेड़ काटने पड़ेंगे
बता दें कि जिले के दूसरे बाइपास सड़क निर्माण के लिए लगभग 2500 छोटे बड़े पेड़ों की कटाई के लिए पीडब्ल्यूडी ने चिंहित कर वन विभाग को दे दिया है। वन विभाग के 6 हेक्टेयर पर लगे पेड़ों की कटाई के बदले राजस्व विभाग द्वारा अन्य जगह पर जमीन दी जाएगी। जिले में देने लायक 12 हेक्टेयर जमीन कहीं पर भी नहीं मिल रही है। बायपास के लिए पीडब्ल्यूडी ने वन विभाग की 6 हेक्टेयर जमीन का अधिग्रहण किया है। इस 6 हेक्टेयर जमीन के बदले राजस्व विभाग द्वारा वन विभाग को दोगुणा जमीन यानी 12 हेक्टेयर दी जाएगी। राजस्व विभाग को जिले में कहीं पर भी 12 हेक्टेयर खाली जमीन नहीं मिल रही है।

12 हेक्टेयर मेंं किया पौधरोपण
पीडब्ल्यूडी ने इस सड़क निर्माण के लिए वन विभाग की जमीन में आने वाले 2500 पेड़ की कटाई करने चिन्हाकित किया है। वन विभाग को इस शर्त पर अनुमति दी गई है कि जितने पेड़ों की कटाई की जाएगी उससे दोगुणा जमीन किसी अन्य जगह पर पौधरोपण के लिए दी जाएगी। जानकारी के अनुसार जमीन वन विभाग को अभी तक नहीं मिली है।

9 किसानों को अभी तक नहीं मिला मुआवजा
विभागीय जानकारी के मुताबिक इस बायपास सड़क निर्माण में कुल 35 किसानों की 1.46 हेक्टेयर जमीन दायरे आ रही है। अभी भी 9 किसानों को मुआवजा दिया जाना शेष है। इन किसानों को मुआवजा देने की प्रक्रिया चल रही है। सभी किसानों को मुआवजा मिलने के बाद ही सड़क निर्माण की टेंडर प्रक्रिया शुरू होगी।

40 करोड़ का बाइपास वन विभाग को पौधरोपण के लिए जमीन नहीं मिलने के कारण अधर में
IMAGE CREDIT: balod patrika

सात किमी सड़क निर्माण पर होंगे 40 करोड़ खर्च
बता दें कि ग्राम तरौद से दैहान तक, अमलीडीह, खेरथाडीह और देहान होते हुए यह सड़क बनाई जाएगी। सड़क 7.8 किमी लंबी और सात मीटर चौड़ी होगी। बायपास सड़क बन जाने से नगर में भारी वाहनों का प्रवेश नहीं होगा। इसका उपयोग भारी मालवाहक वाहनों को शहर से बाहर ले जाने के लिए किया जाएगा।

7 किमी के दायरे में 2500 पेड़ काटे जाएंगे
इस बायपास सड़क निर्माण के लिए लगभग 2500 पेड़ों की कटाई की जाएगी। सात मीटर के दायरे में आने वाले छोटे छोटे पेड़ों को काटे जाएंगे। पेड़ों को विभाग की ओर से चिन्हांकन कर लिया गया है। जल्द ही वन विभाग से अनुमति एवं किसानो को मुआवजा के बाद सड़क निर्माण के लिए टेंडर की कार्यवाही शुरू की जाएगी।

मुआवजा के बाद कार्यवाही शुरू की जाएगी
पीडब्ल्यूडी के एसडीओ बीके गोटी ने कहा कि किसानों को मुआवजा मिलने के बाद सड़क निर्माण की कार्यवाही शुरू की जाएगी। निर्माण की जद में आने वाले लगभग 2500 पेड़ों का चिन्हांकन कर वन विभाग को भेजा गया है। वन विभाग को उनकी जमीन के बदले अन्य जगह पर जमीन देने के बाद ही आगे की कार्यवाही की जाएगी।

Show More

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned